कमल के फूल में है कई औषधीय गुण, स्ट्रेस और एंग्जायटी कंट्रोल करने के लिए ऐसे करें इस्तेमाल

Updated at: Sep 26, 2020
कमल के फूल में है कई औषधीय गुण, स्ट्रेस और एंग्जायटी कंट्रोल करने के लिए ऐसे करें इस्तेमाल

कमल के फूल के औषधीय गुण कों जानकर हैरान हो जाएंगे आप। ये न सिर्फ आपके शरीर को स्वस्थ रखता है, बल्कि आपके मन को भी दुरुस्त रखता है।

Pallavi Kumari
आयुर्वेदWritten by: Pallavi KumariPublished at: Sep 26, 2020

कमल का फूल  (lotus flower),इसका पत्ता, जड़ और बीज आयुर्वेद में अलग-अलग औषधीय दवाओं को तैयार करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। विशेषरूप से इसे एक एंटोजेनिक ड्रग के रूप में जाना जाता है, जो मन को बदलने वाला पदार्थ है। माना जाता है ये कमल के फूल की शीतलता आपके मन को शांति प्रदान कर सकती है। वहीं ये आपकी चेतना को भी प्रभावित करता है और इसे कंट्रोल करने में मदद करती है। इस फूल के इन साइकोएक्टिव और औषधीय प्रभावों के लिए ये दो मुख्य यौगिक जिम्मेदार हैं। पहला एपोमोर्फिन और दूसरा न्यूसीफेरिन। वहीं कमल के फूल से बनी चाय पीने से आपका ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल रहता है। तो आइए जानते हैं कमल का फूल के स्वास्थ्य लाभ (lotus flower health benefits)और इसे इस्तेमाल करने का तरीका।

insidelotustea

कमल के स्वास्थ्य लाभ (Health Benefits of Lotus Flowers)

आज अधिकांश लोग अन्य पारंपरिक दवाओं की तुलना में अपने स्वास्थ्य के लिए अधिक प्राकृतिक समाधान पसंद करते हैं। और इस कारण से कमल के फूल के अर्क जैसी जड़ी-बूटियां बहुत लोकप्रियता हासिल कर रही हैं। वहीं शरीर के लिए इसके फायदे भी हैं। जैसे कि

1. स्ट्रेस को कम करता है

कमल के फूल का इस्तेमाल करना है आपके स्ट्रेस कंट्रोल करने में मदद कर सकता है। दरअसल कमल के फूल नियमित रूप से इस्तेमाल करने से ये आपके शरीर में टेंप्रेचर और ब्लड प्रेशर को कंट्रोल कर सकती है। साथ ही यह आपके दिमाग को शांत भी कर सकती है। इससे फील गुड होर्मोन्स में बढ़ोतरी होती है, जिससे नींद को बढ़ावा होता है और आप आराम से सो पाते हैं। कमल के पौधे का अर्क भी तनाव और चिंता जैसी सामान्य बीमारियों का प्रबंधन करने में मदद करता है। ये अवसाद से जूझ रहे लोगों के लिए हर्बल सप्लीमेंट की तरह भी काम करता है।

insideanxitydisorder

इसे भी पढ़ें : स्ट्रेस और एंग्जायटी में बहुत फायदेमंद होता है अश्वगंधा एसेंशियल ऑयल, जानें इसके अन्य फायदे

2. क्रॉनिक पेन रिलीफ

क्या आप पुराने दर्द से पीड़ित हैं? अपने दैनिक हर्बलआहार में नीले कमल जड़ी बूटी को शामिल करने पर विचार करें। दरअसल इसमें अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो दर्द निवारक है। इसी कारण से नीले कमल की दवा का उपयोग विभिन्न बीमारियों के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद करने के लिए किया गया है। पुराने समय में इसका उपयोग गठिया और कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से जुड़े दर्द को कम करने के लिए किया जाता है। चाय और पाउडर के अलावा, नीला कमल भी टिंचर के रूप में पाया जाता। दर्द को प्रबंधित करने और बेहतर महसूस करने में मदद करने के लिए अपनी सुबह की कॉफी या चाय में इसे मिला कर लें।

3. एंग्जायटी में कमी लाता है

कमल का अर्क एक स्वस्थ संचार प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करती है, जिसका अर्थ है कि शरीर का ब्लड सर्कुलेशन बेहतर हो जाता है। वहीं इससे नर्वस सिस्टम को मजबूती मिलती है और ये उन लोगों के लिए फायदेमंद हो जाता है, जिन्हें बात-बात पर एंग्जायटी (lotus for anxiety)होती है। वहीं ये तेज दिमाग और याददाश्त को भी बेहतर बनाने में मदद करता है। इस प्रकार कमल यादों को बनाने की प्रक्रिया को तेज करने में मदद करते हैं।

insideherbaltea

इसे भी पढ़ें : सुबह खाली पेट नीम की पत्तियां चबाने से आपकी सेहत को मिलते हैं ये 5 हैरान करने वाले फायदे

कमल के फूल से बनाएं हर्बल टी

सुबह-सुबह कमल के फूल से बनी हर्बल टी को पी कर आप ये सारे फायदे पा सकते हैं। इसे बनाने के लिए

  • -एक कमल के फूल लें।
  • -फिर एक भगोने में पानी और इलायची डाल कर चढ़ा दें।
  • -अब इसमें हल्की चीनी और चायपत्ती डाल लें।
  • -कमल के फूल की कुछ पंखुड़ियों को इसमें डाल लें।
  • -सबको एक साथ फबलने दें। अब दूध डालें और बस के उफान के बाद बंद कर दें।
  • -अब इस चाय को छाल लें और सर्व करें।

बता दें कि अपनी सुबह की शुरुआत इस चाय के साथ करने से आपकी एनर्जी बूस्ट होगी। वहीं ये चाय उन लोगों के लिए भी फायदेमंद है, जो अपनी इम्यूनिटी बढ़ाना चाहते हैं। तो एक शार्पर माइंड एंड अच्छी मेमोरी के लिए रोज पिएं ये कमल के फूल की चाय।

Read more articles on Ayurveda in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK