नवजात बच्चों को पीलिया होने पर इलाज के साथ दें ये नैचुरल थेरेपी, जल्दी होगा ठीक

नवजात बच्चों को पीलिया होने पर इलाज के साथ दें ये नैचुरल थेरेपी, जल्दी होगा ठीक

शिशु के पैदा होने के बाद कुछ दिनों तक उसे रोगों का खतरा ज्यादा रहता है। नवजात बच्चों में पीलिया के मामले बहुत ज्यादा देखने को मिलते हैं। पीलिया के कारण शिशु की त्वचा पीली पड़ने लगती है।

शिशु के पैदा होने के बाद कुछ दिनों तक उसे रोगों का खतरा ज्यादा रहता है। नवजात बच्चों में पीलिया के मामले बहुत ज्यादा देखने को मिलते हैं। पीलिया के कारण शिशु की त्वचा पीली पड़ने लगती है। शिशुओं को पीलिया, युवाओं से अधिक गंभीर होता है, इसलिए उन्हें पीलिया से बचाने के लिए खास ख्‍याल रखने की आवश्‍यकता होती है। दरअसल पीलिया का कारण शरीर में बिलिरुबिन की मात्रा का बढ़ जाना है। ये बिलिरूबिन एक तरह का पीला पदार्थ है, जो रेड ब्लड सेल्स के टूटने से बनता है। छोटे शिशुओं का लिवर धीरे-धीरे विकसित होता है, जिस कारण ये बिलरूबिन को प्रॉसेस नहीं कर पाता है और शिशु को पीलिया हो जाता है।

क्या है वो नैचुरल थेरेपी

हाल में हुए एक शोध में ये बताया गया कि शिशुओं और छोटे बच्चों में पीलिया होने पर अगर उन्हें इलाज के साथ-साथ अगर रोज थोड़े समय धूप में रखा जाए, तो वो जल्दी और आसानी से ठीक हो सकते हैं। धूप में विटामिन डी होता है। धूप में रहने के कारण शिशु के शरीर में मौजूद बिलिरुबिन टूट जाते हैं और यूरिन के रास्ते से बाहर निकल जाते हैं। इसलिए नवजात शिशुओं को हर समय कमरे के अंदर रखने के बजाय थोड़ा समय धूप में लेकर भी बैठें। आमतौर पर जन्म के 10-15 दिन बाद लिवर अच्छी तरह विकसित हो जाता है और अपना कार्य करने लगता है।

इसे भी पढ़ें:- उबटन लगाने से शिशु को मिलते हैं ये 4 बड़े फायदे, जानें कौन सा उबटन है बेहतर

ऐसे जांचें शिशु में पीलिया

अच्छी रोशनी वाली कमरे में शिशु की छाती को हल्के से दबाएं। दबाव हटाते समय अगर शिशु की त्वचा में पीलापन लगे, तो अपने डॉक्टर से बात करें। साफ रंगत वाले शिशुओं पर यह तकनीक बेहतर परिणाम देती है। अन्य शिशुओं में पीलिया की जांच के लिए देखें कि उनकी आंखों के सफेद हिस्से, नाखूनों, हथेलियों या मसूढ़ों में पीलापन तो नहीं है।

नवजात में पीलिया के लक्षण

शिशु में पीलिया की शुरूआत उसके सिर से होती है। सबसे पहले शिशु का चेहरा पीला पड़ जाता है। उसके बाद यह सीने और पेट में भी फैल जाता है और सबसे अंत में यह पैरों में फैलता है। शिशु की आंखे भी पीली हो जाती हैं। पीलिया के लक्षण शिशु में जितनी देरी से पता चलेंगे खतरा उतना ज्यादा बढ़ेगा। शिशु में अगर पीलिया 14 दिन से ज्यादा रहता हैं तो उसके परिणाम घातक हो सकते हैं। समय पर शिशु में पीलिया की जांच न हो पाने पर बच्चा मानसिक रूप से बीमार हो सकता है। शिशु में अगर पीलिया के लक्षण दिखें तो चिकित्स‍क से तुरंत संपर्क करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:- 1 साल से छोटे बच्चों को खिलाएं ये 7 आहार, मिलेगा पोषण और शिशु रहेगा स्वस्थ

समय से पहले हुआ है जन्म, तो ज्यादा खतरा

नवजात शिशुओं के समय से पहले जन्म होने के कारण भी पीलिया होने की आशंका बढ़ जाती है। इसके अलावा नवजात में पीलिया का कारण मां और बच्चे के ब्लड ग्रुप का अलग-अलग होना या असामान्य होना भी है। या फिर शिशु को किसी प्रकार के संक्रमण के कारण भी पीलिया होने की आशंका रहती है। कई बार नवजात शिशुओं में एक सप्ताह से अधिक पीलिया होने या फिर पीलिया के दौरान बहुत तबियत खराब होती है तो नवजात को मानसिक या कोई गंभीर शारीरिक बीमारी भी हो सकती है।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Newborn Care in Hindi

 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।