कपल्‍स के बीच समय की कमी हो सकता है बढ़ते रिलेशनशिप डिप्रेशन का कारण, जानें इसके प्रभाव और इससे बचने के उपाय

Updated at: Nov 24, 2020
कपल्‍स के बीच समय की कमी हो सकता है बढ़ते रिलेशनशिप डिप्रेशन का कारण, जानें इसके प्रभाव और इससे बचने के उपाय

कपल्‍स के बीच लड़ाई-झगड़े और रिश्‍ते में दरार पड़ने की वजह से यह डिप्रेशन की स्थिति पैदा कर सकता है। जानें इस स्थिति से निपटने के टिप्‍स दिए गए हैं।

Sheetal Bisht
डेटिंग टिप्सWritten by: Sheetal BishtPublished at: Nov 24, 2020

एक रिश्ता विश्वास पर बनाया जाता है और जब संदेह या दरार बीच में आती है, तो रिश्ते को टुकड़ों में टूटने में समय नहीं लगता है। आज के इस बदलते युग में जितनी आसानी से जल्‍दी रिश्‍ते बनते हैं, उतनी ही जल्‍दी टूट भी जाते हैं। ऐसे में रिश्‍तों में दरार और अनबन कपल्‍स में डिप्रेशन का कारण बन सकता है। आजकल अधिकतर युवा पीढ़ी इस स्थिति से गुजर रही है। रिश्‍तों को संभालने में असमर्थ होना और तालमेल न बिठा पाना रिश्‍ते टूटने की बड़ी वजह है। ऐसे में जो युवा पीढ़ी रिलेशनशिप डिप्रेशन से जूझ रही है, उनके लिए यहां इससे बचने के कुछ उपाय दिए गए हैं। लेकिन इससे पहले आप रिलेशनशिप डिप्रेशन के कारण जान लीजिए।

relationship depression

रिलेशनशिप डिप्रेशन का कारण

अगर हम रिलेशनशिप डिप्रेशन और रिश्‍तों के टूटने के बारे में बात करें, तो आजकल की जीवनशैली इसका एक प्रमुख कारण हो सकती है। ऐसा इसलिए कि आज अधिकांश लोग इतने व्‍यस्‍त हो चुके हैं, कि वह एक-दूसरे को समय ही नहीं दे पाते हैं। ऐसे में धीरे-धीरे कपल्‍स के बीच दूरी आने लगती है, जो कि अंतत: रिश्‍ते में दरार पैदा कर सकती है। जी हां, क्‍योंकि एक सफल रिश्ते के लिए, एक दूसरे को उचित समय देना महत्वपूर्ण है। यदि यह संभव नहीं है, तो कम से कम कुछ क्‍वालिटी टाइम एक साथ बिताएं। इससे कपल्‍स के बीच नकारात्मक भावनाओं को दूर किया जा सकता है। कपल्‍स के बीच दूरी या रिश्‍ते का टूट जाना आपको अकेलापन महसूस करवा सकता है और यही अकेलापन आगे चलकर डिप्रेशन की स्थिति पैदा कर सकता है।

इसे भी पढ़ें: आप और आपका पार्टनर जबरदस्ती चला रहे हैं रिलेशनशिप? जानें कैसे करें पहचान

relationship problems

रिलेशनशिप डिप्रेशन के प्रभाव

रिलेशनशिप डिप्रेशन आपके शारिरिक और मानसिक दोनों स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित करता है। आइए यहां रिलेशनशिप डिप्रेशन के कुछ प्रभाव जानें।

  • रिलेशनशिप डिप्रेशन के कारण व्‍यक्ति के स्‍वभाव में चिड़चिड़ापन आ सकता है।
  • रिलेशनशिप डिप्रेशन का असर व्‍यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य दोनों पर पड़ता है। ऐसे में व्‍यक्ति भावनात्‍मक रूप से असुरक्षित महसूस करता है और वहीं कुछ लोग तनाव, उदासीनता और अकेलेपन का भी शिकार होते हैं।  
  • आमतौर पर कुछ लोग ऐसी स्थिति से निपट लेते हैं, लेकिन कुछ लोगों में दर्द को सहन करने की क्षमता नहीं होती है। ऐसे में कभी-कभी इतना तनाव इतना बढ़ जाता है कि वह डिप्रेशन की स्थिति पैदा करता है। वहीं यह आपकी अन्‍य शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को भी पैदा करता है।
  • रिश्‍तों में असफलता और रिलेशनशिप डिप्रेशन आपके परिवारजनों और दोस्‍तों को भी प्रभावित करती है।

रिलेशनशिप डिप्रेशन से बचने के उपाय

  • यदि आप या आपका कोई करीबी रिलेशनशिप डिप्रेशन या फिर रिश्‍ते में दरार के कारण हुए तनाव से गुजर रहा है, तो आप यहां दिए गए आसान उपायों के साथ इससे निपट सकते हैं।
  • यदि कपल्‍स के बीच समस्‍याओं का हल नहीं हो पा रहा है या आप चीजों को संभालने में असमर्थ हो रहे हैं, तो इसके लिए आप किसी करीबी दोस्‍त, परिवारजन या अन्‍य से परामर्श ले सकते हैं।
  • कभी भी किसी समस्‍या को बड़ा बनाएं कोशिश करें कि आप बातचीत से चीजों को हल करें। रिश्तों में संवाद होना जरूरी है, क्‍योंकि इसी से आपकी सभी समस्याओं का समाधान हो सकता है।
  • जब आप किसी रिश्‍ते में होते हैं, तो वहां आपको अपनी ईगो यानि अंहकार को पीछे छोड़ना पड़ता है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि कई बार रिश्‍तों में दरार की वजह आपका अंहकार ही होता है। आप कोशिश करें कि अपने व्‍यवहार को थोड़ा सा लचीला बनाएं।
  • किसी भी सफल रिश्‍ते में, सभी रिश्‍तों को महत्‍व देना जरूरी है।
  • इसके अलावा, यदि आप रिलेशनशिप डिप्रेशन से गुजर रहे हैं, तो आप कोशिश करें कि दोस्त बनाएं और उनके साथ अपने सुख और दुख को साझा करना सीखें। ऐसा करने से आपका तनाव कम होगा।
  • उन अच्‍छे और मीठे पलों को याद करें, जिनसे आपको खुशी मिलती है। जैसे दोस्‍तों के साथ हंसी मजाक या कोई यादगार पार्टी।

इस तरह आप यहां दी गई कुछ टिप्‍स के साथ अपने रिश्‍ते को खास और बेहतर बना सकते हैं। इसके अलावा, आप किसी भी रिश्ते को बेहतर बनाने के लिए, रिश्ते के महत्व को समझें और उस महत्व को स्थिर रखें।

Read More Article On Dating In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK