क्या है हाइपरटेंसिव हृदय रोग? जानें किन लोगों को है इस रोग का ज्यादा खतरा और क्या है बचाव

Updated at: Jul 30, 2020
क्या है हाइपरटेंसिव हृदय रोग? जानें किन लोगों को है इस रोग का ज्यादा खतरा और क्या है बचाव

उच्च रक्तचाप के कारण होने वाली तमाम हृदय स्थितियां  गंभीर होती है, हाइपरटेंसिव हृदय रोग भी उच्च रक्तचाप के कारण होने वाली एक समस्या है। 

Vishal Singh
हृदय स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: Vishal SinghPublished at: Jul 30, 2020

उच्च रक्तचाप या उच्च रक्तचाप (Hypertension or high blood pressure) जीवनशैली की सबसे आम बीमारियों में से एक है, जिसका ज्यादातर लोग शिकार होते हैं। इस स्थिति में हृदय को जल्दी रक्त पंप करने के लिए दबाव बढ़ता है जो दूसरी गंभीर स्थितियों का कारण बनता है। उच्च रक्तचाप के कारणों में से एक धमनियों का संकुचित होना है। संकीर्ण धमनियों का मतलब यह होता है कि कम जगह में रक्त को स्थानांतरित किया जा रहा हो। एक विस्तारित अवधि में उच्च रक्तचाप का मतलब कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती है। ऐसे ही उच्च रक्तचाप के कारण हाइपरटेंसिव हृदय रोग (Hypertensive Heart Disease) हो सकता है। हाइपरटेंसिव हृदय रोग बहुत कम लोग जानते हैं कि ये क्या है और इस स्थिति में क्या लक्षण नजर आते हैं। तो आइए हम आपको इस लेख में हाइपरटेंसिव हृदय रोग के कारण, लक्षण और इससे बचाव के बारे में बताते हैं। 

heart health

क्या है हाइपरटेंसिव हृदय रोग (What Is Hypertensive Heart Disease In Hindi)

हाइपरटेंसिव हृदय रोग, हृदय की उन स्थितियों को बताता है जो उच्च रक्तचाप के कारण पैदा होती है। हृदय का बढ़े हुए दबाव में काम करने वाला हृदय कई नई स्थितियों को जन्म देने काम करता हौ और कई विकारों का कारण बनता है। उच्च रक्तचाप के कारण हृदय की विफलता, हृदय की मांसपेशी का मोटा होना, कोरोनरी धमनी रोग और अन्य स्थितियां शामिल हैं, जो एक गंभीर रूप ले लेती है। इसके अलावा ये स्थितियों मौत का प्रमुख कारण है।

हाइपरटेंसिव हृदय रोग का कारण (Causes Of Hypertensive Heart Disease)

  • जेनेटिक। 
  • जीवनशैली में खराब बदलाव।
  • फिजिकल एक्टिविटी का खराब प्रदर्शन। 
  • अनियमित खानपान। 

लक्षण (Symptoms)

  • सिर दर्द।
  • सांस लेने में परेशानी।
  • सिर चकराना।
  • नाक से खून आना।
  • पेशाब में खून आना।
  • देखने की क्षमता में बदलाव।
  • छाती में अचानक दर्द।
  • बेहोशी।
  • पैरों में सूजन पैदा होना। 

heart health

इसे भी पढ़ें: हेल्दी हार्ट के लिए कौन सी एक्सरसाइज हैं बेस्ट और वर्स्ट? इन बेस्ट एक्सरसाइज को करते वक्त बरतें ये सावधानियां

हाइपरटेंसिव हृदय रोग के खतरे में कौन है (Who Is At Risk Of Hypertensive Heart Disease)

आपको बता दें कि संयुक्त राज्य अमेरिका में पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए हृदय रोग मौत का एक बड़ा कारण है। जिसमें उच्च रक्तचाप से ग्रस्त हृदय रोग के लिए मुख्य जोखिम कारक उच्च रक्तचाप है। ऐसे में जरूरी है ये जानना कि किन लोगों को इस स्थिति का ज्यादा खतरा रहता है। इसमें शामिल है ये स्थिति:

  • जिन लोगों का अक्सर ज्यादा वजन रहता है। 
  • कम व्यायाम करने वाले लोग। 
  • बहुत ज्यादा धूम्रपान करने के कारण।
  • हेल्दी डाइट के बजाए ज्यादा वसा और कोलेस्टॉल वाला आहार का सेवन करना। 

इसके अलावा अगर आपके परिवार में इस स्थितियों का रोग चलता आ रहा है तो आप इस हृदय रोग का शिकार हो सकते हैं। वहीं, जो महिलाएं रजोनिवृत्ति से नहीं गुजरी हैं, उनकी तुलना में पुरुषों को हृदय रोग होने की संभावना ज्यादा देखी गई है और बढ़ती उम्र के साथ हृदय की अलग-अलग समस्याएं पैदा होना भी एक स्थिति है। 

इसे भी पढ़ें: आपके दिल को दुरुस्त रखेंगे ये दो फल, सुबह-शाम अपनी डाइट में करें इन्हें शामिल

बचाव (Prevention)

हेल्दी डाइट

आपको हमेशा एक हेल्दी डाइट के सहारे रहने की जरूरत होती है, जो आपको लंबे समय तक स्वस्थ रखने का काम करे। फलों और सब्जियों से भरपूर आहार, दुबला प्रोटीन और साबुत अनाज हृदय के लिए अच्छा होता है। वहीं, प्रोसेस्ड फूड और जंक फूड आपकी सेहत को बिगाड़ने का काम करता है। 

नियमित रूप से व्यायाम करें

रोजाना आपको नियमित रूप से व्यायाम करना जरूरी होता है, इससे आपका ब्लड प्रेशर भी नियंत्रण में रहता है। हफ्ते में दो से तीन बार आधे घंटे के लिए व्यायाम करना उच्च रक्तचाप से बचने या कम करने के लिए फायदेमंद होता है। 

तनावमुक्त रहें

बहुत ज्यादा तनाव में रहने के कारण भी आपके हृदय पर इसका बुरा असर पड़ता है। उच्च रक्तचाप को कम करने की दिशा में ध्यान, योग, गहरी सांस लेना सभी अच्छी गतिविधियां मानी जाती हैं।

हृदय रोग की गंभीर स्थितियों से बचने के लिए आपको समय-समय पर अपने रक्तचाप की जांच करानी चाहिए और इसे नियंत्रित रखने के लिए व्यायाम और हेल्दी डाइट लेनी चाहिए। 

Read more articles on Heart-Health in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK