• shareIcon

कम सोने वालों को है किडनी खराब होने का खतरा

लेटेस्ट By Gayatree Verma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Nov 10, 2015
कम सोने वालों को है किडनी खराब होने का खतरा

अगर देर रात जगकर काम करते हैं और सुबह जल्दी ऑफिस जाने के लिए जग जाते हैं तो आपकी कम नींद आपकी किडनी के लिए घातक सिद्ध हो सकती है।

रोजाना देर रात तक जागकर काम करना ठीक है। लेकिन सुबह जल्दी उठकर ऑफिस जाने से आपकी नींद पूरी नहीं हो पाती। आपकी ये कम नींद आपके किडनी को खराब कर सकती है। क्योंकि हाल ही में हुए शोध से ये बात साबित हुई है कि जो लोग कम नींद लेते हैं उनकी किडनी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

महिला रात में काम करते हुए

टूटता है रिद्म

शरीर एक बायलॉजिकल घड़ी है जिसके अनुसार शरीर की सारी क्रियाएं नेचुरल डेली रिद्म (सरकाडियन क्लॉक या शरीर की प्राकृतिक घड़ी) के आधार पर होती हैं। यही हमारी नींद को भी नियंत्रित होती हैं। अध्ययन के दौरान पाया गया कि जब सोने के इस प्राकृतिक चक्र में बाधा आती है, तो किडनी बुरी तरह प्रभावित होती है।
यह शोध न्यूयॉर्क के ब्रिघम एंड वूमेन्स हॉस्पिटल के प्रमुख शोधकर्ता सियारन जोसेफ मैक्कुलम ने की। जोसेफ की यह शोध 11 वर्षों की अवधि के दौरान कम से कम दो अवसरों पर 4,238 प्रतिभागियों की सूचनाओं पर की गई है। शोधकर्ताओं ने पाया कि कम नींद लेने से किडनी की क्षमता बुरी तरह प्रभावित होती है।


घट जाती है किडनी की कार्यक्षमता

ये सामान्य सी बात है कि जब आप जगे रहते हैं तो आपका शरीर भी जगा रहता है। इससे शरीर के सारे भागों पर दबाव पड़ता है। सबसे ज्यादा असर किडनी पर पड़ता है। मैक्कुलम का अध्ययन पहला अध्ययन है, जो ये साबित करता है कि जरूरत से कम नींद लेने पर किडनी की कार्यक्षमता प्रभावित होती है। इस अध्ययन का निष्कर्ष सैन डिएगो में आगामी तीन से आठ नवंबर को होनेवाले एएसएन किडनी वीक 2015 के दौरान प्रस्तुत किए जाएंगे।

 

Image source @ getty

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK