• shareIcon

मानसिक बीमारी है नाखून चबाना

लेटेस्ट By Bharat Malhotra , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Nov 05, 2012
मानसिक बीमारी है नाखून चबाना

क्‍या बाकई में नाखून चबाना मानसिक बीमारी है।

manshik bimari hai nakhun chabana

हमें बचपन में कितनी बार नाखून चबाने की अपनी आदत को लेकर डांट पड़ी होगी। और आज भी कितनी ही बार हम तनाव के समय में हम नाखून चबाते हुए सोच के सागर में गोते लगाते है। यह जानते हुए भी कि नाखून चबाने की आदत अच्‍छी नहीं है हम इससे पूरी तरह से निजात नहीं पा पाते। ऐसा नहीं है कि आम लोग ही इस आदत के शिकार हैं। आपने क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर को मैदान में अपने नाखून चबाते हुए जरूर देखा होगा। दुनिया भर में करोड़ों लोग इस आदत के शिकार हैं। मगर यह आदत दीवानगी बन जाए तो चिंता की बात है।

[इसे भी पढ़े- 10 आसान रास्ते तनाव मुक्ति के]

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के शोधकर्ताओं ने हालिया शोध में इस आदत के आयामों पर चर्चा की गयी है। इसमें दावा किया गया है कि नाखून चबाना सिर्फ एक गंदी आदत ही नहीं है बल्कि एक एक मानसिक बीमारी है। शोध में तो यहां तक दावा किया गया है कि इस आदत से छुटकारा पाना उतना ही मुश्किल है जितना कि धूम्रपान की लत छोड़ना।

[इसे भी पढ़े- व्यस्त दिमाग है स्वस्थ दिमाग]

चिकित्‍सा विशेषज्ञ अब नाखून चबाने की आदत को मनोरोग की श्रेणी में रखने जा रहे हैं। अमेरिकन साइकेट्री एसोसिएशन इसे 'सामान्‍य गंदी आदत' की जगह 'सनकी बाध्‍यकारी विकार' यानी ओसीडी की श्रेणी में शामिल करने जा रहा है। अमेरिकी चैनल एनबीसी ने एसोसिएशन के हवाले से बताया कि 'डायोगो‍नेस्टिक एंड स्‍टेटस्टिकल मैनुअल ऑफ मेंटल डिसऑर्डर' के आगामी संस्‍करण में नाखून कुतरने की आदत को ओसीबी श्रेणी में शामिल कर लिया जाएगा।

 

Read More Article On- Swastha samachar in hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK