मां के तनाव से बच्‍चा बन सकता है डरपोक

Updated at: Nov 17, 2012
मां के तनाव से बच्‍चा बन सकता है डरपोक

जाने, गर्भावस्‍था में मां के खान-पान और सोच का असर बच्‍चे पर कैसा पड़ता है।

Bharat Malhotra
लेटेस्टWritten by: Bharat MalhotraPublished at: Nov 17, 2012

maa ke tanaw se bacha ban sakta hai darpok

गर्भावस्‍था में मां के खान-पान आहार और सोच का असर बच्‍चे के विकास पर पड़ता है, यह बात तो सभी जानते हैं। लेकिन, ताजा अध्‍ययन इस बात की ओर इशारा करता है कि मां के तनाव का संबंध बच्‍चों के डर से भी होता है।

[इसे भी पढ़े- गर्भावस्था में कैसे पाएं गुस्से पर काबू]

एक ताजा अध्‍ययन में यह बात सामने आयी है कि गर्भावस्‍था के दौरान जो महिलाएं जरूरत से ज्‍यादा तनाव का शिकार रहती हैं, उनके बच्‍चों के दब्‍बू और डरपोक होने की आशंका बढ़ जाती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ वारविक के शोधकर्ताओं ने करीब 8829 बच्‍चों पर अध्‍ययन किया। इस अध्‍ययन के नतीजे चौंकाने वाले थे। इन नतीजों ने इस बात की पुष्टि कर दी कि गर्भावस्‍था के दौरान यदि मां अधिक तनाव लेती है तो गर्भ में पल रहे उसके शिशु पर भी इसका नकारात्‍मक असर पड़ता है।

अध्‍ययनकर्ताओं ने पाया कि तनाव लेने वाली महिलाओं के बच्‍चों को स्‍कूल में अन्‍य बच्‍चों द्वारा डराने या तंग करने के ज्‍यादा मामले सामने आते हैं। यानी वे बच्‍चे डरे हुए और दब्‍बू प्रवृति के बन जाते हैं।

[इसे भी पढ़े- गर्भावस्था में संगीत थेरेपी]

इस अध्‍ययन से यह बात भी निकलकर सामने आयी है कि महिलाओं के खानपान के साथ ही उनके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य का भी पूरा ध्‍यान रखने की जरूरत है। उन्‍हें गर्भावस्‍था के दौरान खुश रहना चाहिए। तनाव दूर रखने के लिए वे व्‍यायाम और योग व ध्‍यान आदि  का सहारा भी ले सकती हैं। यदि महिलाएं अधिक तनाव लेती हैं तो जाहिर सी बात है कि उनके बच्‍चे को इस बात के दु‍ष्‍परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

 

Read more Article On- Health news in hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK