दिल्ली सरकार बना रही है देश का पहला प्लाज्मा बैंक, जानें कोरोना के गंभीर मरीजों की कैसे मदद करेगा ये बैंक

Updated at: Jun 30, 2020
दिल्ली सरकार बना रही है देश का पहला प्लाज्मा बैंक, जानें कोरोना के गंभीर मरीजों की कैसे मदद करेगा ये बैंक

दिल्ली में देश का पहला प्लाज्मा बैंक बनाया जा रहा है। कोरोना वायरस के 84 गंभीर मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी दी गई थी, जिनमें से 80 मरीज ठीक हो चुके हैं।

Anurag Anubhav
लेटेस्टWritten by: Anurag AnubhavPublished at: Jun 30, 2020

भारत में कोरोना वायरस तेजी से बढ़ता जा रहा है। पिछले कुछ सप्ताह से लगातार रोजाना 15-20 हजार नए पॉजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं। ज्यादातर लोगों में ये वायरस हल्के लक्षणों वाला है, जिन्हें आइसोलेशन में रखकर और सामान्य इलाज के द्वारा ठीक किया जा रहा है। लेकिन जो मरीज गंभीर स्थिति में हैं या वेंटिलेटर पर हैं, उन्हें ठीक करने के लिए अभी तक सिर्फ एक इलाज कारगर पाया गया है और वो है प्लाज्मा थेरेपी। शुरुआत में सरकारें प्लाज्मा थेरेपी को लेकर आश्वस्त नहीं थीं, लेकिन बाद में हुए ट्रायल्स और अध्ययनों में ये बात सामने आई है कि कोरोना वायरस के गंभीर मरीजों की जान बचाने के लिए फिलहाल प्लाज्मा थेरेपी से बेहतर कोई तरीका नहीं है। यही कारण है कि राष्ट्रीय दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राजधानी में देश का पहला प्लाज्मा बैंक बनाने की घोषणा की है।

plasma

ये देश का पहला प्लाज्मा बैंक होगा

देश में अब तक रोगों के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी की उतनी चर्चा या जरूरत नहीं थी कि इसके लिए अलग से एक बैंक बनाया जाए। जिस तरह खून की जरूरत को पूरा करने के लिए ब्लड बैंक बनाए गए हैं, उसी तरह अब प्लाज्मा को स्टोर करके रखने और जरूरतमंद तक उसे पहुंचाने के लिए ये देश का पहला प्लाज्मा बैंक होगा।

इसे भी पढ़ें: प्लाज्मा थेरेपी COVID-19 के इलाज में कितनी कारगर ? जाने कैसे करती है ये काम

2 दिन में शुरू हो जाएगा प्लाज्मा बैंक

मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए ये सूचना दी और बताया कि दिल्ली में ये प्लाज्मा बैंक दिल्ली सरकार के द्वारा ही संचालित यकृत एवं पित्त विज्ञान संस्थान Institute of Liver and Biliary Science में बनाया जाएगा। ये प्लाज्मा बैंक अगले 2 दिन में शुरू होने की सूचना है। प्लाज्मा डोनेट करने में किसी को कोई परेशानी न हो, इसके लिए सरकार ने सारे इंतजाम कर लिए हैं। जो व्यक्ति अपनी सहमति देगा या जिसे प्लाज्मा डोनेट करना है, वो सरकार द्वारा जारी नंबर पर फोन करके इसकी सूचना देगा, उसे घर से ILBS हॉस्पिटल तक लाने और छोड़ने का इंतजाम सरकार करेगी।

कोविड-19 से ठीक हो चुके मरीजों से करेगी अपील

दिल्ली सरकार फोन करके ऐसे मरीजों से प्लाज्मा डोनेट करने के लिए अपील करेगी, जो कोविड-19 इंफेक्शन से ठीक हो चुके हैं और निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद 14 दिन का स्वस्थ समय बिता चुके हैं। इस बारे में दिल्ली के उपमुख्य मंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्विटर पर लिखा, "दिल्ली सरकार देश का पहला plasma bank बना रही है। कोरोना से ठीक हो चुके लोग अपना plasma जरूर दान करें। किसी की जान बचाने का मौका बहुत कम मिलता है। इससे बड़ा कोई धर्म नहीं।"

इसे भी पढ़ें: वायरस और बैक्टीरिया से बचाव में फायदेमंद हो सकता है 'सांस लेने का ये तरीका', वायरल बीमारियों का खतरा होगा कम

ट्रायल में पाए गए थे अच्छे नतीजे

आपको बता दें कि दिल्ली में प्लाज्मा थेरेपी का ट्रायल बहुत पहले ही शुरू कर दिया गया था। इन ट्रायल्स में इस थेरेपी के अच्छे परिणाम देखने को मिले थे। पिछले दिनों जब दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद गंभीर रूप से बीमार हुए थे, तब उन्हें भी प्लाज्मा थेरेपी के जरिए ही ठीक किया गया था। अब सत्येंद्र जैन स्वस्थ हैं। दिल्ली सरकार के अनुसार एलएनजेपी हॉस्पिटल में पिछले दिनों 35 मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी दी थी, जिनमें से 34 मरीजों की जान गंभीर संक्रमण के बावजूद बचा ली गई। वहीं दिल्ली के प्राइवेट हॉस्पिटल्स में भी 49 मरीजों के प्लाज्मा थेरेपी दी गई थी, जिनमें से 46 लोगों की जान बचाई गई और वे आज पूरी तरह स्वस्थ हैं।

Read More Articles on Health News in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK