महिलाओं की तरह पुरुषों में भी नज़र आते हैं प्रेग्नेंसी जैसे लक्षण, इस अवस्था को कहते हैं 'कौवेड सिंड्रोम'

Updated at: May 31, 2020
महिलाओं की तरह पुरुषों में भी नज़र आते हैं प्रेग्नेंसी जैसे लक्षण, इस अवस्था को कहते हैं 'कौवेड सिंड्रोम'

आज के इस आर्टिकल में हम आपको प्रेग्नेंसी के दौरान अक्सर दिखाई देने वाली एक कंडीशन 'कौवेड सिंड्रोम' के बारे में बताने वाले हैं।

सम्‍पादकीय विभाग
पुरुष स्वास्थ्यWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: May 31, 2020

यह एक ऐसी अवस्था है जो सिर्फ पुरुषों में पाई जाती है। कौवेड सिंड्रोम(Couvade Syndrome) से ग्रसित पुरुष, प्रेग्नेंट महिला पार्टनर के समकक्ष खुद को प्रेग्नेंट मानने लगते हैं। आखिर ऐसे क्यों होता है, इसकी पुख्ता जानकारी तो मेडिकल साइंस के पास भी मौजूद नहीं है, हालांकि इससे जुड़ी कुछ थ्योरी या कहें रिसर्च ज़रूर मौजूद है। वैसे आपको बता दें कि, कौवेड सिंड्रोम कोई मानसिक बीमारी नहीं है ना ही यह कोई हेल्थ इशु है। तो आखिर कौवेड सिंड्रोम है क्या, आइए इस पर विस्तार से नज़र डालते हैं। 

सिमपैथी प्रेग्नेंसी या कह लें प्रेग्नेंट डैड सिंड्रोम (Sympathy pregnancy)

कौवेड सिंड्रोम को सिमपैथी  प्रेग्नेंसी और प्रेग्नेंट डैड सिंड्रोम भी कहा जाता है। इस दौरान  पुरुष ठीक वैसा ही अनुभव करते हैं जैसा कि प्रेग्नेंसी के दौरान उनकी महिला पार्टनर महसूस करती हैं।कौवेड सिंड्रोम के दौरान पुरुषों में नीचे दिए हुए लक्षण दिखाई देते हैं।

Sympathy Pregnancy Symptoms

  • -पेट में दर्द, सूजन, दस्त, या कब्ज जैसी समस्या से दो चार होना
  • -पेट में जलन बनी रहना 
  • -पीठ दर्द, पैरों में ऐंठन
  • -भूख में बदलाव, वजन बढ़ना
  • -दांतों में दर्द
  • -सांस संबंधी समस्याएं
  • -चिंता या अवसाद के लक्षण
  • -बेचैनी, नींद न आना, नींद की आदतों में  बदलाव आदि।  

कौवेड सिंड्रोम की वजह (Reason of Couvade-Syndrome)

Pregnant Dad Syndrome

मेडिकल साइंस के पास इस बात की  पुख्ता जानकारी नहीं है जो बता पाए कि कौवेड सिंड्रोम होने की मुख्य वजह क्या है। हालांकि, इससे जुड़ी कुछ रिसर्च ज़रूर हैं जिनसे हमें इस सिंड्रोम के बारे में जानकारी मिलती है। 

हार्मोन में बदलाव ( Hormonal Change)

रिसर्च से पता चलता है कि हार्मोन में बदलाव भी कौवेड सिंड्रोम की मुख्य वजह है। एक्सपर्ट्स के मानें तो, टेस्टोस्टेरोन का गिरता स्तर और एस्ट्राडियोल नामक हार्मोन की अधिक मात्रा पुरुषों में कौवेड सिंड्रोम के विकास की मुख्य वजह बनती है।

इमोशनल अटैचमेंट (Emotional Attachment)

कौवेड सिंड्रोम की दूसरी सबसे बड़ी वजह है इमोशनल अटैचमेंट। जो पुरुष अपनी प्रेग्नेंट पार्टनर के साथ भावनात्मक रूप से अत्यधिक अटैच रहते हैं, उनमें कौवेड सिंड्रोम होने की संभावना सर्वाधिक रहती है।

इसे भी पढ़ें: पिज्जा, फ्राइज, सोडा घटाते हैं स्पर्म काउंट, वैज्ञानिकों ने बताया क्या खाकर स्पर्म काउंट बढ़ा सकते हैं पुरुष

Couvade Syndrome

साइकोलॉजिकल बदलाव (Psychological Change)

वहीं, कुछ एक्सपर्ट्स का यह भी मानना है कि कौवेड सिंड्रोम के पीछे मेंटल हेल्थ भी एक बड़ा फैक्टर हो सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले मूड स्विंग, आदतों में बदलाव आदि को भी कौवेड सिंड्रोम से जोड़कर देखा जाता है।

जरूरी बात

यह लक्षण देख ,आपको चिंतित होने की कतई ज़रुरत नहीं है। यह एकदम सामान्य अवस्था है जो महिला पार्टनर की प्रेग्नेंसी के तीसरे महीने में पुरुषों में दिखाई देती हैं। एक्सपर्ट्स की मानें तो यह लक्षण अपने आप सामान्य होते जाते हैं और बच्चे के जन्म के बाद अपने आप समाप्त हो जाते हैं।

Read More Article On Men's Health In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK