• shareIcon

बुर्जुर्गों को अच्छी नींद में मदद करता है मेडिटेशन

तन मन By Aditi Singh , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Feb 23, 2015
बुर्जुर्गों को अच्छी नींद में मदद करता है मेडिटेशन

उम्र बढ़ने के साथ कई तरह की समस्‍यायें होने लगती हैं, अनिद्रा की समस्‍या भी इनमें से प्रमुख है, बुजुर्ग इस समस्या से निजात पाने के लिए मेडिटेशन का सहारा ले सकते हैं।

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में युवाओं में रात में नींद न आने की समस्‍या देखी जाती है, लेकिन बुजुर्गों में यह समस्‍या उम्र बढ़ने के साथ ही होने लगती है। इससे स्वास्थ्य पर भी बहुत बुरा असर पड़ता है। दिनभर की थकान के बाद जब रात में ठीक से नींद ना आए तो उनके लिए ये बहुत कष्टकारी हो जाता है। हालांकि इसे से दूर किया जा सकता है। आइए हम आपको बताते है कि कैसे बुजुर्ग मेडिटेशन करके अपनी सेहत का ख्याल रख सकते है।

 

Meditation

 

अनिद्रा की शिकायत

इन्सोमेनिया और ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्‍नीया अनिद्रा की दो श्रेणियां हैं। नींद न आना, जबरदस्ती नींद का प्रयास करना, करवटें या फिर घूम-घूमकर रात बिताने की मजबूरी इन्सोमेनिया कहलाती है। जबकि सांस लेने में रुकावट की वजह से नींद का बाधित होना, कई बार स्लीप एप्‍नीया कहलाता है। इसके शिकार लोग खर्राटे लेकर भी सो जाते हैं, लेकिन इसे बेहतर नींद नहीं कह सकते।

ध्यान है कारगर

बेहतर नींद के लिए प्राकृतिक उपचार बेहतर हो सकता है। अनिद्रा की एक वजह मस्तिष्क की एकाग्रता की कमी भी हो सकता है। इस बिंदु को ध्यान में रख कर ही मेडीटेशन को महत्व दिया जाता है। डॉक्टर्स का भी मानना है कि मेडीटेशन इस समस्‍या के उपचार में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। कैंसर जैसी बीमारी के उपचार में भी मेडीटेशन के फायदे को देखा गया है।

मेडीटेशन आपके भीतर के तनाव को कम करता है जिससे आपको चैन की नींद आती है। भरपूर नींद शरीर को ऊर्जावान रखने के साथ तरोताजा भी रखता है। मेडीटेशन से उम्र भी बढ़ती है। इसका अभ्‍यास करने से चित्त शांत रहेगा, मन खुश रहेगा तो बीमारियां कम होंगी, इम्यून सिस्टम भी मजबूत रहेगा। जोड़ों के रोग से लेकर सिरदर्द, हर समय चिंता, घबराहट व नर्वस डिसऑर्डर जैसे मनोरोगों के लिए भी मे‍डीटेशन दवा का काम करता है।

Meditation

नींद की गोली से बचें

बेहतर नींद के लिए नींद की गोलियों का सहारा लेना ठीक नही है। दवा लेने का मतलब है कि हम मस्तिष्क को जबरन नींद के चरण में लाना चाहते हैं। दवा का लंबे समय तक प्रयोग मस्तिष्क की क्रियाशीलता को कम करके, याद्दाश्त कमजोर कर सकता है। दवाओं के नकारात्मक असर के कारण मुंह सूखना और भूख कम लगना आदि समस्याएं होती हैं। टॉक्सिक होने के कारण इसका इस्तेमाल रक्तचाप को भी अनियंत्रित करता है।

मेडीटेशन न केवल उम्रदराज लोगों के लिए बल्कि युवाओं के लिए भी फायदेमंद है, इसलिए सभी को सुबह के वक्‍त योग के आसनों को आजमाना चाहिए।

 

 

Courtesy@gettyimages

Read More Articles on Meditation in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।