• shareIcon

सर्दियों में शिशु की जीभ सूजने का कारण हो सकता है कावासाकी सिंड्रोम, जानें कितना खतरनाक है ये?

नवजात की देखभाल By Rashmi Upadhyay , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jan 03, 2019
सर्दियों में शिशु की जीभ सूजने का कारण हो सकता है कावासाकी सिंड्रोम, जानें कितना खतरनाक है ये?

कावासाकी सिंड्रोम एक ऐसी दुर्लभ बीमारी है जो ज्यादातर पांच साल से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करती है। यह रोग रक्त वाहिकाओं, त्वचा, मुंह और लिम्फ नोड्स को प्रभावित करता है। हृदय की मांसपेशियों तक रक्त को ले जाने वाली कोरोनरी धमनियां भी इस बीमारी

कावासाकी सिंड्रोम एक ऐसी दुर्लभ बीमारी है जो ज्यादातर पांच साल से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करती है। यह रोग रक्त वाहिकाओं, त्वचा, मुंह और लिम्फ नोड्स को प्रभावित करता है। हृदय की मांसपेशियों तक रक्त को ले जाने वाली कोरोनरी धमनियां भी इस बीमारी से क्षतिग्रस्त हो सकती हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि कावासाकी सिंड्रोम के कारणों को अभी तक साफ पता नहीं चल पाया है। हालांकि, ज्यादातर मामलों की शुरुआत ज्यादा सर्दी पड़ने के दौरान से होती है। आइए जानते हैं क्या हैं इसके लक्षण और इलाज।

क्या हैं कावासाकी सिंड्रोम के लक्षण

  • आंखों का गहरा लाल होना
  • शरीर पर चकत्तेे पड़ना
  • हाथ पैरों में सूजन आना 
  • गर्दन में सूजन लिम्फ नोड्स
  • कम से कम पांच दिनों तक तेज बुखार रहना
  • हाथ पैरों की त्वचा का छिलना
  • कुछ बच्चे गठिया या जोड़ों के दर्द से प्रभावित हो सकते हैं
  • दस्त, उल्टी, सुनने की अस्थायी हानि
  • पित्ताशय की थैली का बढ़ना
  • पेट में लगातार दर्द रहना

यदि आप अपने बच्चे में उपरोक्त संकेतों और लक्षणों को देखते हैं, तो तुरंत किसी अच्छे  डॉक्टर से परामर्श करें। यदि कावासाकी सिंड्रोम का समय रहते इलाज नहीं किया गया तो यह दिल की कई बीमारियों के लिए जिम्मेदार हो सकता है। खासकर छोटे बच्चों के लिए यह रोग बहुत खतरनाक है। एशियाई बच्चों को कावासाकी सिंड्रोम से प्रभावित होने का अधिक खतरा होता है। कावासाकी रोग फाउंडेशन (केडीएफ) के अनुसार, इस बीमारी से प्रभावित होने वाले लगभग 75 प्रतिशत बच्चे पांच साल से कम उम्र के हैं। बच्चे को पूरी तरह से ठीक महसूस होने में कुछ सप्ताह लग सकते हैं। ऐसे कोई स्पष्ट सिद्धांत नहीं हैं जो दिखाते हैं कि बच्चे इस बीमारी को जन्म दे सकते हैं, लेकिन अगर यह परिवार के किसी एक सदस्य को प्रभावित करता है, तो परिवारों में जोखिम कारक बढ़ सकता है। यानि कि यह रोग जैनेटिक तौर पर भी फैलता है।

कावासाकी रोग की हृदय जटिलता

कावासाकी रोग की हृदय जटिलता सबसे महत्वपूर्ण पहलू है। यह संयुक्त राज्य अमेरिका और जापान में बचपन में प्राप्त दिल की बीमारी का मुख्य कारण है। विकसित देशों में, ऐसा लगता है कि बच्चों में अधिग्रहित हृदय रोग के सबसे आम कारण के रूप में तीव्र संधिवात बुखार को बदल दिया गया है। कोरोनरी धमनी एनीयरिज़्म इलाज न किए गए बच्चों के 20-25% में वास्कुलाइटिस के एक अनुक्रम के रूप में होते हैं।  यह पहली बार बीमारी के 10 दिनों के दौरान पाया जाता है और कोरोनरी धमनी फैलाव या एन्यूरीज़्म की चोटी आवृत्ति शुरू होने के चार सप्ताह के भीतर होती है। एन्यूरीज़म्स को छोटे (आंतरिक दीवार व्यास की दीवार <5 मिमी), मध्यम (5-8 मिमी से व्यास), और विशाल (व्यास> 8 मिमी) में वर्गीकृत किया जाता है। बीमारी की शुरुआत के बाद आमतौर पर स्नेहक और फ्यूसिफार्म एन्यूरीज़्म विकसित होते हैं।

कितना खतरनाक है ये रोग

यहां तक कि जब बीमारी के पहले 10 दिनों के भीतर उच्च खुराक आईवीआईजी के नियमों के साथ इलाज किया जाता है, तो कावासाकी रोग वाले 5% बच्चे कम से कम क्षणिक कोरोनरी धमनी फैलाव पर विकसित होते हैं और 1% विशाल एनीयरिज़्म विकसित करते हैं। मौत या तो कोरोनरी धमनी एनीयरिसम में रक्त के थक्के के गठन के लिए मायोकार्डियल इंफार्क्शन के कारण या बड़े कोरोनरी धमनी एनीयरिसम के टूटने के कारण हो सकती है। बीमारी की शुरुआत के बाद मृत्यु दो से 12 सप्ताह बाद आम है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Parenting In Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।