• shareIcon

Eggs With Blood Spots: क्‍या खून के धब्‍बे वाला अंडा खाना सही है? जानें अंडे की सही पहचान कैसे करें

स्वस्थ आहार By शीतल बिष्‍ट , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Oct 23, 2019
Eggs With Blood Spots: क्‍या खून के धब्‍बे वाला अंडा खाना सही है? जानें अंडे की  सही पहचान कैसे करें

Eggs With Blood Spots:अंडे बनाते समय कई बार आपने अंडे की जर्दी या बाहर के हिस्‍से में खून की बूंदे या धब्‍बे देखे होंगे। ऐसे में आप क्‍या करते हैैं? अंड़े को फेंक देते होंगे, बिल्‍कुल क्‍योंकि हम सब लोग अधिकतर यही करते हैैं। आइ

आप में से बहुत से लोग ऐसे होंगे, जो रोजाना नाश्‍ते में अंडा खाना पसंद करते होंगे। क्‍योंकि अंडा कई पोषक तत्‍वों से भरपूर और सेहत के लिए फायदेमंद जाना जाता है। आमतौर पर जो लोग जिम जाते हैं, अंडा उनकी डाइट का एक जरूरी हिस्‍सा होता है। इतना ही नहीं प्रोटीन से भरपूर अंडे को कई तरीके से बनाया भी जा सकता है। ऑमलेट हो या फिर उबाला अंडा दोनों ही टेस्‍टी और हेल्‍दी होते हैं। लेकिन दुर्भाग्य से, बढ़ते प्रदूषण और मिलावट की वजह से हमारे चारों ओर की सभी चीजें प्रभावित हो रही हैं। इसी का प्रभाव है अंडे की खराब गुणवत्ता। 

Eggs With_ Blood_Spots

आपने कई बार अंडे की जर्दी में थोड़े लाल या काले रंग के धब्बे देखे होंगे, इन धब्‍बों को देखकर लोग अक्सर अंडे को यह मानकर छोड़ देते हैं कि अंडा सड़ा हुआ है। यह सच है कि अंडे में वे धब्बे खून के होते हैं। लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या ये ब्लड स्पॉट यानि खून के धब्‍बे वाले अंडे खाने के लिए सुरक्षित हैं? आइए हम आपको बताते हैं। 

अंडे का खून कैसे होता है?

बहुत से लोग अंडा खाना बेहद पसंद करते हैं। लेकिन मात्र अंडें में खून के धब्‍बे की वजह से अंडा खाना छोड़ देते हैं, तो घबराइए नहीं हम आपको इसका सच बताते हैं। यह सच है कि अंडे में खून के धब्बे होते हैं। खैर, ये धब्बे खून की बूंदें होते हैं, जो कभी-कभी अंडे की जर्दी की सतह पर पाए जाते हैं। हालांकि, खून के धब्बे स्वाभाविक रूप से कुछ अंडे में अंडे देने के चक्र के दौरान होते हैं। इसलिए यह आपकी सेहत के लिए किसी भी तरह से नुकसानदेहक नहीं हैं। 

Eggs With_ Blood_Spots

अंडे के दो प्रकार के धब्बे हाते हैं 

अंडे में दो प्रकार के धब्‍बे होते हैं,। ये धब्बे मुर्गी के अंडाशय या डिंबवाहिनी में फंसी हुई छोटी रक्त वाहिकाओं की उपस्थिति के कारण होते हैं, एक ट्यूब जिसके माध्यम से वे अपने अंडे देते हैं। अंडे बिछाने की प्रक्रिया के दौरान, यदि पोत टूट जाता है, तो रक्तस्राव आम तौर पर अंडाशय में होता है और जर्दी के साथ जुड़ता है, जब अंडा कूप से बाहर निकलता है, जो एक तरल पदार्थ से भरा थैली होता है, जिसमें कई रक्त वाहिकाएं होती हैं।

जबकि दूसरे प्रकार के धब्बे अंडे की सफेदी में होते हैं, जो इंगित करता है कि अंडाशय में अंडा जारी होने के बाद रक्तस्राव हुआ था। इस प्रकार, यह सफेद हिस्‍से के साथ जुड़ता है, जो अंडे का थोड़ा कठोर हिस्सा होता है और इन स्थानों को ऐग मीट के धब्बे के रूप में भी जाना जाता है।

इसे भी पढें: कहीं आप तो नहीं हो रहे चाय से जुड़ी इन 5 गलतफहमियों का शिकार, जानें क्‍या है सच?

क्या खून के धब्‍बे वाले अंडे को खाना चाहिए?

ज्यादातर लोग यह मानते हुए खून के धब्‍बे वाले अंडे छोड़ देते हैं कि वह खाने योग्‍य नहीं हैं। लेकिन यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर (यूएसडीए) और एग सेफ्टी बोर्ड के एक अध्ययन के अनुसार, ठीक से पकने पर रक्त के धब्बों वाले अंडे का सेवन करना सुरक्षित होता है। इसलिए आप खून के धब्‍बे वाले अंडे को फेंकने के बजाय खा सकते हैं। 

Eggs With_ Blood_Spots

धब्‍बे वाले अंडे को यदि हाफ बॉयल यानि सही तरीके से पकाया न जाए, तो ऐसे में इसका सेवन करने से आपका साल्मोनेलोसिस का खतरा बढ़ सकता है। साल्मोनेलोसिस, यह सल्मोनेला बैक्टीरिया की उपस्थिति के कारण होने वाला एक संक्रमण है, जो अक्सर पेट दर्द, दस्त और बुखार और पाचन संबंधी समस्‍याओं का कारण बनता है। 

इसे भी पढें: आपकी रसोई में रखीं इन 8 चीजों में भी हो सकती है मिलावट! कुछ इस तरह करें इनकी शुद्धता की पहचान

अंडा सड़ा है या नहीं पहचान करें 

अंडा सड़ा है या नहीं, इसकी पहचान करना बहुत ही आसान है। इसके लिए आप जब एक अंडा तोड़ते हैं और यदि अंडे का सफेद भाग थोड़ा हरा या गुलाबी रंग होता है, तो समझ लीजिए अंडा खराब है। ऐसे में इसे फेंकना ही सही है। इसके अलावा आप अंडे की जांच करने के लिए, एक कटोरी को ठंडे पानी से भर दें, फिर अंडे को उसमें डालें, अगर अंडा डूब जातेा हैं तो वह सही है। लेकिन अगर अंडा तैरता है, तो आप उसका सेवन न करें। 

Read More Article On Healthy Diet In Hindi

 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK