• shareIcon

भारत की मातृ मृत्यु दर में लगातार आ रही है गिरावट: स्टडी

लेटेस्ट By ओन्लीमाईहैल्थ लेखक , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Dec 20, 2016
भारत की मातृ मृत्यु दर में लगातार आ रही है गिरावट: स्टडी

भारतीय मातृ मृत्यु दर में गिरावट आ रही है, धीरे-धीरे ही सही लेकिन लगातार गिरावट आ रही है। मातृ मृत्यु दर हर साल प्रति 1 लाख बच्चों के जन्म के दौरान प्रेग्नेंसी या उसके मैनेजमेंट की वजह से होने वाली मांओं की मौत की संख्या होती है।

देश में मातृ मृत्यु दर (एमएमआर) में समय के साथ तेजी से गिरावट आई है। इस बात की जानकारी यूके के रॉयल डेवोन ऐंड एक्सेटर हॉस्पिटल के क्लीनिकल एजूकेशन ऐंड कंसल्टेंट कॉर्डियोसॉजिस्ट जॉन मेकॉन ने दी।

उन्होंने कहा, 'भारतीय मातृ मृत्यु दर में गिरावट आ रही है, धीरे-धीरे ही सही लेकिन लगातार गिरावट आ रही है। मातृ मृत्यु दर हर साल प्रति 1 लाख बच्चों के जन्म के दौरान प्रेग्नेंसी या उसके मैनेजमेंट की वजह से होने वाली मांओं की मौत की संख्या होती है। (दुर्घटना या किसी बाहरी घटना को छोड़कर)'

maternal-mortality

देश में मातृ मृत्यु पर मैकइवान ने कहा कि 2014 में दर्ज हुई 124 मौतों के विश्लेषण से पता चलता है कि भारत में 23.4 फीसदी मौतें प्रसव के बाद होने वाले रक्त स्राव, 17.7 फीसदी मौतें एनीमिया या खून की कमी, 4.8 फीसदी मौतें प्रसव पूर्व रक्त स्राव और 14 फीसदी मौतें इक्लैम्प्सीअ (प्रेग्नेंसी के दौरान कोमा में जाने वाली स्थिति) के कारण हुईं।

शीघ्र निदान और उपचार के लिए जिन्हें दिल की बीमारी है उनके लिए प्रेग्नेंसी के दौरान जिन्हें डाइयुरेटिक्स बहुत जरूरी होती है। यूके के हल ऐंड ईस्ट यॉर्कशर एनएचएस हॉस्पिटल के कंसलटेंट नेफ्रोलॉजिस्ट सुनील भंडारी ने कहा कि प्रेग्नेंसी के दौरान हाइपरटेंशन सबसे आम समस्या थी।

Image Source: DNA&The Indian Express

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK