अल्‍जाइमर के इलाज में मददगार साबित हो सकता है लव हार्मोन ऑक्सीटोसिन: शोध

Updated at: Jul 29, 2020
अल्‍जाइमर के इलाज में मददगार साबित हो सकता है लव हार्मोन ऑक्सीटोसिन: शोध

हाल में हुआ अध्‍ययन कहता है कि लव हार्मोन ऑक्सीटोसिन इस मानसिक बीमारी में मददगार हो सकता है। 

Sheetal Bisht
लेटेस्टWritten by: Sheetal BishtPublished at: Jul 28, 2020

उम्र बढ़ने के साथ हमारी याददाश्‍त भी कमजोर होने लगती है, जिसे कि हम मे से अधिकतर लोग सामान्‍य मानते हैं। जबकि ऐसा नहीं है, उम्र बढ़ने के साथ याददाश्‍त में कमी या कमजोरी आना अल्‍जाइमर रोग के शुरूआती चरण हो सकते हैं। अल्‍जाइमर रोग वृद्धावस्‍था में होने वाली समस्‍याओं में से एक है। लेकिन इस सबके बीच दुख की बात ये है कि उम्र से संबंधित इस बीमारी का कोई टीका, गोली या इलाज नहीं है। हालांकि दुनियाभर के वैज्ञानिक दशकों से अल्‍जाइमर पर शोध कर रहे हैं और इसके कुछ संभावित उपचार खोज रहे हैं, जो इस बीमारी को कंट्रोल करने में मददगार हो सकें। हाल में ऐसा ही एक नया शोध हुआ है, जो कहता है कि लव हार्मोन ऑक्सीटोसिन अल्‍जाइमर रोग के इलाज में मददगार साबित हो सकता है। 

अल्‍जाइमर रोग में मददगार है लव हार्मोन ऑक्सीटोसिन

हमारे मानसिक और शारीरिक कल्याण के विकास में हार्मोन एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। ठीक ऐसे ही इस अध्ययन की मानें, तो शोधकर्ताओं का कहना है कि लव हार्मोन, ऑक्सीटोसिन, अल्जाइमर रोगियों के इलाज में मदद कर सकता है। जर्नल बायोकैमिकल एंड बायोफिजिकल रिसर्च कम्युनिकेशन में प्रकाशित निष्कर्षों के अनुसार, वैज्ञानिकों ने एक हार्मोन को देखा, जो परंपरागत रूप से महिला प्रजनन प्रणाली में अपनी भूमिका के लिए जाना जाता है और प्रेम और कल्याण की भावनाओं को प्रेरित करने के लिए - ऑक्सीटोसिन के रूप में - यह संभव तत्व के रूप में है, जो अल्जाइमर जैसे संज्ञानात्मक विकारों का इलाज मे मददगार हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: शारीरिक रूप से स्‍वस्‍थ और फिट रहने में मदद करती है जिंदगी के प्रति सकारात्‍मक सोच और खुश रहना: शोध

Love Harmon Oxytocin

अल्जाइमर रोग एक प्रगतिशील विकार है, जिसमें किसी व्यक्ति के मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाएं (न्यूरॉन्स) और उनके बीच संबंध धीरे-धीरे बिगड़ जाते हैं, जिससे गंभीर रूप से याददाश्‍त खोना, बौद्धिक कमियां और कौशल व संचार में गिरावट होती हैं। भूलना या याददाश्‍त खोना आदि अल्‍जाइम के शुरूआती लक्षण हो सकते है। ऐसे में एक व्‍यक्ति को अन्‍य किसी पर निर्भर होना पड़ सकता है। अल्जाइमर के प्रमुख कारणों में से एक मस्तिष्क में न्यूरॉन्स के आसपास समूहों में एमाइलॉइड बी (एबी) नामक एक प्रोटीन का संचय है, जो उनकी गतिविधि को बाधित करता है और उनके अध: पतन या बिगड़ने को ट्रिगर करता है।

कैसे अल्‍जाइमर रोग से बचाव करता है लव हार्मोन 

अल्‍जाइमर रोग के इलाज और इससे बचाव के लिए लव हार्मोन, ऑक्सीटोसिन पर इस शोध को आगे बढ़ाते हुए, जापान के वैज्ञानिकों की एक टीम, जो टोक्यो यूनिवर्सिटी ऑफ़ साइंस के प्रोफेसर अकिओशी साइतोह के नेतृत्व में ऑक्सीटोसिन पर नज़र रखते हुए किया गया। जिसमें प्रो साइतोह कहते हैं, "हाल ही में ऑक्सीटोसिन सीखने और स्मृति के प्रदर्शन को विनियमित करने में शामिल पाया गया था, लेकिन अब तक, पिछले अध्ययन संज्ञानात्मक हानि पर ऑक्सीटोसिन के प्रभाव से संबंधित नहीं है।" 

Alzheimer's Disease

इसे समझते हुए, प्रो साइतोह के समूह और उनके अनुसार, लव हार्मोन ऑक्सीटोसिन में सिग्नलिंग क्षमताओं को बढ़ाने की शक्ति है। वह यह भी सुझाव देता है कि ऑक्सीटोसिन सिनैप्टिक प्लास्टिसिटी की कमी को दूर कर सकता है, जो इसका कारण बनता है। सिनैप्टिक प्लास्टिसिटी हिप्पोकैम्पस सीखने और संज्ञानात्मक कार्यों के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। 

इसे भी पढ़ें: छोटी उम्र में पीरियड्स आने से बढ़ सकती है मेनोपॉज के दौरान परेशानियां, शोध में हुआ खुलासा

इसके अलावा, ऑक्सीटोसिन को कुछ कोशिकीय रासायनिक गतिविधियों को सुविधाजनक बनाने के लिए जाना जाता है, जो न्यूरोनल सिग्नलिंग क्षमता को मजबूत करने और यादों के निर्माण में महत्वपूर्ण हैं। ऑक्सीटोसिन ही हिप्पोकैम्पस में सिनैप्टिक प्लास्टिसिटी पर कोई प्रभाव नहीं डालता है, लेकिन यह किसी तरह के दुष्प्रभाव को उलटने में सक्षम है।

Alzheimer's Disease treatment

प्रो साइतोह ने कहा, "यह दुनिया में पहला अध्ययन है जिसने दिखाया है कि ऑक्सीटोसिन हिप्पोकैम्पस में दोषों को उलट सकता है।" यह केवल एक पहला कदम है और पशु मॉडल में रिसर्च जारी है और फिर पर्याप्त ज्ञान के बाद मनुष्यों के लिए अल्जाइमर की एक दवा में ऑक्सीटोसिन को बदलने के लिए इकट्ठा किया जा सकता है।'' 

Read More Article On Health News In Hindi  

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK