मां के दूध से शिशुओं में एचआईवी का खतरा कम

मां के दूध से शिशुओं में एचआईवी का खतरा कम

अब एचआईवी से ग्रस्त मां का बच्चा इस बीमारी से आसानी से बच सकेगा जानिए, कैसे। 

maa ke doodh se shishuo me hiv ka khatra kamयूं तो मां का दूध नवजात के लिए संपूर्ण आहार होने के साथ साथ इसके कई फायदे होते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह शिशुओं को एचआईवी जैसी संक्रामक बीमारी से भी बचाता है। हाल ही में हुए शोध में पता चला है कि मां के दूध में एक ऐसा विशेष कार्बोहाइड्रेट होता है, जो संक्रमित मां से उसके बच्चों में एचआईवी के पहुंचने के खतरे को घटा देता है।

 

कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने अपने अध्ययन के दौरान पाया कि मानव दूध ओलिगोसैक्राइड्स नामक कुछ बायोएक्टिव अवयव की उच्च मात्र प्रसव के पश्चात मां से शिशुओं में एचआइवी को पहुंचने से रोक देती है।सैन डिएगो चिकित्सा विद्यालय के बाल चिकित्सा विभाग के सहायक प्रोफेसर लार्स बोड ने कहा, ‘विकासशील देशों में एचआइवी संक्रमित मां असमंजस में होती है कि वह अपने शिशुओं को स्तनपान कराए या नहीं। ’

 

बोड और उनके सहयोगी यह जानने में जुटे थे कि स्तनपान करने वाले शिशु का एक बड़ा हिस्सा कई महीनों तक अपनी मां का दूध पीने के दौरान एचआइवी-1 के संपर्क में रहता है, लेकिन वह उसके गिरफ्त में नहीं आता।

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।