Keratosis Pilaris: डर्मेटोलॉजिस्ट से जानें त्‍वचा में दानें केराटोसिस पिलारिस और के कारण, लक्षण और इलाज

Updated at: Sep 11, 2020
Keratosis Pilaris: डर्मेटोलॉजिस्ट से जानें त्‍वचा में दानें केराटोसिस पिलारिस और के कारण, लक्षण और इलाज

केराटोसिस पिलारिस एक स्किन प्राब्‍लम है, जो आपकी त्‍वचा पर दाने, खुरदुरे पैच और ड्राइनेस जैसे लक्षणों के साथ दिखती है। आइए यहां इस बारे में सबकुछ जाने

Sheetal Bisht
त्‍वचा की देखभालWritten by: Sheetal BishtPublished at: Sep 11, 2020

केराटोसिस पिलारिस एक त्वचा की स्थिति है, जो सूखे, खुरदरे पैच और दानेदार घमोरियर जैसी त्वचा के लक्षणों के साथ दिखाई देती है। मूल रूप से, यह समस्‍या तब होती है, जब डेड स्किन सेल्‍स रोम छिद्रों को बंद या रोकती हैं, फिर अक्सर लाल या भूरे रंग में त्‍वचा पर दाने दिखते हैं। यह बिल्कुल संक्रामक नहीं है और आमतौर यह आपके ऊपरी हाथों को प्रभावित करती है। इसके अलावा, जांघ या गाल में भी केराटोसिस पिलारिस दिखाई दे सकता है, लेकिन यह बहुत दुर्लभ है। यह बच्चों और किशोरों में सबसे आम है और यह आमतौर पर आपके बड़े होने के साथ अपने आप गायब भी हो जाता है। आइए यहां डॉ. निवेदिता दादू, डर्मेटोलॉजिस्ट, फाउंडर और चेयर पर्सन, दादू स्किन क्‍लीनिक आपको केराटोसिस पिलारिस के बारे में विस्‍तार से जानें।  

डॉ. निवेदिता दादू कहती हैं, केराटोसिस पिलारिस की समस्‍या ज्यादातर 30 साल की उम्र तक अपने आप गायब हो जाती है। अब तक, इसका कोई सटीक इलाज उपलब्ध नहीं है, लेकिन हम केराटोसिस पिलारिस को रोकने की कोशिश कर सकते हैं। आप एक मॉइस्चराइजर और क्रीम का उपयोग कर सकते हैं, जो आपकी त्वचा पर इसके लक्षणों को कम करने में प्रभावी हो सकती हैं। आप इसके लिए एक स्किन एक्‍सपर्ट की मदद ले सकते हैं। लेकिन आइए पहले आप यहां, केराटोसिस पिलारिस के कारण भी जान लें। 

Keratosis Pilaris

केराटोसिस पिलारिस के कारण  

केराटोसिस पिलारिस का मुख्य कारण केराटिन का निर्माण है। एक प्रोटीन है, जो हानिकारक पदार्थों और संक्रमण से त्वचा की रक्षा करता है। केराटिन एक कर्कश प्लग बनाता है, जो त्वचा की सतह पर बाल कूप को ब्लॉक करता है। इन प्लगों के कारण त्‍वचा में खुरदरापन और केराटोसिस पिलारिस की समस्‍या होती है। हमारे शरीर के बालों में मौजूद केराटिन रोम छिद्रों में बंद हो जाता हैं, जो बढ़ते बालों के रोम की ओपनिंग ब्‍लॉक कर देते हैं। यह केराटोसिस पिलारिस के गठन का कारण बनता है। केराटोसिस पेलारिस का सटीक कारण स्किन एक्‍सपर्ट के लिए भी अज्ञात है, लेकिन यह त्वचा की स्थिति जैसे एटोपिक डर्मटाइटिस और आनुवंशिक रोग के साथ जुड़ा हो सकता है।

केराटोसिस पिलारिस लक्षण

केराटोसिस पिलारिस के सबसे आम लक्षण खुरदरी और ड्राई स्किन है। इसके अलावा, खुजली, बम्प्स, फुंसी या चकत्ते भी इसके आम लक्षण हैं। यह अधिक ध्यान देने योग्य है कि यह नमी कम होने के कारण और मौसमी बदलाव के दौरान अकिध खराब होता है। 

इसे भी पढ़ें: स्किन एक्‍सपर्ट से जानें त्‍वचा के लिए क्‍या है बेस्‍ट नाइट स्किन केयर रूटीन

Keratosis Pilaris Causes

जैसा कि हमने आपको ऊपर भी बताया है कि केराटोसिस के लिए कोई ज्ञात इलाज या उपचार उपलब्ध नहीं है। यह उम्र के साथ अपने आप ठीक या साफ हो जाता है। लेकिन इसे रोका या कम किया जा सकता है। जिससे कि खुजली और ड्राई स्किन को शांत करने और केराटोसिस की उपस्थिति में सुधार किया जा सकता है। आप स्किन एक्‍सपर्ट की सलाह के बाद कोई मॉइस्चराइजिंग लोशन या क्रीम का उपयोग कर सकते हैं। 

इसके अलावा, किसी भी अवांछित दुष्प्रभाव से बचने के लिए आप इस्‍तेमाल करने वाले प्रॉडक्‍ट में दो सबसे आम सामग्री का ध्‍यान रखें। एक मॉइस्चराइजिंग क्रीम में यूरिया और लैक्टिक एसिड होता है। वे मृत त्वचा को ढीला करने और हटाने में मदद करते हैं। यह स्किन सेल्‍स और ड्राई स्किन सेल्‍स को नरम करती हैं। 

इसके अलावा, आप इसके लिए कोई भी ऐसी क्रीम लगा सकता है जिसमें अल्फा हो-हाइड्रॉक्सी एसिड, लैक्टिक एसिड, सैलिसिलिक एसिड या यूरिया हो। लेजर ट्रीटमेंट का उपयोग भी इसके उपचार के लिए किया जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें:  त्‍वचा पर नेचुरल ग्‍लो लाने और बालों कर हर प्राब्‍लम का इलाज है छाछ, जानें उपयोग का तरीका

Keratosis Pilaris Symptoms

केराटोसिस को रोकने के लिए टिप्‍स 

  • केराटोसिस पिलारिस के कारण दिखाई देने वाले छोटे दानों या चकत्तों को खरोंचें या रगड़ें नहीं। 
  • गर्म पानी से स्‍नान करें। यह त्वचा के रोमछिद्रों को ढीला करने में मदद कर सकता है।
  • हमेशा बंप्‍स को संभावित रूप से हटाने के लिए एक कठोर ब्रश के साथ त्वचा को धीरे से रगड़ें।
  • शॉवर के बाद हमेशा एक मॉइश्चराइज़र का इस्तेमाल करें।
  • तंग कपड़े पहनने से बचें क्योंकि इससे घर्षण हो सकता है और त्वचा में जलन हो सकती है। 
  • त्वचा को रोजाना एक्सफोलिएट करें। इससे त्‍वचा की स्थिति में सुधार करने में मदद मिलती है। 

Read More Article On Skin Care In Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK