नाड़ी शोधन और कपालभाति प्राणायाम से दूर हो झुर्रियां और तेज हो जाए आंखों की रोशनी

Updated at: Sep 24, 2020
नाड़ी शोधन और कपालभाति प्राणायाम से दूर हो झुर्रियां और तेज हो जाए आंखों की रोशनी

बाहरी सुंदरता से ज्यादा जरूरी है मन की सुंदरता। ऐसे में नाड़ी शोधन और कपालभाति प्राणायाम के जरिये आप ताउम्र खुश रह सकते हैं। जानें इन्हें करने की विधि

सम्‍पादकीय विभाग
योगाWritten by: सम्‍पादकीय विभागPublished at: Sep 24, 2020

अपनी सुंदरता को बनाए रखने के लिए लोग न जाने कितने महंगे प्रोडक्ट खरीद लेते हैं। और जब फायदा नहीं मिलता तो वे अपनी किस्मत समझकर दुखी हो जाते हैं। अगर हम आपसे कहें कि थोड़ी सी मेहनत से आप खोया हुआ रंगरूप पा सकते हैं व खुद को पहले से भी ज्यादा तरोताजा महसूस कर सकते हैं तो क्या आप मानेंगे? ऐसा मुमकिन है। इस लेख में हम आपको नाड़ी शोधन और कपालभाति प्राणायाम से होने वाले लाभ और इनकी विधि बताएंगे। पढ़ते हैं आगे...

नाड़ी शोधन प्राणायाम (Nadi Shodhana Pranayama)

nadi shodhana yoga

अगर आपकी नाड़ियां शुद्ध और मजबूत हैं तो इससे आपके अन्य अंगो में शुद्धि का संचार होता है। बता दें कि नाड़ी शोधन और अनुलोम-विलोम में कोई खास फर्क नहीं है। प्रदूषित वातावरण के चलते अगर आप अपनी दिनचर्या में योग को जोड़ेगे तो आप ज्यादा तरोताजा महसूस करेंगे। जानते हैं...

नाड़ी शोधन प्राणायाम को करने की विधि (Nadi Shodhana Pranayama Instructions)

  • सबसे पहले आप सुखासन में बैठकर कमर सीधी और आंखें बंद कर लें। 
  • अब अपने सीधे हाथ के अंगठे से दाई नासिका बंद कर पूरी सांस बाहर निकालें। 
  • अब बाई नासिका से सांस लें, तीसरी अंगुली से बाईं नासिका को भी बंद कर आंतरिक कुंभक करें।
  • जितनी देर स्वाभाविक स्थिति में खुद को रोक सकते हैं, रोंके।
  • अब नाक से अंगूठा हटाकर सांस को धीरे-धीरे बाहर छोड़ें। 
  • अब एक से 2 मिनट के लिए बाह्या कुंभक करें। 
  • इसके बाद फिर दाईं नासिका से उंगली हटाकर सांस को रोकें और बाई तरफ से धीरे-धीरें से निकाल दें। 
  • इस प्रक्रिया को कम से कम सात से आठ बार करें और धीरे-धीरे इसकी संख्या को बढ़ाएं। 

नाड़ी शोधन प्राणायाम के लाभ (Nadi Shodhana Pranayama Benifits)- 

  • बता दें कि इस प्राणायाम के रोज करने से सभी प्रकार की नाड़ियों को लाभ मिलता है। 
  • इससे नेत्र ज्योति बढ़ती है और रंक्त संचार सही रहता है। 
  • यदि आपको नींद न आने की परेशानी है तो इससे ये समस्या भी दूर हो जाती है। 
  • यह प्राणायम आपको स्ट्रेस फ्री रखता है और दिमाग को शांत रखता है। 
  • इससे व्यक्ति के भीतर सकारात्मक ऊर्जा का विकास होता है।

कपालभाति प्राणायम (Kapalbhati Pranayama)

प्राणायामों में कपालभाति को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। बता दें कि इस प्राणायाम को हठयोग में शामिल किया गया है। प्राणायामों में ये सबसे कारगर प्राणायाम माना जाता है। यह तेजी से की जाने वाली प्रक्रिया है। ध्यान दें कि मस्तिष्क के अग्र भाग को कपाल और भाति का अर्थ है ज्योति।

कपालभाति को करने की विधि(Kapalbhati Pranayama Instructions)

  • सिद्धासन, पद्मासन या वज्रासन में बैठकर सांसों को बाहर छोड़ने की प्रक्रिया करें। 
  • अब सांसों को बाहर छोड़ते वक्त अपने पेट को अंदर की तरफ खीचें। 
  • ध्यान रखें कि सांस भीतर लेने के लिए कोई प्रयास नहीं करना है क्योंकि इस प्रक्रिया में सांस खुद ही अंदर चली जाती है।

कपालभाति को करने से लाभ(Kapalbhati Pranayama Benifits)

  • यह प्राणायाम चेहरे की झुर्रियों को कम कर आंखों की रोशनी को बढ़ाता है। 
  • चेहरे की चमक बरकरार रखता है। 
  • इससे बालों और दांतों की सभी प्रकार की बीमारियां दूर हो जाती हैं। 
  • शरीर की चर्बी दूर होती है। 
  • कब्ज, गैस, एसिडिटी की समस्या दूर हो जाती है।

Read More Articles On Yoga in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK