बड़े ही नहीं बल्कि बच्चों को भी होती है त्वचा संबंधित समस्याएं, जानें बच्चों का किन संक्रमण से करें बचाव

Updated at: Aug 21, 2020
बड़े ही नहीं बल्कि बच्चों को भी होती है त्वचा संबंधित समस्याएं, जानें बच्चों का किन संक्रमण से करें बचाव

अगर आपके बच्चे की त्वचा में बदलाव हो रहा है तो आप भी जान लें इन संक्रमण या रोग का हो सकता है खतरा।

Vishal Singh
बच्‍चे का स्‍वास्‍थ्‍यWritten by: Vishal SinghPublished at: Aug 21, 2020

बचपन में बच्चों में कुछ समस्याएं आम होती हैं बच्ची की त्वचा में बदलाव के पीछे बीमारी, एलर्जी और गर्मी या सर्दी शामिल है। लेकिन ये समस्साएं ज्यादा गंभीर नहीं होती और न ही इनका इलाज करना आसान है। बस आपको अपने बच्चों की देखभाल करनी है आप अपने बच्चों की जांच सुनिश्चित करें। लेकिन इसके साथ ही आपको ये भी ध्यान रखना है कि आपके बच्चे को कई प्रकार के त्वचा से संबंधित संक्रमण और रोग हो सकते हैं। ऐसे में आपको ये जानना जरूरी होता है कि बच्चों की त्वचा संक्रमण या रोग कौन-कौन से होते हैं।

skincare

दाद (Ringworm)

बच्चों में दाद की समस्या होती रहती है लेकिन इसका कारण सिर्फ कोई कीड़ा या खुजली ही नहीं होते। दाद कई कारणों से हो सकता है यह एक कवक के कारण होता है जो मृत त्वचा, बाल और नाखुन के ऊतक से दूर रहता है। एक लाल, पपड़ीदार पैच शुरु होता है इसके बाद टेलटेल खुजली वाली लाल रिंग आती है। दाद किसी व्यक्ति या जानवर के साथ त्वचा से त्वचा के संपर्क से दोता है। बच्चे इसे तौलिए गंदे कपड़ों जैसी चीजों से होती है। दादल होने पर डॉक्टर से संपर्क या एंटीफंगल क्रीम के साथ इलाज कर सकते हैं।

पांचवा रोग (Fifth Disease)

यह संक्रामक और आमतौर पर मामली बीमारी कुछ हफ्तें तक रहती है. पांचवें रोग की शुरआत फ्लू जैसे लक्षणों से होती है। इस बीमारी में चेहरा ऐसा हो जाता है कि मानों किसी थप्पड़ मारा हो और इसमें दाने भी निकल आते हैं। यह रोग छीकनें से फैलता है। दाने आने के बाद एक सप्ताह पहले सबसे अधिक संक्रामक होता है। यह आराम, तरह पदार्थ का सेवन और दर्द निवारक के साथ ठीक किया जा सकता है।

चेचक ( Chickenpox)

चिकनपॉक्स वैक्लीन की बदौलत आज बच्चों में यह एक बार होने वाला रैश नहीं दिखता है। यह बहुत संक्रामक है। इस बीमारी में पूरे शरीर मे छोटे-छोट खुजलीदार लाल रंग के दाने निकल आते हैं जो लाल धब्बे छोड़ जाती है। यह कई चरणों से गुजरती है। वे फफोले, सुखी पपड़ी। सभी छोटे बच्चों को चिकनपॉक्स का टीका लगवाना चाहिए। यह बड़ो को भी सकता है। 

इसे भी पढ़ें: छोटे बच्‍चों को भी हो सकता है स्‍ट्रोक का खतरा, जानें क्‍या हैं बच्‍चों में स्‍ट्रोक के लक्षण और जोखिम कारक

रोड़ा (IMPETIGO)

इम्पीटिगो, बैक्टीरिटया के कारण होता है, लाल घाव या छाले बनाता है। ये खुले, ओझल हो सकते हैं। घवा पूरे शरीर में दिखाई दे सकते हैं। लेकिन ज्यादातर मुंह और नाक के आसपास होता है। यह तौलिए और खिलौनों जैसी चीजों कों साझा करने से हो सकता है।

मसा  (Warts)

मसा एक व्यक्ति से दूसरे में आसानी फैल सकता है। वे वायरस वाले किसी व्यक्ति की इस्तेमाल की गई वस्तु को छुने से फैलने हैं। यह सबसे अधिक उंगलियों और हाथों पर पाए जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: कैसे पता लगाएं कि आपका बच्चा कलर ब्लाइंड (वर्णांधता) है?

हीट रैश (Heat rash)

हीट रैश छोटे लाल या पिंक मुहासे की तरह दिखाई देते हैं। यह आमतौर पर बच्चों के सिर , गर्दन और कंधों पर देखते हैं। यह गर्म मौसम में ज्यादातर होता है। बच्चों को एक परत वाले कपड़े ही पहनाएं ।क्योंकि दोष रुका हुआ पसीना इसका मुख्य कारण है।

संपर्क से होने वाला चर्मरोग(Contact Dermatitis)

कुछ बच्चों की त्वचा खाद्य पादर्थों, साबुनों या पौधों जैसे जहर आइवी, ओक को छुने के बाद होता है। त्वचा के संपर्क के बाद दाने आमतौर पर पर 48 घंटों के भीतर शुरु हो जाते हैं। यह लाल धक्कों का एक दाने हो सकता है। गंभीर मामलों में सूजन, लालिमा हो जाती है। 

लेकिन इन सब के लिए परेशना होने की जरूर नहीं इस बामारियों का आसानी से इलाज कराया जा सकता

Read More Articles On Children Health In Hindi

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK