जानिए प्रोटीन का सेवन किन लोगों को अधिक मात्रा में करना चाहिए और क्‍यों?

Updated at: Oct 20, 2020
जानिए प्रोटीन का सेवन किन लोगों को अधिक मात्रा में करना चाहिए और क्‍यों?

कुछ लोगों को प्रोटीन का अधिक सेवन करने की सलाह दी जाती है। दरअसल इसकी कई वजह है। आइए इस लेख के माध्‍यम से जानते हैं। 

Atul Modi
स्वस्थ आहारWritten by: Atul ModiPublished at: Oct 20, 2020

आमतौर पर प्रोटीन का नाम सुनने पर दिमाग में प्रोटीन पाउडर, प्रोटीन शेक और व्‍हे प्रोटीन का प्रतिबिंग बनने लगता है। इसे मांसपेशियों के निर्माण के तौर पर देखा जाता है। जबकि प्रोटीन का दायरा काफी बड़ा है। प्रोटीन हमारे संपूर्ण शरीर के लिए बहुत जरूरी है। प्रोटीन शरीर की मांसपेशियो के निर्माण के साथ कोशिकाओं के विकास के लिए भी बहुत महत्‍वपूर्ण है। प्रोटीन शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के साथ यह त्‍वचा को स्‍वस्‍थ रखने में मदद करते हैं। 

हालांकि, कुछ लोग ऐसे होते हैं, जिन्‍हें प्रोटीन का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए, आज हम आपको इस लेख में बता रहे हैं कि प्रोटीन का सेवन किन लोगों को ज्‍यादा करना चाहिए?

प्रोटीन का सेवन किन लोगों को करना चाहिए? 

protein-for-muscles

वजन बढ़ाने के लिए

हम सभी इस बात से सहमत हैं कि कुछ लोग ऐसे हैं जो दूसरों की तुलना में आसानी से वजन बढ़ा लेते हैं। दरअसल, ऐसे लोगों के लिए प्रोटीन का सेवन बढ़ाना फायदेमंद है। प्रोटीन शरीर को तृप्त रखता है, असमय भूख को रोकता है और मांसपेशियों के नुकसान को कम करता है। ये सभी चीजें एक व्यक्ति को वजन का प्रबंधन करने में मदद कर सकती हैं।

जिम करने वालों को 

जिम करने वालों खासकर मांसपेशियों के निर्माण के लिए कसरत करने के वालों के लिए प्रोटीन का सेवन कितना महत्वपूर्ण है, यह कहने की जरूरत नहीं है। प्रोटीन एक महत्वपूर्ण macronutrient है जो ऊतकों के निर्माण और उसकी मरम्मत के लिए आवश्यक है। प्रोटीन, एक्‍सरसाइज के बाद मांसपेशियों की रिकवरी और मरम्मत में मदद करता है। विशेषज्ञों की मानें तो प्रोटीन के पर्याप्त सेवन के बिना, मांसपेशियों का निर्माण करना असंभव है।

मिडिल एज वालों के लिए

36 से 55 आयु वर्ग के लोगों को अपने आहार में पर्याप्त प्रोटीन शामिल करना चाहिए। इस समय कुछ अतिरिक्त प्रोटीन प्राप्त करने से उम्र बढ़ने के साथ मांसपेशियों की क्षति को रोकने में मदद मिल सकती है, जो उम्र बढ़ने के साथ आती है। हालांकि, 50 के दशक के बाद के लोगों में भी उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्तचाप की समस्या होने की संभावना अधिक होती है। इसलिए, उन्हें पूरे अनाज और नट्स जैसे प्रोटीन आधारित स्रोतों पर अधिक ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

Protein-Rich-Foods

इसे भी पढ़ें: पाचन तंत्र के लिए ज़रूरी है प्रोबायोटिक्स, न्यूट्रिशनिस्ट से जानें पेट की बीमारियों से कैसे हो बचाव

शाकाहारी व्‍यक्तियों के लिए 

शाकाहारी भोजन का सेवन करने वाले लोगों को अक्सर उनके द्वारा खाए गए भोजन से कम प्रोटीन मिलता है। यह शाकाहारियों को कई प्रकार के स्वास्थ्य मुद्दों के विकास के जोखिम में डालता है। इसलिए, शाकाहारियों को अपनी प्लेट पर अतिरिक्त प्रोटीन जोड़ने का प्रयास करने की आवश्यकता है।

इसे भी पढ़ें: इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए रोज पिएं एक गिलास गाजर का जूस, शरीर को मिलेंगे ये अन्य 5 लाभ

हाइपोथायरायडिज्म में

एक उच्च-प्रोटीन आहार चयापचय को बढ़ाने में मदद करता है, इसलिए यह हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों के लिए अत्यधिक अनुशंसित है। एक अंडरएक्टिव थायरॉयड ग्रंथि या हाइपोथायरायडिज्म से वजन बढ़ सकता है और वजन कम हो सकता है। प्रोटीन का सेवन बढ़ाने से चयापचय को बढ़ावा मिलता है और किलो को कम करने में मदद मिलती है।

Read More Articles On Healthy Diet In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK