Red Light Therapy: आंखों की रोशनी बढ़ाने में कारगर है 'रेड लाइट थैरेपी', जानें क्या कहता है अध्ययन

Updated at: Aug 11, 2020
Red Light Therapy: आंखों की रोशनी बढ़ाने में कारगर है 'रेड लाइट थैरेपी', जानें क्या कहता है अध्ययन

अगर आपकी आंखों की रोशनी भी कम हो गई है और आप रंगों को पहचानने में असमर्थ हैं तो जान लें आपके लिए रेड लाइट थैरेपी कैसे है फायदेमंद।

Vishal Singh
विविधWritten by: Vishal SinghPublished at: Aug 11, 2020

जैसे- जैसे उम्र बढ़ती है वैसे-वैसे आंखों की रोशनी में फर्क आने लगता है और रंगों के बीच अंतर करना मुश्किल हो जाता है। यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (University College London) के शोधकर्ता आंखों की रोशनी कम करने के उपचार के रूप में रेड लाइट थेरेपी की तलाश कर रहे हैं। अध्ययन के अनुसार, द जर्नल्स ऑफ जेरोन्टोलॉजी: सीरीज़ ए, बायोलॉजिकल साइंसेज और मेडिकल साइंसेज (The Journals of Gerontology: Series A, Biological Sciences and Medical Sciences) रेड लाइट के नियमित संपर्क से माइटोकॉन्ड्रिया और एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट की क्रियाओं के माध्यम से आंखों की रोशनी में सुधार किया जा सकता है। 

eye health

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के इंस्टीट्यूट ऑफ ऑप्थल्मोलॉजी में प्रमुख अध्ययन लेखक और तंत्रिका विज्ञान के प्रोफेसर ग्लेन जेफरी के अनुसार, ( Glen Jeffery, lead study author and professor of neuroscience at University College London’s Institute of Ophthalmology) आपके जीवनकाल में, आप अपनी रेटिना में एटीपी का 70 प्रतिशत खो देते हैं, जो आंखों की रोशनी और अहम कामों में महत्वपूर्ण गिरावट का संकेत देता है। ऐसे में आपके फोटोरिसेप्टर कोशिकाओं को वो ऊर्जा नहीं मिलती है जो उन्हें सही तरीके से काम करने के लिए चाहिए होती है। 

रेड लाइट से आंखों में हो सकता है सुधार (Red Light Can Improve Eyes)

पशु पर किए गए अध्ययनों में सामने आया कि गहरी लाल रोशनी रेटिना में रिसेप्टर्स के कामों में काफी सुधार कर सकती है, लेकिन जेफरी और उनके सहयोगियों ने पहली बार मनुष्यों में इस सिद्धांत का परीक्षण करने के लिए निर्धारित किया। जेफरी बताते हैं कि रेड लाइट थेरेपी "सरल संक्षिप्त एक्सपोजर का इस्तेमाल करके रोशनी तरंग दैर्ध्य का इस्तेमाल करती है जो रेटिना कोशिकाओं में गिरावट आई ऊर्जा प्रणाली को रिचार्ज कर ऊर्जा देने का काम करती है। अगर दूसरे शब्दों में कहें तो आपकी रेटिना लाल रोशनी को अवशोषित करती है, और माइटोकॉन्ड्रिया प्रभावी रूप से उस एटीपी का इस्तेमाल करने में सक्षम होते हैं जिससे आपको अपनी आंखों को स्वस्थ और ठीक से काम करने की जरूरत होती है।

इसे भी पढ़ें: हजारों रुपये खर्च करने पर भी नहीं गए आंखों के नीचे के काले घेरे? आजमाएं ये 5 आसान टिप और छिपाएं ये काले घेरे

अध्ययन के परिणाम आए बेहतर (Results Of Study Came Better)

शोधकर्ताओं ने पाया कि 670 एनएम प्रकाश का युवा व्यक्तियों में कोई प्रभाव नहीं था, लेकिन लगभग 40 साल में और इससे ज्यादा महत्वपूर्ण सुधार प्राप्त हुए। रंगों का पता लगाने की क्षमता 40 और उससे ज्यादा उम्र के कुछ लोगों में 20 प्रतिशत तक सुधार हुआ। कलर स्पेक्ट्रम के नीले हिस्से में सुधार ज्यादा महत्वपूर्ण थे जो उम्र बढ़ने में ज्यादा कमजोर हैं। प्रोफेसर जेफरी ने कहा "हमारे अध्ययन से पता चलता है कि दृष्टि में सुधार करना संभव है, जो कि बुजुर्ग व्यक्तियों में प्रकाश तरंग दैर्ध्य का इस्तेमाल करने वाले सरल व्यक्तियों के प्रकाश में गिरावट आई है, जो बैटरी को फिर से चार्ज करने की तरह रेटिना कोशिकाओं में गिरावट आई ऊर्जा प्रणाली को रिचार्ज करती है। आगे जेफरी ने कहा कि "एक विशिष्ट तरंग दैर्ध्य की गहरी लाल रोशनी का इस्तेमाल करके तकनीक सरल और बहुत सुरक्षित है, जो रेटिना में माइटोकॉन्ड्रिया की ओर से अवशोषित होती है जो सेलुलर फंक्शन के लिए ऊर्जा की आपूर्ति करती है।

इसे भी पढ़ें: आंखों में जलन और खुजली से परेशान? आंखों को रगड़ें नहीं ट्राई करें ये 5 घरेलू उपचार और पाएं चंद मिनटों में आराम

कैसे काम करती है रेड लाइट थैरेपी (How Red Light Therapy Works)

रेड लाइट यानी लाल रोशनी को माइटोकॉन्ड्रिया को मजबूत करने वाली कोशिकाओं में जैव रासायनिक प्रभाव पैदा करके काम करने दिया जाता है। आपको बता दें कि माइटोकॉन्ड्रिया कोशिका का पावरहाउस है, यह वह जगह है जहां सेल्स की ऊर्जा तैयार की जाती है। सभी जीवित चीजों की कोशिकाओं में पाए जाने वाले ऊर्जा-अणु को एटीपी (एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट) कहा जाता है।

ये आरएलटी (RLT) लेजर या तीव्र स्पंदित प्रकाश से काफी अलग होती है क्योंकि यह त्वचा की सतह को बिना नुकसान पहुंचाए आपकी आंखों का इलाज करती है। लेजर और स्पंदित प्रकाश चिकित्सा त्वचा की बाहरी परत को नियंत्रित क्षति का कारण बनकर काम करती है, जो तब ऊतक मरम्मत को प्रेरित करती है। 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK