इन 10 सीड्स को शामिल करें अपनी डाइट में, जानें इन्हें इस्तेमाल करने का तरीका

Updated at: Dec 08, 2020
इन 10 सीड्स को शामिल करें अपनी डाइट में, जानें इन्हें इस्तेमाल करने का तरीका

फ्राइड स्नैक्स को सब पसंद करते हैं। लेकिन एक्सपर्ट इन्हें हेल्दी स्नैक्स नहीं मानते हैं। ऐसे में यहां दिए कुछ सीड्स आपके बेहद काम आ सकते हैं।

Garima Garg
स्वस्थ आहारWritten by: Garima GargPublished at: Dec 03, 2020

अक्सर आपने देखा होगा कि लोगों को थोड़े-थोड़े समय के अंतराल में भूख लगने लगती हैं। ऐसे में वे फ्राइड स्नेक्स को अपनी डाइट में शामिल कर लेते हैं लेकिन क्या यह हेल्दी तरीका है? एक्सपर्ट की मानें तो नहीं, अगर आप अपनी डाइट में हेल्दी चीजों को शामिल करना चाहते हैं तो आप सीड्स आपके लिए बेहतर विकल्प है। आज हम इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे कि शरीर के लिए सीड्स कितने फायदेमंद हैं? और इनका कैसे इस्तेमाल किया जाता है। बता रही हैं अपोलो हॉस्पिटल की डाइटीशियन दीपिका रानी। पढ़ते हैं आगे... 

seeds nad nuts

खरबूजे के बीज

खरबूजे को गर्मियों में खाने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती। ऐसे ही इसके बीज भी बेहद फायदेमंद है। इनके बीजों को मेवे के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। बहुत सी ऐसी मिठाईयां हैं जिनमें इनके बीजों का उपयोग किया जाता है। बता दें कि खरबूजे के बीज में ओमेगा 3 फैटी एसिड मौजूद होता है जो दिल के रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद है। इसके अलावा खरबूजे के बीज में विटामिंस ए, ई भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। अगर इसका सेवन किया जाए तो शरीर में प्रोटीन की कमी भी पूरी हो जाती है।

कैसे करें इसका इस्तेमाल

सबसे पहले खरबूजे के बीजों को निकालकर उन्हें अच्छे से धोएं। धोने के बाद इन बीजों की नमी को खत्म करने के लिए इन्हें धूप में सुखाएं। जब ये पूरी तरह तैयार हो जाएं तो आप इन बीजों का इस्तेमाल सब्जी, ग्रेवी, शेक्स, मिठाई आदि में कर सकते हैं।

तिल

सर्दियों में तिल का इस्तेमाल करना अच्छा होता है। तिल से बनी रेसिपी खाने में चार-चांद लगा देती हैं। वहीं तिल की गार्निशिंग की जाए तो ये आहार को भी हेल्दी बना देती है। ध्यान दें कि तिल के अंदर प्रोटीन, कैल्शियम, बी-कॉम्पलेक्स और कार्बोहाइड्रेट्स पाए जाते हैं। इसके अलावा इसमें ओमेगा 6 फैटी एसिड भी पाया जाता है, जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकता है। तिल में मोनो सिचुएटेड फैटी एसिड भी मौजूद होता है, जिससे तिल की सेहत को तंदुरुस्त रखा जा सकता है। वहीं तिल हड्डियों के लिए बहुत अच्छा है क्योंकि इसके अंदर डाइट्री प्रोटीन और अमीनो एसिड भी पाया जाता है।

कलौंजी

आचार या ड्रिंक बनाने के लिए कलौंजी का इस्तेमाल किया जाता है। बता दें कि इसके अंदर जरूरी पोषक तत्व जैसे- आयरन, सोडियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटेशियम, फाइबर आदि पाए जाते हैं। ध्यान दें कि इसके अंदर कई प्रकार की अमीनो एसिड और प्रोटीन भी मौजूद होते हैं। ऐसे में इन्हें हेल्दी स्नैक्स के रूप में लेना अच्छा विकल्प है।

इसे भी पढ़ें- सर्दी में बढ़ सकती है अस्थमा की समस्या, जानें ठंडे मौसम में अस्थमा रोगियों को किन बातों का रखना चाहिए ध्यान?

seeds and nuts

पंपकिन सीड्स

जिन घरों में कद्दू की सब्जी बनती है उनमें से ज्यादातर घरों में इनके बीजों को फेंक दिया जाता है। वे नहीं जानते कि इनके बीजों में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं। बता दें कि एंटीऑक्सीडेंट, मैग्निशियम, फाइबर, विटामिन के, के माध्यम से डायबिटीज से बचा सकता है। वहीं इन बीजों का सेवन करने से पाचन तंत्र तंदुरुस्त रहता है। चूंकि पंपकिन सीड्स में आयरन भरपूर मात्रा में होता है इसीलिए यह शरीर को एनर्जेटिक रखते हैं। इनके बीजों को खरबूजे के बीजों की तरह साफ किया जाता है।

इसे भी पढ़ें- सुबह के नाश्ते से लेकर रात के खाने तक, इस रूटीन का करेंगे पालन तो आप स्वस्थ और फिट रहेंगे, नहीं सताएगा मोटापा

अलसी के बीज

बता दें कि अलसी के बीजों को फ्लैक्स सीड्स भी कहा जाता है। चूंकि यह एक सुपरफूड हैं इसीलिए डाइटिशियन इसे डाइट में जरूर शामिल करने की सलाह देते हैं। अलसी में भरपूर मात्रा में विटामिन बी, मैग्निशियम, कैलशियम, कॉपर, आयरन, जिंक, पोटेशियम आदि मिनरल्स पाए जाते हैं। साथ ही इनके अंदर ओमेगा-3 ऐसिड भी पाया जाता है। इनके सेवन से कैंसर, अर्थराइटिस, डायबिटीज, एसिडिटी, कब्ज, यहां तक कि दिल की समस्या से भी बचा जा सकता है।

चिया सीड्स

बता दें चिया सीड्स के अंदर ओमेगा 3 फैटी एसिड, फाइबर, प्रोटीन, ओमेगा-3 और कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसलिए इसे सुपरफूड भी कहा जाता है। इनका इस्तेमाल ड्रिंक से लेकर सैलेड तक में किया जाता है। बता दें कि वजन कम करने के लिए चिया सीड्स का इस्तेमाल डाइटिशियन भी बेहतरीन मानते हैं। अपने देश में चिया को सब्जा यानि चिया की दूसरी किस्म इस्तेमाल में लेते हैं।

तरबूज के बीज

तरबूज के बीजों का इस्तेमाल मिल्क शेक, सैलेड आदि में फ्लेवर और पोषक तत्वों की मात्रा को पूरा करने के लिए किया जाता है। बता दें कि उत्तर भारत में इनका इस्तेमाल पारंपरिक तौर पर किया जाता है। मुगलई खाने में इन बीजों को खाने की शान कहा जाता है। वहीं इनका प्रयोग किसी भी पेस्ट को गाढ़ा करने के लिए किया जा सकता है। होली पर बनने वाली ठंडाई या भांग में इन बीजों को डाल देते हैं। प्रेग्नेंट स्त्रियों को पाउडर के रूप में तरबूज के बीज दिए जाते हैं, जिससे कि पोषक तत्वों की कमी पूरी हो सके और अगर आप कोई नया स्वाद ट्राई करना चाहते हैं तो इन्हें भूनकर ब्रेड आदि में लगाकर खा सकते हैं।

ऐसे करें इनका इस्तेमाल

तरबूज के बीज को सबसे पहले अच्छी तरह धोएं और धूप में सुखाएं। जब नमी खत्म हो जाए तो इनके ग्री निकालकर खाएं।

इसे भी पढ़ें- इंटरमिटेंट फास्टिंग: डायटिशियन से जानें ईटिंग पैटर्न से जुड़ी मुख्य बातें

सनफ्लॉवर सीड्स

बता दें कि सूरजमुखी के बीज में मिनरल्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इनके सेवन से हड्डियों को मजबूती मिलती है साथ ही इनमें कॉपर भी पाया जाता है। अगर आपकी हड्डियों में दर्द है तो इनके अंदर पाए जाने वाले विटामिन से हड्डियों को फायदा मिलता है। साथ ही चेहरे में भी निखार आता है। इस बीज में मौजूद मैग्नीशियम नसों को शांत रखता है। इनका नियमित रूप से सेवन करने से तनाव की समस्या दूर हो जाती है। यह त्वचा को यूवी किरणों से भी बचाने का काम करता है। अगर आप रोज चौथाई कप सूरजमुखी के बीज लेते हैं तो दिल के रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद है। यह बैड कोलेस्ट्रॉल को घटाता है और अस्थमा और स्किन प्रॉब्लम को भी दूर रखता है।

कैसे करें इस्तेमाल

सूरजमुखी के बीज सैलेड के ऊपर गार्नेशिंग  के रूप में उपयोग किए जाते हैं। आप इन्हें भूनकर भी खा सकते हैं। साथ ही आप इन्हें आटे में भी मिलाकर, रोटी बनाकर खा सकते हैं।

सेम के बीज

सेम के बीज आपकी भूख को ठंडा कर सकते हैं यह नमकीन स्नैक्स के रूप में भी देखा जाता है। इसे इस्तेमाल करने के लिए सेम से बीज निकालने और उन्हें अलग कर दें। फिर उसके बाद उन्हें सुखाने के लिए तेज धूप में रखें। जब सूख जाए तो स्नैक्स तैयार करें।

चिरौंजी

चिरौंजी दिखने में छोटी जरूर है लेकिन इसके फायदे अनेक हैं। इन्हें बनाने के लिए पैन में शुगर डालकर थोड़ा पानी और कैरेमलाइज्ड करें। चिरौंजी को खरबूजे के बीजों के साथ डालते हैं। अब इन्हें अपना पास स्टोर करके रख लें। इसके अलावा आप हलवा, पंजीरी, लड्डू, मैसूर आदि में इनका इस्तेनाल कर सकते हैं। ध्यान दें कि इन बीजों को ज्यादा सुखाया नहीं जाता। इसके अलावा चिरौंजी ज्यादा दिनों तक स्टोर करके रखी नहीं जाती। वरना ये खराब भी हो जाती है। इसलिए मार्केट से केवल उतनी चिरौंजी लाएं जितनी जरूरत हो।

Read More Articles on Healthy diet in hindi

 

 

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK