• Follow Us

दिन में 2 चम्मच जैतून का तेल (olive oil) हार्ट अटैक और स्ट्रोक से रख सकता है दूर, जानें कैसे करता है काम

Updated at: Jan 21, 2020
दिन में 2 चम्मच जैतून का तेल (olive oil) हार्ट अटैक और स्ट्रोक से रख सकता है दूर, जानें कैसे करता है काम

दिन में केवल दो चम्मच कच्चा जैतून का तेल आपको ह्रदय रोगों से दूर रख सकता है। लेख में जानें कैसे।

Written by: Jitendra GuptaPublished at: Jan 21, 2020

अतीत में ऐसा माना जाता था कि ऑलिव ऑयल में मौजूद मोनोअनसैच्यूरेटेड फैटी एसिड ह्रदय की सुरक्षा के पीछे का सबसे बड़ा कारण होगा। हालांकि कुछ नए अध्ययनों में ये पाया गया है कि ऑलिव ऑयल में मौजूद पॉलीफेनोल  और हाइड्रोक्सीट्रोसोल ब्लड प्रेशर को लो करने और धमनियों को कठोर होने से बचाते हैं। 2012 में स्पेन में हुए एक अध्ययन में पाया गया था कि वे लोग जो अपनी डाइट में ऑलिव ऑयल को शामिल नहीं करते हैं उनमें इस तेल का सेवन करने वालों की तुलना में हार्ट अटैक से मरने का खतरा 44 फीसदी ज्यादा होता है।  "Healing Gone Wrong, Healing Done Right" के लेखक और कैंसर रिसर्चर व रिटायर्ड फिजिशियन रे शिलिंग दिन में दो चम्मच ऑलिव ऑयल से होने वाले फायदे के बारे में बता रहे हैं।

olive oil

ऑलिव ऑयल में मौजूद पॉलीफेनोल कैसे करता है काम

दिन में केवल दो चम्मच कच्चा जैतून का तेल आपको ह्रदय रोगों से दूर रख सकता है। यह हमारे रक्त में कुल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के साथ-साथ एलडीएल कोलेस्ट्रॉल (खराब कोलेस्ट्रॉल) के स्तर को कम करता है। जैतून के तेल में जितना अधिक पॉलीफेनोल होगा हमारा शरीर उतना अधिक एचडीएल का उत्पादन करेगा, जो कि धमनी पट्टिका से ऑक्सीकृत एलडीएल निकालने के लिए बेहद जरूरी माना जाता है।

पॉलीफेनोल से समृद्ध जैतून का तेल एचडीएल कणों के आकार में वृद्धि करेगा, जो कि धमनी पट्टिकाओं से ऑक्सीकृत एलडीएल निकालने में अधिक कुशल होता है। 2014 में इंसानों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि जैतून के तेल में पाई जाने वाली अधिक पॉलीफेनोल की मात्रा HDL2 कणों को अधिक प्रभावी रूप से बढ़ाती है।  HDL2 कण नियमित और साधारण जैतून के तेल की तुलना में अधिक कुशलता से धमनियों की पट्टिका को साफ करते हैं।

इसे भी पढ़ेंः कौन से फूड प्रोटीन वाले हैं और कौन से नहीं जानने के लिए पढ़ें लेख, एक्सपर्ट से जानें प्रोटीन के बेस्ट सोर्स

ब्लड प्रेशर लो रखता है जैतून का तेल

हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत वाले 23 लोगों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि लगातार छह महीने तक कच्चा जैतून का तेल प्रयोग करने से डॉक्टरों ने मरीजों की हाई ब्लड प्रेशर की दवाओं में 48 फीसदी की कमी देखी। अध्ययन के समाप्त होने पर सूरजमूखी के तेल का सेवन करने वाले मरीजों पर इसका कोई खास प्रभाव नहीं देखा गया। दरअसल ऑलिव ऑयल में मौजूद पॉलीफेनोल एक नाइट्रिक-ऑक्साइड रिलीज करता है, जिसे ब्लड प्रेशर कम रखने के लिए जाना जाता है। यह एक महत्वपूर्ण खोज है क्योंकि हाई ब्लड प्रेशर दिल के दौरे, कंजेस्टिव हार्ट फेल्योर, के साथ-साथ स्ट्रोक और धमनियों को कठोर बनाने के लिए एक ज्ञात जोखिम कारक है। इसलिए कच्चे जैतून के तेल के 2 बड़े चम्मच का नियमित सेवन अक्सर हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है।

olive oil

हार्ट अटैक और स्ट्रोक से मिलती है सुरक्षा

अप्रैल 2013 में द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित स्पेनिश डाइट अध्ययन में पता चला कि जैतून के तेल या नट्स के साथ मेडिटेरियन डाइट लेने वाले लोगों को लो फैट कंट्रोल डाइट लेने वालों की तुलना में 5 साल में 30 फीसदी कम दिल का दौरा पड़ा। अन्य अध्ययनों से यह भी पता चला है कि जैतून का तेल और ओमेगा -3 फैटी एसिड दिल के दौरे और स्ट्रोक को रोकने में एक बड़ी भूमिका निभाते हैं। ज्यादातर लोग जानते हैं कि नियमित रूप से एक्सरसाइज करना भी जोखिम को कम करता है और आपके बॉडी मास इंडेक्स को 25.0 से नीचे रखता है। कच्चा जैतून का तेल दिल के दौरे और स्ट्रोक से सुरक्षा प्रदान करता है लेकिन कैंसर से सुरक्षा के संकेत नहीं मिले हैं।

इसे भी पढ़ेंः कॉफी के शौकीन पीएं ये दालचीनी वाली कॉफी, इन 5 स्वास्थ्य समस्याओं से मिलेगा छुटकारा

कैसे खाएं जैतून का तेल

अपने रोजाना के भोजन में दो चम्मच ऑलिव ऑयल का प्रयोग आपको ऊपर लिखे फायदे प्रदान कर सकता है। इसके साथ ही ये बाजार में आसानी से उपलब्ध है और ज्यादा महंगा भी नहीं है। इसे अपने खाने की दिनचर्या में शामिल करना भी मुश्किल नहीं है:

  • आप अपने सलाद में जैतून का तेल और सिरका या नींबू का रस मिलाएं, और जैतून के तेल के साथ पकाएं। 
  • अगर आप 30 ग्राम (2 बड़े चम्मच) तेल का सेवन नहीं कर रहे हैं तो तेल से भरी एक चम्मच पी लें। 
  • आपको प्रोसेस्ड फूड में कटौती करने की आवश्यकता है क्योंकि ये गलत तेलों, जैसे सैफफ्लावर ऑयल, कॉर्न ऑयल, सोयाबीन तेल और दूसरे तेलों में बनाए जाते हैं। 

ये आमतौर पर ओमेगा -6 युक्त तेल होते हैं जो दिल के दौरे और स्ट्रोक का कारण बनते हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह इनका सस्ता होना है।

Read More Articles on Healthy Diet in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK