Running And Breast Health:जानें आपकी ब्रेेस्‍ट हेेेेेल्‍थ को कैसे प्रभावित करती है रनिंग

Updated at: Sep 07, 2020
Running And Breast Health:जानें आपकी ब्रेेस्‍ट हेेेेेल्‍थ को कैसे प्रभावित करती है रनिंग

क्‍या आप जानते हैं कि जब आप दौड़ते हैं, तो इसका असर आपके ब्रेस्‍ट हेल्‍थ पर भी पड़ता है। आइए यहां जानिए कैसे?

Sheetal Bisht
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Sheetal BishtPublished at: Sep 07, 2020

महिलाएं, जो कि रनिंग करती हैं या र्स्‍पोट्स खेलते हैं, तो यह लेख उनके लिए है। आपने अक्‍सर सुना होगा कि फिट और स्वस्थ रहने के लिए दौड़ना सबसे अच्छा व्यायाम है। जिसमें कि बहुत सी महिलाएं अपने शरीर को फिट रखने के लिए रोजाना रनिंग करती है। लेकिन इस सबके बीच बड़ी चुनौती जो महिलाओं के सामने होती है, वह है उनके ब्रेस्‍ट या स्तन। ब्रेस्‍ट का आकार ठीक-ठाक या बड़ा होने के कारण वह महिलाओं के दौड़ने को एक मुश्किल काम बनाते हैं। वे ऊपर और नीचे, बाएँ और दाएँ अजीब तरह से हिलने की वजह से आपको कई बार असहज महसूस कराते हैं। आइए यहाँ आप ब्रेस्‍ट हेल्‍थ और रनिंग के बारे में कुछ रोचक तथ्‍य जानें, जिनसे कि आप में से अधिकांश लोग शायद अनजान हैं।

जितना महसूस करते हैं उससे कहीं अधिक हिलते हैं

क्या आप जानते हैं कि आपके ब्रेस्‍ट, जितना आप महसूस करते हैं उससे कई ज्‍यादा हिलते हैं। जी हां, ब्रेस्‍ट मूवमेंट केवल ऊपर-नीचे होने तक ही सीमित नहीं है। वे आगे, पीछे और साथ ही बग़ल की ओर भी हिलते-डुलते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि ब्रेस्‍ट में मांसपेशियां नहीं होती हैं लेकिन इनमें टिश्‍यू का एक द्रव्यमान होता है। 

running and breast health

आपकी बॉडी ब्रेस्‍ट को सर्पोट नहीं करती 

दौड़ते समय, आपके ब्रेस्‍ट को आपके शरीर से पर्याप्त सहायता नहीं मिलती है। यही वजह है कि भागते या दौड़ते समय और शारीरिक गतिविधियों के दौरान, वे असंगत रूप से ऊपर  और नीचे की ओर हिलते हैं। यह इनकी नरम संरचना के कारण होता है। 

इसे भी पढ़ें: वैजाइना में आने वाली दुर्गंध से हैं परेशान, तो इससे छुटकारा पाने के लिए रोज करें ये 5 काम

नियमित रूप से दौड़ते हैं तो ब्रेस्‍ट सिकुड़ जाते हैं

चूंकि ब्रेस्‍ट एक फैट वाले रेशेदार टिश्‍यू होते हैं, इसलिए दौड़ने से वे सिकुड़ जाते हैं। व्यायाम के रूप में शरीर का समग्र फैट कम होता है, यह आपके ब्रेस्‍ट के फैट को भी कम करता है। यही कारण है कि नियमित रूप से दौड़ने पर आपके ब्रेस्‍ट साइज या स्‍तनों का आकार कम हो जाता है । हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि दौड़ने से केवल आपके ब्रेस्‍ट ही  प्रभावित होंगे, बल्कि यह पूरे शरीर से फैट को कम करेगा।

एक अच्छी स्पोर्ट्स ब्रा है जरूरी 

एक अच्छी स्‍पोर्ट्स ब्रा एक विकल्प नहीं है, लेकिन यह आपके ब्रेस्‍ट हेल्‍थ के लिए आवश्यक है। जैसा कि हमने आपको पहले भी बताया है कि ब्रेस्‍ट सभी संभावित दिशाओं में नियंत्रित रूप से हिलते हैं, यह उन्हें आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए महत्वपूर्ण है। लेकिन एक अच्छी फिटिंग वाली स्पोर्ट्स ब्रा के बिना दौड़ना आपके स्तनों के लिए अच्छा नहीं है। 

breast health

ब्रेस्‍ट में दर्द को न करें नजरअंदाज

एक खराब-फिटिंग की ब्रा, दौड़ने के दौरान या बाद में ब्रेस्‍ट में दर्द का प्रमुख कारण बन सकती है। बहुत सी महिलाओं को लंबे समय के बाद ब्रेस्‍ट में दर्द की शिकायत होती है। हालांकि, यह दर्द आपके मासिक धर्म या पीरियड्स के कारण भी हो सकता है लेकिन हर बार नहीं। मामूली दर्द ठीक है, लेकिन अगर आप असहनीय दर्द महसूस करते हैं, तो समझिए आपको अपने ब्रेस्‍ट की देखभाल करने की आवश्यकता होती है। आप थोड़ी देर या कुछ दिनों के लिए दौड़ना बंद भी कर सकते हैं और कुछ ऐसे वर्कआउट का विकल्प चुन सकते हैं, जो आपके ब्रेस्‍ट के लिए कम कठोर हों और उन्हें ज्यादा प्रभावित न करें। 

इसे भी पढ़ें:  पीरियड्स से पहले या बुखार, सिरदर्द या मतली आना हो सकते है पीरियड फ्लू के लक्षण, जानें क्‍या है ये

रनिंग करने वाले कैंसर से सुरक्षित रह सकते हैं 

रनिंग करने वाले ब्रेस्‍ट कैंसर से सुरक्षित रहते हैं, क्‍यांकि कैंसर की रोकथाम शारीरिक रूप से सक्रिय रहने से संबंधित है। ब्रेस्‍ट कैंसर के अस्तित्व के लिए, दौड़ना सिर्फ चलने से कहीं बेहतर है।

हैवी ब्रेस्‍ट आपके दौड़ने की भावना को कम करते हैं 

बहुत सारी महिलाएं अपने भारी स्तनों के कारण सिर्फ दौड़ने से बचती हैं। वे अपने ब्रेस्‍ट के कारण शर्म महसूस करती हैं। इतना ही नहीं, यह न केवल असुविधा का कारण बनता है, बल्कि जब आप चलते हैं तो आपको शर्मिंदगी महसूस करवा सकते हैं।

Read More Aertciel On Women's Health In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK