क्या आप भी हर वक्त हंसते हैं? साइकोलॉजिस्ट से जानें सेहत से जुड़ी मज़ेदार थेरेपी के बारे में

Updated at: Oct 26, 2020
क्या आप भी हर वक्त हंसते हैं? साइकोलॉजिस्ट से जानें सेहत से जुड़ी मज़ेदार थेरेपी के बारे में

स्ट्रेस को दूूर करने के लिए हम कुछ खास नहीं करते ऐसे में हंसना आपको हर तरह की परेशानी से बचाने के साथ- साथ आपके बर्दाश्त करने की क्षमता को भी बढ़ाता है

Garima Garg
तन मनWritten by: Garima GargPublished at: Oct 26, 2020

ह्यूमर एक मैच्योर साइकोलॉजिकल डिफेंस है। इसके माध्यम से आप बहुत सारी परेशानियों को बहेद सरल तरीके से संभाल पाते हैं। सिरर्फ इतना ही नहीं बल्कि तमाम मानसिक व शारीरिक बीमारी से निपटने के लिए भी यह कारगर है। यदि आप स्ट्रेस की समस्या से परेशान हैं तो हंसना आपके काम आ सकता है। जी हां, जब व्यक्ति दिमागी तौर पर स्ट्रेस में रहता है तो उसके लिए हंसने वाली थैरेपी बेहद कारगर साबित होती है। पढ़ते हैं आगे...

good health

हंसने से स्ट्रेस हॉर्मोन पर प्रभाव

हमारे शरीर में कॉर्टिसोल, एड्रेनलिन आदि स्ट्रेस हॉर्मोन पाए जाते हैं। ऐसे में तनाव के कारण ये हॉर्मोन शरीर में सक्रिय होने लगते हैं। जब लेवल बढ़ता है तब घबराहट होती है और सिर दर्द, सर्वाइकल, माइग्रेन, कब्ज जैसी समस्या सामने आने लगती हैं इसके अलावा व्यक्ति का शुगर लेवल बढ़ सकता है। हंसने से कॉर्टिसोल व एड्रेनलिन का स्तर कम होता है।इसके अलावा ये एंडॉर्फिन, फिरॉटिनिन जैसे फील गुड हॉर्मोन के स्तर को फभी बढञाता है। इससे हमारे मन में उत्तेजना भर जाती है। बता दें कि हंसने से दर्दम एंग्जाइटी कम और इम्युन सिस्टम मजबूत होता है। हंसने से लगातार प्राणायाम होता हैं। हंसते हुए पेट अंदर की तरफ जाता है और हम लगातार सांस लेते हैं और छोड़ते हैं, यानी शरीर से कार्बन डाइऑक्साइड बाहर निकलती रहती है। इससे पेट में ऑक्सीजन के लिए ज्यादा जगह बनती है। दिमाग को ढंग से काम करने के लिए 20 फीसदी ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत होती है। खांसी, नजला, जुकाम, स्किन प्रॉब्लम्स जैसी एलर्जी ऑक्सिजन की कमी से बढ़ जाती हैं। हंसी इन बीमारियों को कंट्रोल करने में मदद करती है। जब हम जोर-जोर से हंसते हैं तो झटके से सांस छोड़ते हैं। इससे फेफड़ों में फंसी हवा बाहर निकल आती है और फेफड़े ज्यादा साफ हो जाते हैं।

सेहत के लिए हंसना क्यों है जरूरी

  • हंसी शरीर के अंगों की मांसपेशियों के लिए अच्छा प्राणायम है।
  • हंसने से रक्तदाब को कम और रक्तसंचरण को सुधारा जा सकता है।
  • बता दें कि हंसने से स्ट्रेस हॉर्मोन्स जैसे कार्टिसोल और एड्रीनलीन को बढ़ने से रोका जा सकता है। 
  • याद्दाश्त दुरुस्त ररखने में भी ये मददगार है और इससे सीखने की क्षमता में बढ़ोत्तरी होती है।
  • ध्यान दें कि इससे शरीर की इम्यूनिटी को मजबूत किया जा सकता है।
  • दिल की बीमारियों को दूर करने में भी ये मददगार है।
  • इससे मूड भी सही रहता है।

हंसी में छिपा उपचार

हंसने पर शरीर के अच्छे हॉर्मोन्स सक्रिय हो जाते हैं। यहीं कारण है कि लोग कॉमेडी शो या मूवी देखना में खुद को बिजी रखते हैं। ऐसा करने से वे रिलैक्स महसूस करते हैं। इसके अलावा इस थेरेपी से सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है। एक्सपर्ट की मानें तो हंसने से शरीर की एक्सरसाइज तो होती ही है औय इससे ऑक्सीजन भी शरीर को ज्यादा मिलता है। 
 
(ये लेख तुलसी हेल्थ केयर, नई दिल्ली के मनोचिकित्सक व निदेशक, डॉ. गौरव गुप्ता से बातचीत पर आधारित है।)

Read More Artcle on Mind Body in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK