• Follow Us

मच्छरों के जीन से होगा मलेरिया का इलाज

Updated at: Oct 06, 2012
मच्छरों के जीन से होगा मलेरिया का इलाज

डेंगू फैलाने वाले मच्‍छरों के जीन से होगा मलेरिया का इलाज, जानिए कैसे।

 

Written by: ओन्लीमाईहैल्थ लेखकPublished at: Oct 06, 2012

macharo ko kyu nahi hota dengu malaria

कभी सोचा है आपने की डेंगूमलेरिया जैसी बीमारियां फैलाने वाले मच्छरों को ये बीमारियां क्यों नहीं होती हैं। एक शोध में वैज्ञानिकों की टीम ने इसके पीछे छिपे रहस्य को खोज लिया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक मच्छरों की मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली की वजह से वे इन बीमारियों का शिकार नहीं होते हैं। इस खोज से भविष्य में डेंगू और मलेरिया के उपचार में उन्नत टीकों का विकास किया जा सकेगा।

 

[इसे भी पढ़े: मलेरिया रोकथाम के उपाय]

 

गीलोंग स्थित कॉमनवेल्थ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल आर्गनाइजेशन (सीएसआइआरओ) के शोधकर्ताओं ने मच्छर के शरीर में वागो नाम के एक प्रोटीन का पता लगाया है, जो इससे पहले मधुमक्खी के शरीर में पाया गया था। मच्छरों में इस प्रोटीन का स्त्राव संक्रमित कोशिकाओं द्वारा होता है।

[इसे भी पढ़े: प्रकृतिक रुप से मलेरिया का इलाज]

 

वागो दूसरी कोशिकाओं को भी इस हमलावर वायरस के खिलाफ सतर्क करता है और मच्छर की रक्षात्मक प्रणाली सचेत हो जाती है। दुनियाभर में हर साल डेंगू से पांच करोड़ से दस करोड़ लोग प्रभावित होते हैं और 22 हजार लोग दम तोड़ देते हैं। यह शोध नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

 

Read More Health News In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK