• shareIcon

आखिर क्यों बढ़ रहा है लोगों में ऑर्गेनिक फूड्स का क्रेज? क्या हैं फायदे

एक्सरसाइज और फिटनेस By Anurag Gupta , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 08, 2018
आखिर क्यों बढ़ रहा है लोगों में ऑर्गेनिक फूड्स का क्रेज? क्या हैं फायदे

क्या आपने कभी सोचा है कि ऑर्गेनिक फूड्स सामान्य फूड्स से मंहगे होते हैं, तो इनमें क्या खास बात हो सकती है? दुनियाभर में इस समय ऑर्गेनिक फूड्स का क्रेज लोगों में बढ़ रहा है।

आजकल दुकानों, ग्रॉसरी स्टोर्स और ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स पर खाने-पीने की ज्यादातर चीजें खासकर अनाज, फल और सब्जियां आपको दो तरह के मिलते हैं- एक सामान्य फल, अनाज और सब्जियां और दूसरे ऑर्गेनिक अनाज, फल और सब्जियां। क्या आपने कभी सोचा है कि ऑर्गेनिक फूड्स सामान्य फूड्स से मंहगे होते हैं, तो इनमें क्या खास बात हो सकती है?

दुनियाभर में इस समय ऑर्गेनिक फूड्स का क्रेज लोगों में बढ़ रहा है। लोगों का ऐसा मानना है कि इन फूड्स के सेवन से किसी तरह की हानि नहीं होती है इसलिए इन्हें खाना ज्यादा स्वास्थप्रद है। आइए हम आपको बताते हैं ऑर्गेनिक फूड्स से जुड़ी सभी बातें और यह भी कि कितना सच्चा है ऑर्गेनिक फूड्स का बाजार।

क्या होता है ऑर्गेनिक फूड

फसल उगाने के लिए इन दिनों तमाम तरह के कीटनाशकों का इस्‍तेमाल किया जाता है। इनसे फसल तो तेजी से होती ही है, साथ ही वह कीड़ों से भी बची रहती है। लेकिन इन फसलों पर छिड़के गए कीटनाशक हमारे शरीर में पहुंचकर हमें नुकसान पहुंचाते हैं। साथ ही ये भूमि की उर्वरकता, भूजल और आसपास के पानी के स्रोतों को भी दूषित कर देते हैं। ऑर्गेनिक फूड में फसलों को बिलकुल प्राकृतिक तरीके से उगाया जाता है। इस तरह से उगाए गए फूड में केमिकल और पेस्टीसाइड का इस्तेमाल बिलकुल भी नहीं किया जाता है। ये फूड असमय यानी बेमौसम उपलब्ध भी नहीं होते हैं। इनके लिए जैविक खाद तैयार की जाती है, जिसके बाद इस आहार को उगाया जाता है। बाजार में अगर आपको फ्रेश फूड दिखे, तो इसका मतलब यह नहीं कि वे ऑर्गेनिक हैं।

इसे भी पढ़ें:- मोनो डाइट क्‍या है, वेट लॉस और कब्‍ज में हो सकते हैं फायदेमंद

ऑर्गेनिक फू़ड्स में नहीं होती मिलावट

खाने पीने में मिलावट का डर तो है ही, लेकिन साथ ही में कीटनाशकों की वजह से धरती को होने वाले नुकसान को देखते हुए लोगों में अब ऑर्गेनिक फूड की ओर रुझान बढ़ रहा है। आम खेती में बढ़ती मांग के साथ तालमेल बैठाए रखने के लिए कीटनाशकों का इस्‍तेमाल कर अधिक मात्रा में फसल उगाई जा रही हैं। लेकिन, ऑर्गेनिक फूड पूरी तरह सुरक्षित होते हैं। इनमें किसी तरह की मिलावट नहीं होती है।

पूरी तरह कीटनाशक मुक्त होने का दावा फर्जी

आमतौर पर यही माना जाता है कि सामान्‍य आहार के मुकाबले ऑर्गेनिक फूड अधिक पौष्टिक होता है। इसीलिए इसका क्रेज भी लोगों में बढ़ रहा है। मगर अमेरिका में हुए एक शोध के मुताबिक जहां तक पौष्टिकता का सवाल है ऑर्गेनिक फूड और नॉन ऑर्गेनिक फूड में अधिक अंतर नहीं होता। इस शोध में यह बात भी निकलकर आयी है कि ऑर्गेनिक फूड में कीटनाशक होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता। इस शोध में पता चला है कि ऑर्गेनिक फूड के मुकाबले नॉन-ऑर्गेनिक फूड में कीटनाशकों की मात्रा 80 फीसदी अधिक होती है। इसका अर्थ यह है कि ऑर्गेनिक फूड में कीटनाशक नहीं होने की बात पूरी तरह सही नहीं है।

इसे भी पढ़ें:- प्रेशर कूकर से ज्यादा हेल्दी होता है कढ़ाई में खाना पकाना, जानें क्यों

ऑर्गेनिक फूड्स के नाम पर धांधली

ऑर्गेनिक फूड और सामान्य अनाज के दाम में काफी अंतर होता है। बावजूद इसके दुनिया भर में ऑर्गेनिक फूड का बाज़ार 22 फीसदी सालाना की दर से बढ़ रहा है। ऐसे में बाजार में ऐसे बहुत सारे अनाज, फूड्स, मसाले, फल और सब्जियां उपलब्ध हैं, जिनके ऑर्गेनिक होने का दावा किया जाता है मगर उनमें भी पेस्टीसाइड्स का धड़ल्ले से प्रयोग किया जाता है। चूंकि ऑर्गेनिक फूड्स और नॉन ऑर्गेनिक फूड्स के रूप, रंग और स्वाद में आसानी से कोई फर्क नहीं समझ आता है, इसलिए ग्राहकों को आसानी से बेवकूफ बनाया जा सकता है।

ऑर्गेनिक फूड्स खरीदते समय ध्यान रखें ये बातें

  • ऑर्गेनिक फूड वहीं से खरीदें, जहां पर इसकी प्रमाणिकता साबित हो।
  • ज्यादातर ऑर्गेनिक फूड सर्टिफाइड होते हैं और उनपर स्टीकर भी लगा होता है।
  • आमतौर पर ऑर्गेनिक दालों में कीड़ा लगने की शिकायत भी नहीं आती।
  • पैकेट पर लिखी जानकारी ध्‍यान जरूर पढ़ लें।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप

Read More Articles On Healthy Eating in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK