• shareIcon

International Men’s Health Week: एक्‍सपर्ट से जानें पुरुषों से जुड़ी सभी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं और उनके समाधान

पुरुष स्वास्थ्य By अतुल मोदी , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jun 15, 2019
International Men’s Health Week: एक्‍सपर्ट से जानें पुरुषों से जुड़ी सभी स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं और उनके समाधान

हर वर्ष 10 से 16 जून तक इंटरनेशनल मेन्स हेल्थ वीक 2019 (International Men’s Health Week 2019) मनाया जाता है, जिसका उद्देश्‍य पुरुषों को उनकी स्‍वास

पुरुषों और लड़कों में कई ऐसी स्वास्थ्य समस्याएं (मानसिक और शारीरिक) होती हैं, जिनका रोकथाम संभव है। इन समस्याओं के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए एक विशेष अभियान के तौर पर हर साल जून में इंटरनेशनल मेन्स हेल्थ वीक 2019 (International Men’s Health Week 2019) मनाया जाता है। यह अवधि सभी पुरुषों के लिए अपने स्वास्थ्य पर नजर डालने और ध्यान केंद्रित करने का एक अच्छा समय है। 

एक रिपोर्ट के अनुसार, ज्यादातर पुरुष लोगों के साथ अपने स्वास्थ्य के मुद्दों पर चर्चा करना पसंद नहीं करते हैं। केवल 7% पुरुष अपने मित्रों के साथ स्वास्थ्य मुद्दों पर चर्चा करते हैं। लगभग हर पांचवां पुरुष निजी समस्याओं जैसे बेडरूम से संबंधित चिंताओं, आपसी रिश्तों और मूत्र-संबंधी मुद्दों पर किसी से भी चर्चा नहीं करता।

 

अधिकांश लोग सांस्कृतिक परंपराओं के कारण अपने स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित नहीं करते हैं (एक अनुमान है जो सभी पुरुषों के लिए सही नहीं ठहराया जा सकता)- "पुरुषों को अपनी कमजोरियां नहीं दिखाना चाहिए और उन्हें सख्त रहना चाहिए" - यह उन्हें उनके स्वास्थ्य से संबंधित चिंताओं पर चर्चा करने से रोकता है। इसके अलावा पुरुषों में इस तरह का व्यवहार साथियों में अविश्वास, जागरुकता की कमी और आत्म-देखभाल की कमी के कारण भी हो सकता है।

सीने में दर्द, सांस फूलना, थकान, अवसाद, याद्दाश्त में कमी और मूत्र से संबंधित समस्या शीर्ष स्वास्थ्य चिंताओं में से एक हैं जिनकी ज्यादातर भारतीय पुरुष अनदेखी करते हैं। मेन्स हेल्थ वीक जैसे जागरुकता कार्यक्रमों में बढ़ोतरी होने से आने वाले समय में दृष्टिकोण में बदलाव की उम्मीद की जा सकती है। यहां कुछ महत्वपूर्ण स्वास्थ्य पहलू जिन पर पुरुषों को ध्यान देना चाहिए।  

सामान्य स्वास्थ्य

पुरुषों में स्वास्थ्य मुद्दों का विश्लेषण: पुरुष अक्सर तब तक स्वास्थ्य जांच की जरूरत महसूस नहीं करते, जब तक कि उसकी परिस्थिति न बने। आदर्श परिस्थिति में सभी पुरुष, फिर चाहे उनकी उम्र कुछ भी हो, अपने नजदीकी स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के साथ लगातार स्वास्थ्य जांच करवाएं।

पहचान और देखभाल के सुझाव

सामान्य स्वास्थ्य जांच में डाइबिटीज, कोलेस्ट्रॉल और अन्य लिपिड जांच, पोषण में आयरन संबंधी कमी, विटामिन डी, बी12, और अंगों के काम करने का परीक्षण, यदि किडनी, लीवर, थायराइड से जुड़े जोखिम कारक हैं। पुरुषों को दिल की बीमारियां और कैंसर होने की आशंका अधिक होती है, लेकिन वे सावधानी के संकेतों को नजरअंदाज करते हैं और बाद में इसका सामना करते हैं। लगातार स्वास्थ्य जांच करवाना उनके स्वास्थ्य के लिए किसी भी संभावित जोखिम को रोक सकता है।

शारीरिक स्वास्थ्य 

सामान्य रूप से मोटापा एक वैश्विक महामारी है जिसका हम वर्तमान में सामना कर रहे हैं। दुनिया भर में लगभग 30% लोग मोटे या अधिक वजन वाले हैं। 4 में से लगभग 3 पुरुष अधिक वजन वाले या मोटे होते हैं।

पहचान और देखभाल के टिप्स

कमर का आकार 102 सेमी या उससे अधिक होने पर पुरुषों को हृदय रोगों, मधुमेह और कैंसर का खतरा होता है। शारीरिक फिटनेस स्वास्थ्य के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है जिस पर पुरुषों को ध्यान देने की आवश्यकता है। जीवनशैली में बदलाव और बेहतर आदतों को अपनाने से एक स्वस्थ जीवन शैली प्राप्त सकती है। समर्पण और इच्छा शक्ति के साथ शारीरिक फिटनेस आसानी से प्राप्त की जा सकती है। 

आदर्श रूप से यथार्थवादी लक्ष्यों को निर्धारित करके शुरू किया जा सकता है जैसे - भोजन की आदतों में बदलाव या अपनी दैनिक दिनचर्या में कम से कम एक शारीरिक गतिविधि शामिल करना। एक दिन में फल या सब्जियों के 5 पौष्टिक हिस्से खाने या एक सप्ताह में 150 मिनट के मध्यम व्यायाम से शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है। 

एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाने का तात्पर्य है कि किसी भी तरह की जानलेवा आदत को छोड़ें, जैसे- शराब पीना और तम्बाकू से बने उत्पादों का सेवन। यदि आप एक आदतन धूम्रपान करने वाले हैं तो आपको उसे तत्काल छोड़कर अपने जीवन में वर्ष जोड़ना शुरू कर देना चाहिए। 

मानसिक स्वास्थ्य

अधिकांश पुरुष अपने व्यक्तिगत मुद्दों पर दूसरों के साथ चर्चा करने में असहज महसूस करते हैं। वे अपनी भावनाओं को मन में रखते हैं और उन्हें दबाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप विभिन्न मानसिक स्वास्थ्य मुद्दे सामने आते हैं। 75% आत्महत्याएं पुरुषों द्वारा की जाती हैं। पुरुषों में मानसिक स्वास्थ्य एक खतरनाक मुद्दा है और इसे उचित देखभाल के साथ पूरा किया जाना चाहिए। 

पहचान और देखभाल के उपाय 

अवसाद, चिंता, सेल्फ-इमेज, सेल्फ-हार्म, और तनाव मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिन्हें टाला नहीं जा सकता और इनकी अनदेखी नहीं होना चाहिए। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप उन्हें दबाने की कितनी कोशिश करते हैं, जब विचारों का संघर्ष होता है तो वे फिर जी उठते हैं। तनाव से निपटने का एक बेहतर तरीका है बात करना। अपने दोस्तों और परिवार या किसी चिकित्सक से बात करें, लेकिन बात करना महत्वपूर्ण है। आपके द्वारा अनुभव किया जाने वाला कोई भी डर अस्थायी होता है। 

आपके दिमाग और शरीर के साथ केवल एक चीज ही टिकेगी और वह है सकारात्मक संबंध। जहां भी आप सबसे सुरक्षित महसूस करते हैं, वहां से सहायता लें। अपने क्षेत्र में सहायता समूहों की तलाश करें जो आपका हिस्सा बन सकते हैं। उन आदतों को बढ़ावा देना महत्वपूर्ण है जो न केवल आपके मनोदशा को दैनिक आधार पर बेहतर बनाती हैं, बल्कि आपको लंबा और संपूर्ण जीवन जीने में भी मदद करती हैं।

यौन स्‍वास्‍थ्‍य  

विभिन्न शारीरिक, मनोवैज्ञानिक, पारस्परिक और सामाजिक कारक किसी व्यक्ति के यौन स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। यह अनुमान लगाया गया है कि 10 में से कम से कम 1 आदमी को यौन संबंधित समस्या है, जैसे कि शीघ्रपतन या स्तंभन दोष। अधिकांश पुरुष इन मुद्दों पर दूसरों के साथ चर्चा करने में असहज महसूस करते हैं। लेकिन जल्द से जल्द आवश्यक सहायता प्राप्त करने से वे खुद को असुविधा और परेशानी से बचा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: पुरुषों में इन 5 बीमारियों का खतरा रहता है सबसे ज्‍यादा, जानें कारण और लक्षण

पहचान और देखभाल के सुझाव 

यौन जागरुकता और बार-बार स्व-परीक्षा महत्वपूर्ण है। हेपेटाइटिस बी टेस्ट और टीकाकरण, एचआईवी प्रोफिलैक्सिस या परीक्षण, प्रोटेक्टेड सेक्स और अन्य निवारक उपाय पुरुषों को एसटीडी से सुरक्षित रख सकते हैं।

खुद की देखभाल पुरुषों के शारीरिक और मानसिक कल्याण के केंद्र में होता है। पुरुषों और लड़कों को एक ऐसी दुनिया में खड़ा किया जाना चाहिए जहां वे सेल्फ-इमेज से जुड़े मुद्दों से टकराव की स्थिति में न हो। उन्हें खुद के लिए सबसे अच्छे तरीके से देखभाल करना सीखना चाहिए। पुरुषों में खुद की देखभाल की आवश्यकता पहले से अधिक है; विशेष रूप से, जब सभी प्रयास पुरुषों के स्वस्थ जीवन को सुनिश्चित करने के एकमात्र उद्देश्य से संचालित होते हैं।

यह लेख डॉक्‍टर बिनीता प्रियंबदा (सीनियर कंसल्‍टेंट, मेडिकल टीम, डॉक प्राइम.कॉम) से हुई बातचीत पर आधारित है।  

Read More Articles On Men's Health In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK