आरोग्‍य सेतु ऐप को कैसे पता चलता है कि आपके आसपास कोरोना वायरस है, जानिए ऐप के काम करने का तरीका

Updated at: Jul 13, 2020
आरोग्‍य सेतु ऐप को कैसे पता चलता है कि आपके आसपास कोरोना वायरस है, जानिए ऐप के काम करने का तरीका

आरोग्‍य सेतु एप कोरोना वायरस का पता कैसे लगाता है, ये बात शायद ही किसी को पता होगी। आइए हम आपको बताते हैं कि यह कैसे काम करता है।

Atul Modi
विविधWritten by: Atul ModiPublished at: Jul 13, 2020

कोरोना वायरस (Coronavirus) को डिटेक्‍ट करने वाले भारत सरकार के आरोग्‍य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) को अब तक 14 करोड़ से ज्‍यादा लोगों ने डाउनलोड कर लिया है। नागरिकों को कोरोना वायरस से सुरक्षित रखने के लिए सरकार ने 2 अप्रैल को आरोग्‍य सेतु ऐप लांच किया था। सरकार ने इसे कई जगहों पर डाउनलोड करना अनिवार्य किया है। आरोग्‍य सेतु कोरोना वायरस (COVID-19) का पता लगाने के साथ सेल्‍फ असेसमेंट (Self Assessment Test) और कोरोना वायरस से जुड़ी जरूरी जानकारी (Coronavirus Update) मुहैया कराता है।

आरोग्य सेतु ऐप क्या है?

Aarogya-setu-app

Aarogya Setu App एक मोबाइल एप्‍लीकेशन है, जो COVID-19 के संभावित खतरों से अवगत कराता है। यह ऐप ब्‍लूटूथ बेस्‍ड कांटैक्‍ट ट्रेसिंग तंत्र का उपयोग करता है। यह उन सभी लोगों का डेटा रिकॉर्ड करता है, जिनके संपर्क में आप आते हैं। यदि आप किसी कोविड-19 पॉजिटिव के संपर्क में आते हैं तो ये एप्‍लीकेशन आपको सचेत करता है। साथ ही यह बचाव संबंधी जानकारी भी देता है। इससे यह कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में मदद करता है।

आरोग्य सेतु ऐप 12 भाषाओं में और Android, iOS और KaiOS प्लेटफार्मों पर उपलब्ध है। एक बार डाउनलोड किए जाने के बाद, उपयोगकर्ताओं को अपने, ब्लूटूथ पर स्विच करना होगा और अपने लोकेशन के बारे में बताना होगा। यह एप्‍लीकेशन आईसीएमआर द्वारा अनुमोदित उन प्रयोगशालाओं की सूची प्रदान करता है जहां कोविड-19 परीक्षण की सुविधा है। यह पूरे देश में कोरोना के कुल एक्टिव मामले, ठीक हुए लोग और मरने वालों संख्‍या राज्‍यवार उपलब्‍ध कराता है।

इसे भी पढ़ें: वायरल फीवर के लक्षणों को 'कोरोना' समझने की भूल तो नहीं कर रहे आप, एक्‍सपर्ट से जानिए दोनों में अंतर

आरोग्य सेतु ऐप कैसे काम करता है?

आपके फोन में मौजूद Aarogya Setu App ब्लूटूथ के जरिए एक रेंज के भीतर आने वाले अन्य उपकरणों का पता लगाता है जिनमें भी यही ऐप काम कर रहा होता है। जब ऐसा होता है तो दोनों फोन सुरक्षित रूप से एक डिजिटल इंटरैक्शन का आदान-प्रदान करते हैं, जिसमें समय, निकटता, स्थान और अवधि शामिल होती है। यह डेटा सभी व्यक्तियों के मोबाइल फोन में इकठ्ठा होता है। अगर आप पिछले 14 दिनों में किसी कोरोनोवायरस पॉजिटिव मरीज के संपर्क में आए हैं, तो ये ऐप उस व्यक्ति के साथ आपकी निकटता के आधार पर संक्रमण के जोखिम की गणना करता है। उसके बाद ये ऐप आपको सही कदम उठाने की सलाह देता है। आपको क्या करना चाहिए ये आपके एप्लिकेशन की होम स्क्रीन पर दिखाई देना शुरू हो जाता है। ये एप्लिकेशन आपको आवश्यकतानुसार और आवश्यक चिकित्सा जानकारी भी प्रदान करता है।

इसे भी पढ़ें: WHO ने भी माना, हवा के जरिए भी फैल सकता है कोरोना वायरस, पहले किया था इनकार

कोरोना वायरस के अब तक के कुल मामले

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के मुताबिक, भारत में कोरोना वायरस संक्रमण बढ़ता जा रहा है। देश में अब तक कोरोना वायरस से 23 हजार 174 लोगों की मौत हो चुकी है। 3 लाख से ज्‍यादा लोग अभी भी संक्रमित हैं। 5 लाख 53 हजार 470 लोग ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना वायरस का रिकवरी रेट 60 प्रतिशत से ज्‍यादा है। देश में दिल्‍ली और मुंबई कोरोना वायरस से सबसे ज्‍यादा प्रभावित राज्‍य हैं। 

Read More Articles On Coronavirus Update In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK