खटमल के काटने पर शरीर को हो सकती हैं ये समस्याएं, एक्सपर्ट से जानें बचाव

Updated at: Jan 15, 2021
खटमल के काटने पर शरीर को हो सकती हैं ये समस्याएं, एक्सपर्ट से जानें बचाव

अगर आपके घर मे ंखटमल हैं तो सतर्क हो जाए क्योंकि इनके काटने पर शरीर मे ंअनेक समस्याएं हो सकती हैं। पहचानें लक्षण और कारण

Garima Garg
अन्य़ बीमारियांWritten by: Garima GargPublished at: Jan 14, 2021

घरों में कॉकरोच के अलावा खटमल होना आम बात है। ये दोनों जीव ज्यादातर गंदगी में पाए जाते हैं। जहां कॉकरोच जमीन पर पाए जाते हैं वहीं खटमल बिस्तरों में मिलते हैं। दोनों ही जीवों का काम घर में गंदगी फैलाना है। बता दें कि अगर आपके आसपास खटमल हैं तो वे आपके सोने के बाद बिस्तर के किनारे या दीवारों की दरारों से बाहर आ जाते हैं और शरीर से चिपक कर खून चूसते हैं, जिसके कारण शरीर में कई तरह के रोग हो सकते हैं। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि घरों में खटमल किन कारणों से होते हैं और इनके काटने पर शरीर में कौन-कौन से रोग हो सकते हैं। साथ ही जानेंगे कि हम खटमल से कैसे खुद को और अपने घर को बचा सकते हैं। पढञते हैं आगे...

खटमल होने के कारण causes of Bed Bugs

 किसी के घर में यदि केवल एक खटमल हो तब भी वह अन्य खटमल को पैदा कर सकती है। बता दें कि ये खटमल एक दिन में तीन से पांच अंडे दे सकती हैं। ऐसे ये एक दिन में पांच गुना बढ़ सकते हैं। इन्हें अनदेखा करना आपकी भूल भी हो सकती है। अगर इसे अनदेखा किया गया तो हफ्ते भर में ये अपनी संख्या बढ़ा देती है। खटमल की गिनती उन जीवों में की जाती है जो महीने में केवल एक बार खाते हैं उसके बावजूद 1 महीने तक जी सकते हैं। खटमल निम्न कारणों से हो सकते हैं-

1- खटमल के पैदा होने का कारण गंदगी है। इनका जन्म गंदी जगह पर होता है। वहीं अगर कोई व्यक्ति यात्रा से लौट कर आया है तो अपने द्वारा लाए गए सामान का इस्तेमाल धोकर करें जो कि खटमल सामान में छुपकर एक कपड़े से दूसरे कपड़े तक पहुंच सकते हैं।

नोट- खटमल जू की तरह एक शरीर से दूसरे शरीर पर नहीं जाते हैं।

इसे भी पढ़ें- गुम चोट क्या है और कैसे पहचानें इसे? एक्सपर्ट से जानें गुम चोट के लक्षण, कारण और बचाव के तरीके

घर पर खटमल होने के संकेत

इसके आम लक्षणों में खुजली आती है। ऐसे में यदि आपको सोकर उठते ही खुजली लगे तो समझ जाएं कि आपके आसपास खटमल हो सकते हैं। इसके अलावा आसपास खटमल होने के निम्न लक्षण नजर आ सकते हैं-

1- यदि आपके चादर, बिस्तर, कपड़े पर जंग जैसे निशान हों तो हो सकता है कि ये निशान खटमल के मल-मूत्र के हों। इसके माध्यम से भी आप अनुमान लगा सकते हैं कि खटमल आपके आसपास हैं।

2- यदि आपको अपने बिस्तर, चादर या कपड़ों पर खून के धब्बे दिखाई दें तो हो सकता है कि वो निशान खटमल के कारण बने हों। 

3- बता दें कि खटमल की गंध ग्रंथियों के कारण घर में तेज गंध फैल जाती है, इसके माध्यम से भी हम अनुमान लगा सकते हैं कि आपके आसपास खटमल है।

इसे भी पढ़ें- नाखून के आसपास सूजन हो सकते है नाखूनों के अंदर बढ़ने का संकेत, जानें कारण और इलाज

खटमल के कारण शरीर में होने वाली बीमारियां

वैसे तो खटमल का काटना कोई बड़ी बात नहीं है और ना इससे कोई गंभीर रोग होता है लेकिन थोड़ी सी लापरवाही इसे गंभीर रूप दे सकती है। खटमल के कारण होने वाली समस्याएं निम्न प्रकार हैं-

अनिद्रा की समस्या

खटमल के काटने पर लोग मानसिक रोग यानि तनाव के शिकार हो जाते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उनके मन में डर बैठ जाता है और वे तनाव से ग्रस्त हो जाते हैं। यही कारण होता है कि वे ठीक प्रकार नहीं सो पाते और जब उनकी नींद पूरी नहीं होती इसका प्रभाव न केवल उनकी कार्य क्षमता पर पड़ता है बल्कि उनकी चिंता भी बढ़ने लगती है। और वह अनिद्रा के शिकार हो जाते हैं।

एलर्जिक शॉक

जिन लोगों का इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होता है, उनको पहले से ही एलर्जी, अस्थमा जैसी बीमारियां हो सकती हैं। ऐसे में वे एलर्जिक शॉक का शिकार हो जाते हैं। अगर इन लोगों को खटमल काट ले तो उन्हें जल्दी इलाज करवाना चाहिए। अगर वे इसे नजर अंदाज करते हैं तो गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। 

खुजली की समस्या

खटमल के काटने पर खुजली महसूस होना आम बात है। लेकिन अगर कोई खटमल एख ही जगह पर बार-बार काटता रहे तो ये आम बात नहीं है। ऐसे में उस हिस्से पर तेज खुजली के साथ लाल निशान बन जाते हैं, जिसके कारण त्वचा खीची हुई महसूस होती है।

एलर्जिक रिएक्शन

खटमल के काटने पर हर व्यक्ति को अलग-अलग परेशानी होती है। खटमल के काटने पर जहां कुछ लोगों में लक्षण नजर नहीं आते वहीं कुछ लोगों में गंभीर लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इन लक्षणों में लाल चकते, त्वचा में जलन, लाल दाने आदि आ सकते हैं। 

खटमल के काटने पर अन्य संक्रमण

वैसे जो खटमल के काटने से किसी भी तरह का इन्फेक्शन शरीर में नही फैलता है लेकिन जब खुजली लगती है तो कभी-कभी उस स्थान पर घाव हन जाते हैं। और अगर उन घाव का समय रहते इलाज नहीं किया गया तो वह संक्रमण का रूप ले सकता है, जिससे इंफेक्शन फैल सकता है। ऐसे में समय पर इलाज करवाना जरूरी है।

त्वचा पर लालिमा के साथ-साथ फफोले पढ़ना

पहले भी बताया है कि खटमल के कारण त्वचा लाल हो जाती है। वहीं कुछ लोगों को त्वचा पर फफोला होने की समस्या भी देखी गई है। वैसे तो लाल दाने हों या फफोले ये दोनों खुद ब खुद ठीक हो जाते हैं लेकिन बता दें कि इनके ठीक होने के बाद में खुजली काफी समय तक बनी रहती है।

चगास की बीमारी

एक्सपर्ट बता दें कि यदि खटमल काट लेता है तो लोगों को चगास रोग भी हो जाता है। हालांकि अभी तक इस तरह का कोई मामला सामने नहीं आया है लेकिन इस जीव के काटने से संभावना बनी रहती है। बता दें कि खटमल के आंतों में 40 से ज्यादा रोगाणु पाए जाते हैं जो आपके खुले घाव के संपर्क में जल्दी आ सकते हैं, जिससे ये बीमारी हो सकती है।

खटमल से बचाव

खटमल से बताव के लिए अपने आसपास सफाई बेहद जरूरी है। इसके अलावा निम्न बातों का रखें ख्याल

1- खटमल को हटाने के लिए अपने बिस्तर, चादर या कपड़े को गर्म पानी से धोएं। साथ ही इन्हें तेज धूप भी दिखाएं। इसके अलावा जूते, पालतू जानवरों को अपने बिस्तर से दूर रखें।

2- बता दें कि ज्यादातर खटमल आपके घर की दीवारों पर होने वाली दरारों में छुपे हुए होते हैं। ऐसे में इन दरारों को समय-समय पर भरते रहें। इससे आप खटमल को दूर रख पाएंगे।

3- अपने गद्दों को समय-समय पर वैक्यूम करते रहें। साथ ही उन्हें ब्रश की मदद से साफ करें।

4- जहां पर आप सोएं उसके आसपास के हिस्से को नियमित रूप से साफ करते रहें। गंदगी को आसपास जमा ना होने दें।

नोट -खटमल 1 साल तक बिना कुछ खाए जीवित रह सकते हैं। ऐसे में अपने बिस्तर के साथ खुद की देखभाल करना भी आपकी जिम्मेदारी है। जब कभी अपने बिस्तर को लंबे समय बाद निकालें तो गर्म पानी से धोने के साथ उन्हें तेज धूप भी दिखाएं।

ये लेख लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज एंड एसोसिएट हॉस्पिटल के डर्मिटोलॉजिस्ट डॉ. अंकुर सरीन से बातचीत पर आधारित है।

Read More Articles on other diseases in hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK