कोरोना काल में मेंटेंन हुई डाइट लेकिन कोरोना के बाद कैसी होनी चाहिए आपकी डाइट! जानें किस फूड से रहेंगे हेल्दी

Updated at: Sep 10, 2020
कोरोना काल में मेंटेंन हुई डाइट लेकिन कोरोना के बाद कैसी होनी चाहिए आपकी डाइट! जानें किस फूड से रहेंगे हेल्दी

अगर आपने कोरोना के डर से हेल्दी डाइट लेनी शुरू कर दी है लेकिन इसे बंद करने की सोच रहे हैं तो ऐसी गलती न करें। आगे जारी रखें ये डाइट।  

 

Jitendra Gupta
स्वस्थ आहारWritten by: Jitendra GuptaPublished at: Sep 10, 2020

यह आपको सुनने में थोड़ा सा अजीब लग सकता है कि COVID-19 मानव, जानवरों और रोगाणुओं के कारण होने वाला कोई आखिरी स्वास्थ्य संकट नहीं है। ऐसा नहीं है कि भविष्य में ऐसी बीमारियां न फैलें और आगे भी इस प्रकार के घातक रोग सामने आते रहेंगे। हालांकि एक चीज जो सबसे अच्छी सामने आई है वह ये है कि लोगों ने अपने स्वास्थ्य की ओर ध्यान दिया है और हेल्दी से हेल्दी फूड के सेवन पर अधिक जोर दिया है। शाकाहारी या शाकाहारी बनने वालों को एक महत्वपूर्ण बात पता होनी चाहिए कि वे अपने दैनिक प्रोटीन का स्रोत कहां से प्राप्त करने वाले हैं। पिछले कुछ वर्षों में वैकल्पिक प्रोटीन का सेवन पहले के मुकाबले तेजी से बढ़ा है और ये ट्रेंड महामारी के बाद भी आगे काफी तेजी से बढ़ता हुआ दिखाई देता है। 

food

कैसा है ये ट्रेंड 

खाद्य निर्माता वैकल्पिक, दूसरी पीढ़ी के प्रोटीन स्रोतों की तलाश में हैं जो अधिक टिकाऊ, शाकाहारी, शाकाहारियों के लिए अनुकूल और गैर-एलर्जिक हैं। कई हेल्थ कोच कहते हैं मौजूदा वक्त में लोगों ने एनिमल बेस्ड प्रोटीन के बजाए प्लांट बेस्ड प्रोटीन पर जोर देना शुरू कर दिया है। दुनिया भर के खिलाड़ी भी प्लांट बेस्ड प्रोटीन की ओर रुख कर रहे हैं क्योंकि यह पचाने में आसान होता है और शरीर में कम सूजन का कारण बनता है। इसके अलावा, प्लांट बेस्ड प्रोटीन सामग्री के अलावा सभी आवश्यक विटामिन, खनिज, एंजाइम, फाइबर भी प्रदान करते हैं।

इसे भी पढ़ेंः हृदय स्‍वास्‍थ्‍य से लेकर पाचन को बढ़ावा देने में मदद करती है कॉफी और केला स्‍मूदी, जानें बनाने की आसान रेसेपी

सही तरीके से लें प्रोटीन

मौजूदा वक्त में दुनिया में केवल प्रोटीन खाना पर्याप्त नहीं है। आप इसे कहां से प्राप्त कर रहे हैं ये भी समान रूप से बहुत महत्व रखता है। क्या इसके स्रोत पर्यावरण के अनुकूल है? क्या यह कैंसर मुक्त है? लाइफस्टाइल कोच ल्यूक कॉउटिन्हो कहते हैं कि यह कहना गलत नहीं होगा कि प्लांट बेस्ड भोजन COVID-19 के वक्त  में दुनिया का सबसे अच्छा विकल्प है। हालांकि, एक पहलू ये भी है कि COVID-19 के बाद  कैसे सही भोजन पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आपको गुणवत्ता वाला भोजन, चाहे फिर वे फल, सब्जियां, अनाज, नट, बीज, या अंडे और मांस हो आपको सही जानकारी होना बहुत ही जरूरी है। 

corona

ल्यूक कहते हैं कि प्रोटीन एक macronutrient और आपकी डाइट का एक आवश्यक हिस्सा है। प्रोटीन का सही रूप त्वचा, बाल, मांसपेशियों, प्रतिरक्षा के लिए, हार्मोनल स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। यह हर सेल का एक बिल्डिंग ब्लॉक है। बहुत से व्यक्ति जो प्लांट बेस्ड फूड का विकल्प चुनते हैं, वे ऐसा सेवन करते हैं तो लेकिन बाद में प्रोटीन, विटामिन बी 12 का स्तर, आयरन का स्तर कम हो जाता है। इसलिए, जो लोग किसी भी कारण से शाकाहारी होने का विकल्प चुन रहे हैं, उन्हें सूचित करना चाहिए। तरीका और उपलब्ध वैकल्पिक स्रोतों को जानें, ताकि शरीर किसी भी पोषक तत्व की कमी न हो।

इसे भी पढ़ेंः इन 5 कारणों से बच्चों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी होते हैं खट्टे फल, ऐसे करें बच्चों की डाइट में शामिल

प्रोटीन के सबसे अच्छे स्रोत

हम सभी को प्रोटीन की आवश्यकता होती है लेकिन कोई भी मानक दैनिक सेवन नहीं है जो सभी को फिट करता हो। इस बात को जानना जरूरी है कि आप प्रोटीन को कितना और किस हद तक पचा सकते हैं, अवशोषित कर सकते हैं और आत्मसात कर सकते हैं, यह भी मायने रखता है। प्रोटीन को पचाने की क्षमता, जिस प्रकार का प्रोटीन आपको सबसे अच्छा लगता है, वह मात्रा जो किसी दिए गए बिंदु पर खानी चाहिए, हर मामले में अलग-अलग होती है। प्लांट बेस्ड प्रोटीन के सबसे अच्छे स्रोत हैं जिन पर आप भरोसा कर सकते हैं वे हैंः

छोले और बीन्स: राजमा, काले, और सफेद छोलों सहित अधिकांश अन्य किस्मों में प्रत्येक में प्रोटीन की मात्रा उच्च होती है। उच्च प्रोटीन सामग्री के साथ छोले और फलियां आपके लिए प्रोटीन का एक शानदार विकल्प हो सकते हैं।

हरी मटर: हरी हरी मटर को ज्यादातर साइड डिश के रूप में परोसा जाता है जिसमें प्रत्येक पका हुआ कप (240 मिली) में 9 ग्राम प्रोटीन होता है।

अमरनाथ: प्रत्येक पका हुआ कप अमरनाथ  (240 मिली) 8 से 9 ग्राम प्रोटीन प्रदान करता है और प्रोटीन का पूरा स्रोत होता है, जो अनाज के बीच काफी दुर्लभ है।

सोया मिल्क: दूध, जो सोयाबीन से प्राप्त किया जाता है और विटामिन और खनिजों के साथ फोर्टिफाइड होता है। न केवल इसमें प्रत्येक कप (240 मिली) में 7 ग्राम प्रोटीन होता है, बल्कि यह कैल्शियम, विटामिन डी और विटामिन बी 12 का एक उत्कृष्ट स्रोत भी है।

Read more articles on Healthy-Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK