• shareIcon

Kegel Exercises Benefits: पेशाब न रोक पाने की समस्‍या का समाधान है कीगल एक्‍सरसाइज, जानें इसे करने का सही तरीका

एक्सरसाइज और फिटनेस By अतुल मोदी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 06, 2019
Kegel Exercises Benefits: पेशाब न रोक पाने की समस्‍या का समाधान है कीगल एक्‍सरसाइज, जानें इसे करने का सही तरीका

कीगल एक्‍सरसाइज के बहुत सारे फैक्‍टर हैं। जैसे बढ़ती उम्र, प्रसव, प्रोस्‍टेट सर्जरी, डायबिटीज, ओवर एक्टिव ब्‍लैडर और पेशाब बार-बार आने से पेल्विक मसल्‍स ढीली या कमजोर हो जाती

कीगल एक्‍सरसाइज (Kegel exercises) एक आसान 'खींचना और छोड़ना एक्‍सरसाइज' (Clench-and-release exercises) है, जिससे आप अपनी पेल्विक फ्लोर की मसल्‍स को मजबूत बना सकते हैं। आपका पेल्विस यानी श्रोणि कूल्‍हों के बीच का क्षेत्र है जो आपके प्रजनन अंगों को रोककर या सुरक्षित रखता है। 

पेल्विक फ्लोर वास्तव में मांसपेशियों और ऊतकों की एक श्रृंखला है जो आपके पेल्विस यानी श्रोणि के नीचे एक झूला बनाती है। यह झूला आपके अंगों को जगह देता है। एक कमजोर पेल्विक फ्लोर आपके मूत्राशय को नियंत्रित करने में असमर्थता जैसे मुद्दों को जन्म दे सकती है। इसलिए इनका मजबूत होना बहुत जरूरी है। 

जब एक बार आप कीगल एक्‍सरसाइज को समझ जाते हैं तो उन्‍हें कहीं भी और कभी भी कर सकते हैं। कई लोग ये मानते हैं कि एक्‍सरसाइज करने से उनमें पुरुषों में इरेक्‍टाइल डिसफंक्‍शन और महिलाओं में कामवृत्ति (Libido) की इच्‍छा बढ़ सकती है। इसके अलावा कुछ लोग यह भी मानते हैं कि कीगल एक्‍सरसाइज सिर्फ महिलाओं के लिए है, लेकिन क्‍या ये बात सही है? 

इस बारे में डॉक्‍टर परमजीत सिंह का कहना है कि, कीगल एक्‍सरसाइज इसी चीज की एक्‍सरसाइज है इसे पेल्‍विक फ्लोर एक्‍सरसाइज कहते हैं। पेल्विक फ्लोर एक्‍सरसाइज आपके पेशाब नियंत्रण को बेहतर बनाने के लिए सही है और यह आपकी सेक्‍सुअल परफॉरमेंस को भी बेहतर बनाने कारगर है। क्‍योंकि पेल्विक मसल्‍स आपके सेक्‍सुअल ऑर्गन के आसपास की मसल्‍स है जिसे मजबूत करने के लिए कीगल एक्‍सरसाइज की जाती है। यह महिला और पुरुष दोनों के लिए फायदेमंद है। 

kegel-exercise 

कीगल एक्‍सरसाइज क्‍यों करना जरूरी है? 

इसके बहुत सारे फैक्‍टर हैं। जैसे बढ़ती उम्र, प्रसव, प्रोस्‍टेट सर्जरी, डायबिटीज, ओवर एक्टिव ब्‍लैडर और पेशाब बार-बार आने से पेल्विक मसल्‍स ढीली या कमजोर हो जाती है, जिसका असर आपके प्रजनन अंगों पर भी पड़ता है। इसके अलावा पेशाब या मल त्‍याग में भी समस्‍या आती है। अगर पेशाब अपने आप निकल जाता है तो भी ये एक्‍सरसाइज आपके लिए फायदेमंद है। ऐसे में, पेल्विक मसल्‍स को मजबूत करने के लिए कीगल एक्‍सरसाइज इसका सबसे असान वैकल्पिक उपचार हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं के लिए बहुत खतरनाक है पेल्विक टीबी, गर्भधारण में आती है दिक्कत  

कीगल एक्‍सरसाइज करने की सही टेक्निक क्‍या है? 

कीगल एक्‍सरसाइज करने से यह समझना जरूरी है कि, वह कौन सी मसल्‍स है जिस पर ध्‍यान केंद्रित करना होगा। दरअसल, यह पेल्विक फ्लोर की मसल्‍स है, जिस पर हमें ध्‍यान केंद्रित करने की जरूरत होती है।

पेल्‍विक मसल्‍स की पहचान करने के लिए आपको पेशाब को बीच में ही रोक देना है। मतलब आपको वो मसल्‍स टाइट करनी है जिससे पेशाब को रोकते हैं। ये है पेल्विक फ्लोर की एक्‍सरसाइज। विशेषज्ञों का ये भी मानना है कि अगर आप पेशाब करते-करते रोक देते हैं तो यानी आपकी पेल्विक मसल्‍स मजबूत है और यदि ऐसा कर पाने में असमर्थ हैं तो इसका मतलब आपकी मसल्‍स कमजोर है। आसान शब्‍दों में कहें तो पेल्विक मसल्‍स वो मसल्‍स है जिससे पेशाब रूक जाता है। 

इसे आप किसी भी पोजिशन में कर सकते हैं- खड़े रहकर, बैठकर और लेटकर भी ये एक्‍सरसाइज की जा सकती है। शुरूआत में इसे लेटकर करें। 

इसे भी पढ़ें: महिलाओं को जरूर करनी चाहिए ये 4 कीगल एक्‍सरसाइज

अब आपको पेल्विक मसल्‍स को 3 सेकेंड तक रोकें और फिर 3 सेकेंड तक रिलैक्‍श रहें। इसे आप 2 से 6 बार कर सकते हैं। जैसे-जैसे आपकी मसल्‍स मजबूत होती जाएगी आप किसी भी मुद्रा में रहकर कर पाएंगे। इसे सांस रोके बगैर करना है। इसे दिन में 3 बार कर सकते हैं। हर बार में आपको इसे 10 बार रिपीट करना होगा। इसे रेगुलर करने आपको कई फायदे होंगे। इसे डेली रूटीन में करने चाहिए। बढ़ती उम्र वालों के लिए काफी फायदेमंद होता है। प्रसव के बाद महिलाओं को जरूर करना चाहिए।

Read More Articles On Fitness & Exercise In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK