बच्चों से लेकर बूढ़ों तक के लिए बेहद फायदेमंद है अलसी के बीज, जानें कैसे रखते हैं आपके परिवार को फिट

Updated at: Apr 03, 2020
बच्चों से लेकर बूढ़ों तक के लिए बेहद फायदेमंद है अलसी के बीज, जानें कैसे रखते हैं आपके परिवार को फिट

अलसी के बीज में मौजूद पौष्टिक तत्व आपको फिट रखने के साथ-साथ कई बीमारियों से भी दूर रखते हैं, जानें इसके फायदे। 

 

Reviewed by: डॉ. स्वाती बाथवाल, इंटरनैशनल स्पोर्ट्स डायटीशियनPublished at: Apr 03, 2020Written by: Jitendra Gupta

हम यहां गोजी बेरी,  एकाई बेरी, पाइन नट या चेस्टनट के बारे में बात नहीं कर रहे हैं, बल्कि हम इस लेख के जरिए आपको अलसी के लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं। भारत में, इस सुपर सीड को अक्सर अलसी के नाम से जाना जाता है। ये बीज सुपरमार्केट में किसी भी अन्य महंगे बीज की तुलना में काफी कम कीमत पर उपलब्ध होते हैं। आप इन्हें अपने आस-पास की किराने की दुकान से भी खरीद सकते हैं। लिगनन एक प्रकार का फाइबर है, जो कि असली के बीजों में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। कई शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि अलसी के बीज में मौजूद लिग्नान प्रोस्टेट कैंसर को रोक सकता है। इतना ही नहीं ये ब्लड प्रेशर को कम करने में भी मदद करता है। साथ ही ये बीज ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने, कब्ज से राहत दिलाने, ब्लड शुगर को बेहतर बनाने और शरीर की सूजन को कम करने का काम करता है। शायद आप इस बात को नहीं जानते होंगे कि शाकाहारी लोगों में अक्सर ओमेगा 3 कम होता हैं, इसलिए उन्हें एक दिन में लगभग 1 बड़ा चम्मच चिया बीज और 1 बड़ा चम्मच अलसी के बीज को मिलाकर सेवन करना चाहिअ ताकि वह अपनी दैनिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकें। ऐसा करने से आप अपने शरीर में सूजन,  दर्द को कम कर सकते हैं। 

flaxseed

डोज :  स्वाति के अनुसार, किसी भी व्यक्ति को रोजाना एक बड़ी चम्मच अलसी के बीजों का सेवन करना चाहिए। 

अलसी बीजों के लाभ: इनमें ओमेगा 3 फैटी एसिड, घुलनशील फाइबर होता है, जो आपके शरीर के लिए बेहद जरूरी है। 

कैसे किया जा सकता है इसका उपयोग

अलसी के बीज प्राकृतिक रूप से छिलके के साथ आते हैं, जिसका मतलब ये है कि अगर आप ये बीज खाते हैं तो आप इन्हें पूर्ण से नहीं पचा पाएंगे। और ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इनके बाहर का छिलका आपके पाचन तंत्र को ऐसा करने से रोकता है। अलसी का सेवन करने का सबसे अच्छा तरीका है कि उन्हें पाउडर के रूप में पीस लिया जाए। जी हाँ, आपने बिल्कुल सही पढ़ा, ये अलसी के सेवन का सबसे अच्छा तरीका है, जिससे शरीर भी इसे अच्छी तरह से अवशोषित कर लेता है और इसका संपूर्ण फायदा भी हमारे शरीर को मिलता है। ये बीज एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होते हैं और इन्हें कमरे के तापमान में 4 महीने तक बिल्कुल हवाबंद डिब्बे में रखा जा सकता है। हम आपको अलसी तेल के बजाए, अलसी के बीजों का पाउडर प्रयोग करने की सलाह देते हैं क्योंकि तेल प्रसंस्करण के दौरान तीव्र गर्मी से गुजरता है, जो इसके एंटीऑक्सिडेंट को खत्म कर देता है। इसके अलावा इसमें मौजूद फाइबर के बारे में सोचें क्योंकि तेल में फाइबर नहीं होता है।

इसके अलावा अलसी के पाउडर का इस्तेमाल कहीं भी किया जा सकता है। आप इसे अपने सलाद, दाल, सूप, नाश्ते, सब्जियों पर छिड़क कर खा सकते हैं या फिर इसे आप अपने चपाती के आटे में भी मिला सकते हैं। अगर आप अपने बच्चों को भी अलसी के बीज का सेवन कराना चाहते हैं तो इसके पाउडर को उनके दूध में मिला सकते हैं। ऐसा करने से बच्चों को यह भी नहीं पता चलेगा कि ये एक गिलास दूध उन्हें सुपरमैन की तरह महसूस करने वाला है! अगर आप मफिन या केक जैसे फूड अपने बच्चों के लिए तैयार कर रहे हैं तो इसमें फ्लैक्ससीड पाउडर मिलाएं। उदाहरण के लिए, एक मफिन में 1 बड़ा चम्मच फ्लैक्ससीड पाउडर डाल सकते हैं और ऐसा करने से आप दिन भर के लिए जरूरी ओमेगा 3 की आवश्यकताओं को पूरा कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ेंः डाइट में जिंक शामिल कर इम्यून सिस्टम को बनाएं इतना मजबूत ताकि न हो वायरस का शिकार, जानें जिंक के अच्छे स्त्रोत

अलसी के बीज से बने बिस्कुट और क्रेकर

सामग्रीः  200 ग्राम अलसी पाउडर, 250 एमएल पानी, अपनी पसंद के मसाले: मिर्च, अजवायन, नमक, लहसुन और अदरक पाउडर। 

बनाने का तरीका:

सभी सामग्रियों को मिलाएं। बेकिंग शीट पर आटा फैलाएं और 30 टुकड़ों में आटा काट लें।  200 डिग्री सेल्सियस पर 20 मिनट के लिए इसे बेक करें।

इन क्रेकर को आप दही या हरी चटनी, टमाटर की चटनी में डुबोकर खा सकते हैं।

अगर क्रेकर बनाना मुश्किल लग रहा है तो आप इसका मिल्कशेक भी बना सकते हैं। 

सामग्रीः   ½ कप दूध (दूध का प्रकार एक व्यक्तिगत पसंद है), 1 बड़ा चम्मच अलसी पाउडर, आधा पका हुआ केला, 1-2 खजूर, कोको पाउडर का 1 बड़ा चम्मच। 

इसे भी पढ़ेंः Natural Antibiotics: रसोई में मौजूद 7 चीजें करती हैं नेचुरल एंटी-बायोटिक का काम, जानें किन रोग में आती हैं काम

शेफ और होम कुक के लिए टिप्स

घर पर खाना बनाने वाले शेफ, अलसी पाउडर को कॉर्नफ्लोर और अंडे के विकल्प के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आप कॉर्नफ्लोर के बजाय सॉस में अलसी के बीजों का पाउडर मिला सकते हैं। यह ओमेगा 3 फैटी एसिड को अपनी डाइट में शामिल करने का एक अच्छा तरीका है। जब आप फ्लैक्ससीड पाउडर को अंडे की प्रतिकृति के रूप में इस्तेमाल करते हैं, तो फ्लैक्ससीड पाउडर के 1 चम्मच के साथ 3 बड़े चम्मच पानी का प्रयोग करें।

अलसी के बीजों में कोलेस्ट्रॉल कम होता हैं जबकि ओमेगा 3 और घुलनशील फाइबर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। यह न केवल कोलेस्ट्रॉल को कम करता है बल्कि आपके आंतों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी मदद करता है। अलसी के बीज बेहद सस्ते हैं और इनका सेवन आपके लिए सुरक्षित है। अलसी के बीज से बने पाउडर का सेवन करने पर बोरियत महसूस न करें बल्कि  इस लेख को पढ़ें। बस एक चम्मच फ्लैक्ससीड पाउडर का सेवन आपके लिए काफी अच्छा साबित हो सकता है। हमें अपनी डाइट में अन्य बीजों को भी शामिल करने की आवश्यकता होती है।

Read more articles on Healthy Diet In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK