बच्चे की डिलीवरी के बाद शाम के 7 बजे के बाद खाया गया खाना बढ़ा सकता है महिलाओं का मोटापा: स्टडी

Updated at: Dec 23, 2019
बच्चे की डिलीवरी के बाद शाम के 7 बजे के बाद खाया गया खाना बढ़ा सकता है महिलाओं का मोटापा: स्टडी

स्टडी बताती है कि प्रेग्नेंसी के दौरान या डिलीवरी के बाद खाने की गलत आदत महिलाओं में विशेष फैट बढ़ाती हैं, जिसे सालों तक घटाना मुश्किल हो सकता है।

Anurag Anubhav
लेटेस्टWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Dec 23, 2019

प्रेग्नेंसी के दौरान अक्सर महिलाओं को चटपटी और तीखी चीजें खाने का मन करता है। कई बार खाने की क्रेविंग उन्हें रात में ज्यादा परेशान करती है। इस क्रेविंग के कारण महिलाएं रात में उठकर कुछ न कुछ अनहेल्दी (ज्यादातर कार्ब्स) खा लेती हैं, जिसका उनके वजन पर बुरा असर पड़ता है। हाल में हुआ एक अध्ययन बताता है कि प्रेग्नेंसी के दौरान अगर महिलाएं 7 बजे के बाद खाना खाती हैं, तो उनका वजन बढ़ सकता है और ये बढ़ा हुआ वजन उन्हें अगले कई सालों तक परेशान कर सकता है। इस स्टडी को KK Women’s and Children’s Hospital (KKH) द्वारा किया गया है और इसे 'न्यूट्रिएंट्स' नामक जर्नल में छापा गया है।

सालों तक वजन घटाना हो सकता है मुश्किल

स्टडी की रिपोर्ट बताती है कि ऐसी महिलाएं जो प्रेग्नेंसी के दौरान अच्छी डाइट नहीं लेती हैं और शाम के 7 बजे के बाद खाना खाती हैं, वो विशेष प्रकार के मोटापे का शिकार हो सकती हैं। इस दौरान बढ़ा हुआ वजन इस अर्थ में विशेष है कि इसे घटाना बहुत मुश्किल होता है। शोधकर्ता बताते हैं कि प्रेग्नेंसी के दौरान या डिलीवरी के बाद अस्वस्थ भोजन से जो वजन बढ़ता है, वो बच्चे के जन्म के 18 महीने बाद भी गर्भवती महिला के लिए परेशानी का सबब बना रह सकता है।

इसे भी पढ़ें: डिलीवरी के बाद जल्द चाहती हैं रिकवरी, तो महिलाएं रखें इन 4 बातों का ध्यान

क्या कहते हैं शोधकर्ता

इस अध्ययन के प्रमुख लेखक Loy See Ling कहते हैं, 'वैसे तो देर रात में खाना और अनहेल्दी चीजें खाने से वजन बढ़ना कोई नई बात नहीं है, अमूमन ऐसा होता ही है। मगर प्रेग्नेंट महिलाएं अगर देर रात में खाना खाती हैं, खासकर अनहेल्दी चीजें खाती हैं, तो उनका बढ़ा हुआ वजन, डिलीवरी के कई सालों बाद तक आसानी से नहीं घटता है। यहां तक कि 18 महीने बाद भी उनमें मोटापे की समस्या बनी रह सकती है।"

सिर्फ पेट के हिस्से में जमा होता है फैट

आपको बता दें कि सामान्य अवस्था में बढ़े हुए वजन के मुकाबले, डिलीवरी के तुरंत बाद बढ़ा हुआ वजन खतरनाक हो सकता है। इसका कारण यह है कि सामान्य अवस्था में जब आपके शरीर में फैट जमा होता है, तो वो शरीर के लगभग हर हिस्से में होता है (यानी बांहें, जांघ, चेहरा, हिप्स आदि), मगर डिलीवरी के बाद जो फैट जमा होता है, वो ज्यादातर पेट के हिस्से में ही होता है, जिसे विसेरल फैट (Visceral Fat) कहते हैं।

इसे भी पढ़ें: नॉर्मल डिलीवरी के बाद क्यों होती है जल्दी-जल्दी पेशाब आने की समस्या, जानें कारण और उपचार

अगली प्रेग्नेंसी में आती है परेशानी

इससे महिलाओं को आगामी जीवन में कई गंभीर बीमारियों की संभावना बढ़ डाती है, जैसे- मेटाबॉलिक डिसआर्डर, हार्ट की बीमारियां, कार्डियोवस्कुलर रोग। इसके साथ ही उन्हें अगली प्रेग्नेंसी में भी बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसका असर अगले होने वाले बच्चे की सेहत पर भी पड़ता है।

Read more articles on Health News in Hindi

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK