दांतों की सफाई से जुड़ी इन मिथकों पर करते हैं विश्वास तो रहें सावधान, जानें ओरल हेल्थ से जुड़े मिथ्स की सच्चाई

Updated at: May 25, 2020
दांतों की सफाई से जुड़ी इन मिथकों पर करते हैं विश्वास तो रहें सावधान, जानें ओरल हेल्थ से जुड़े मिथ्स की सच्चाई

आपकी मुंह की सफाई से आपका समग्र स्‍वास्‍थ्‍य जुड़ा है, इसलिए जरूरी है कि आप दांतो की सफाई से जुड़े मिथक को पहचानें और उन पर विश्‍वास करना बंद करें। 

Sheetal Bisht
अन्य़ बीमारियांWritten by: Sheetal BishtPublished at: May 25, 2020

मुंह और दांतों की साफ सफाई बनाए रखना बहुत जरूरी है। इससे आप दांत और मसूड़े स्‍वस्‍थ रहते हैं और साथ ही मुंह में मौजूद बैक्टिीरिया का खात्‍मा होता है। मुंह और दांतों की सफाई से आप अपने दांतों की सड़न और मसूड़ों की बीमारियों से बचाते हैं। लेकिन इसके साथ ही यह भी जरूरी है कि आप अपने आसपास राउंड कर रहे मिथकों से बचें और उन पर विश्‍वास न करें। दांतों की देखभाल भी एक ऐसा मुद्दा है जिसके बारे में कई मिथक हैं और हम सब उन पर विश्‍वास करते हैं, जैसे कि खाना खाने के बाद ब्रश नहीं करते आदि। तो आइए यहां हम ऐसे ही कुछ मिथकों का भांडाफोड़ करते हैं, जिन पर आपको विश्वास करना बंद कर देना चाहिए।

1. सुबह नाश्‍ता करने से पहले ब्रश करना सही है। 

Myths About Dental Care

आपने अक्‍सर लोगों को देखा होगा कि वह ब्रश किए बिना कुछ खाते या पीते नहीं हैं। ऐसा इसलिए कि उन्‍होंने यह आदत बना ली है और उनका मानना है कि सुबह ब्रश करने के बाद ही कुछ खाना-पीना चाहिए। जबकि, तथ्य यह है कि भोजन करने के बाद ब्रश करना पहले ब्रश करने से ज्यादा महत्वपूर्ण है। ऐसा माना जाता है कि खाना खाने के बाद ब्रश करना अच्छी मौखिक स्वच्छता की कुंजी है क्योंकि यह आपके मुंह को तुरंत साफ कर देगा। हालांकि, पहले ब्रश करने में कोई बुराई नहीं है लेकिन आप खाना खाने के बाद भी ब्रश कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: दांतों के पीलेपन से शर्मिंदा हैं? रोजाना खाएं ये 5 आहार, चमचमा उठेंगे आपके दांत

2. हार्ड ब्रश से दांत साफ और सफेद रहते हैं

यह दूसरा सबसे आम मिथ है कि हार्ड ब्रश के उपयोग से आपके दांत एकदम अच्‍छे से साफ हो जाते हैं और सफेद रहते हैं। जबकि सच यह है कि हार्ड ब्रश आपके दांतों को साफ करने से ज्‍यादा दांतों की सतहों या मसूड़ों को नुकसान पहुंचाता है। इसलिए जरूरी है कि आपको अपनी ब्रश करने की तकनीक पर ध्यान देना चाहिए। हर तरफ कम से कम 20 बार मसूड़ों से लेकर दांतों तक स्ट्रोक करे। ऊपरी दाँतों को ब्रश के लिए नीचे की ओर से और निचले दाँत के लिए ऊपर की ओर से ब्रश करें औ हार्ड ब्रश की जगह सॉफ्ट ब्रश का उपयोग करें। ऐसा आप अपने छोटे बच्‍चों को भी सिखाएं।  

Regular Checkup For Oral Health

3. दांत में दर्द या कीड़ा लगने पर ही डेंटल के पास जाएं 

बहुत से लोग दांत दर्द के घरेलू नुस्‍खों के साथ ही दर्द से निपटना चाहते हैं।  वह ऐसा मानते हैं कि जबतक दर्द गंभीर  न हो या बीमारी दिखे नहीं, तो डॉक्‍टर के पास जाना जरूरी नहीं है। लेकिन एक अच्‍छी ओरल हेल्‍थ के लिए हर 6 महीने में डेंटिस्‍ट के पास जाएं और अपने दांतों की सफाई और चेकअप कराएं। ताकि कोई भी समस्‍या हो उससे समय पर ही निपटा जा सके। यदि समय पर दांतों की समस्या का हल किया जाए, तो यह आपके दांतों को स्‍वस्‍थ और उन्‍हें बचाने में मददगार हो सकता है। 

4. रेगुलर टीथ स्केलिंग से दांत कमजोर पड़ सकते हैं 

बहुत से लोगों को लगता है कि रेगुलर टीथ स्केलिंग से दांत कमजोर पड़ जाते हैं। जबकि, 6 महीने से 1 साल में एक बार नियमित टीथ स्केलिंग करने से दांतों की अच्छी सेहत और मुंह की स्वच्छता बनी रहती है। यह साफ मसूड़े पाने में मदद करता है, जो सामान्य ब्रशिंग के साथ साफ नहीं किए जा सकते हैं। स्केलिंग दांतों को नुकसान नहीं पहुंचाएगी अगर इसे उचित तकनीक के साथ ठीक से किया जाता है।

इसे भी पढ़ें: पौष्टिक खानपान के साथ गर्भावस्‍था में दांतों की सफाई भी है जरूरी, जानें क्‍यों?

Teeth Scaling

5. ओरल हेल्‍थ आपके समग्र स्वास्थ्य से नहीं जुड़ा है

आपके मुंह और आपके शरीर के बीच एक संबंध है। ओरल हेल्‍थ आपके समग्र स्वास्थ्य से जुड़ा है। जैसा कि आप जानते हैं कि हमारा खाना हमारे मुंह से होकर जाता है और मुंह में कोई भी जीवाणु संक्रमण रक्तप्रवाह में प्रवेश कर सकता है और समग्र स्वास्थ्य मुद्दों का कारण बन सकता है। खासकर, हृदय रोग, डायबिटीज और कैंसर आदि। 

Read More Article On Other Diseases In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK