कंगारू देखभाल क्‍या है

कंगारू देखभाल क्‍या है

कंगारू देखभाल-ऐसी तकनीक है जो खास करके नवजात, आमतौर पर अपरिपक्व ('प्री-टर्म') शिशुओं के लिए काफी मददगार होती है।

कंगारू देखभाल एक ऐसी तकनीक है जो नवजात, खासतौर पर अपरिपक्व ('प्री-टर्म') शिशुओं के लिए काफी मददगार होती है। इस तकनीक में व्‍यस्‍क शिशु को अपने अंग लगाकर रखता है, ठीक वैसे ही जैसे कंगारू अपने शिशु को अपने करीब रखता है।


अपरिपक्‍व (प्री-टर्म) शिशुओं को दिन में कुछ घंटों के लिए कंगारू देखभाल की जरूरत नहीं पड़ती। लेकिन जब वे मेडिकल तौर पर स्थिर हो जाते है, तब इस तकनीक का समय बढ़ाया जा सकता है। कुछ माता-पिता अपने बच्चों को, प्रतिदिन, कई घंटों के लिए अपने हाथों में रख सकते हैं। कंगारू देखभाल, यह नाम, उन मारसुपायल्स जानवारों से दिया गया है, जो उनके बच्‍चे को अंग के पास पकड़ते हैं. शुरू में, यह तकनीक उन अपरिपक्व, प्री-टर्म शिशु के लिए विकसित की गयी थी जो उन क्षेत्रों में जन्मे लिए थे, जहां इन्क्यूबेटर उपलब्ध नहीं थे या जहां इन्क्यूबेटर अविश्वसनीय थे।

kangaroo care

कंगारू देखभाल शिशु को अपने मां या पिता के पास - त्वचा से त्वचा के साथ सीधे से संपर्क में रखकर, नवजात शिशु को अपने माता या पिता के निकटता पुनःस्थापन करना चाहता है। यह शारीरिक और मनोवैज्ञानिक आंतरिकता और संबंध सुनिश्चित करता है।  माता-पिता के शरीर का तापमान नवजात शिशु का तापमान को इनक्यूबेटर की अपेक्षा अधिक आसानी से - स्थिर रखने में मदद करता है और स्तनपान के लिए तत्काल पहुंच देता है ।

इसे भी पढ़े- बच्चों के गुस्से पर न करें गुस्सा, ऐसे निपटें 

 

जबकि, शिशु की देखभाल के इस मॉडल, जो यहां वर्णित किया गया है, ठेठ पश्चिमी एन.ई.सी.यू. प्रक्रियाओं से काफी अलग है। ये दो,पारस्परिक रूप से अनन्य नहीं है. यह अनुमान है कि, आज 200 से अधिक नवजात गहन केयर यूनिट कंगारू देखभाल का प्रयोग कर रहे हैं. एक नया सर्वेक्षण में पाया गया है कि, अमेरिका में आज-कल 82 प्रतिशत नवजात गहन देखभाल इकाइयों (एन.ई.सी.यू), कंगारू देखभाल के संयुक्त उपयोग कर रहे हैं।

इसे भी पढ़े-इसलिए शिशु के लिए अमृत है मां का दूध

 


विश्व के सभी क्षेत्रों में, समय से पहले और कम वजन के शिशुओं के लिए स्वास्थ्य देखभाल और तकनीकी सहायता उपलब्ध नहीं है. 1978 में, मृत्यु और रुग्णता के बढते कारण, बोगोटा, कोलम्बिया के इन्स्तितुतो मतेर्नो इन्फंतिल एन.ई.सी.यू. में डा. एडगर रे सनाब्रिया, (बाल चिकित्सा विभाग में नीओनतोलोगी के प्रोफेसर - उनिवेर्सिदाद नासिओनल डी कोलम्बिया) ने एक तकनीक प्रस्तुत किया. इस तकनीक से, देख-रेख करने वालों की कमी और विधि संसाधनों की कमी दूर किया जाता है . उन्होंने सुझाव दिया कि माताओं अपने कम वजन के शिशुओं के साथ त्वचा से त्वचा संपर्क रखे. इस से, उन्हें गर्म रखने में और विशेष रूप से स्तनपान करने में मदद होता है।

 

kangaroo care

इस तकनीक, इनक्यूबेटर और देखभाल करने वालों को मुक्त कर दिया। कंगारू देखभाल के एक अन्य विशेषता यह है कि, प्री-माचुर शिशु होने के बावजूद भी, कंगारू अधिष्ठान में रखने से उन्हें जल्दी अस्पताल से छुट्टी मिलती थी। कंगारू देखबाल से प्री-माचुर (समय से पहले जन्मे) सिशू और कम वजन के नये जन्मे सिशू के उत्तरजीविता दरों में सफल और सुधार साबित किया है. इस तकनीक से नोसोकोमिअल संक्रमण, गंभीर बीमारी और श्वसन पथ रोग भी कम होती है। (कांदे-अगुदेलो, दिअज़-रोस्सेल्लो, और बेलिज़ं, २००३). यह अनन्य स्तन आहार को लंबी अवधि के लिए बढाया है. और बेहतर मातृ संतुष्टि और विश्वास उन्नत किया है।

 

Read more articles on Parenting in Hindi.

 

 

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK