Subscribe to Onlymyhealth Newsletter

बालों को कलर कराते समय ध्‍यान रखें ये बातें

बालों की देखभाल
By Pooja Sinha , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Aug 26, 2013
बालों को कलर कराते समय ध्‍यान रखें ये बातें

यदि आप बालों में कलर कराना चाहती हैं तो इसके फायदे और नुकसान के बारे में आपको पता होना चाहिए। हेयर डाई के खतरे जानने के लिए इस लेख को पढ़ें।

Quick Bites
  • कलर करने में लापरवाही नुकसानदायक हो सकती हे।
  • त्वचा में मामूली जलन या सनसनाहट महसूस होती है।
  • एलर्जिक अटैक से बचने के लिए आप पैच टेस्ट करें।  
  • लगातार एक ही अच्‍छा ब्रांड उपयोग करने की कोशिश करें।

बालों में कलर करने का चलन पिछले कुछ सालों में तेजी के साथ बढ़ा है। एक आंकड़े के मुताबिक करीब 75 फीसदी महिलाएं अपने बालों में रंग कराती हैं। वहीं उम्रदराज पुरुष भी अपने बालों में कलर करा रहे हैं। लेकिन कलर करने में जरा सी लापरवाही आपके लिए नुकसानदायक भी हो सकती है। कलर कई तरह का होता है जैसे नेचुरल कलर, टेम्‍परेरी कलर और परमानेंट हेयर कलर। इस लेख के जरिए हम आपको बता रहे हैं बालों में कलर करने से आपको क्‍या नुकसान हो सकता है और इससे आपको कैसे बचना चाहिए।

hair colour in hindi
एलर्जिक रिएक्शन

हेयर डाई से होने वाला एलर्जिक रिएक्शन मामूली असर वाला या फिर गंभीर दोनों हो सकता है। बालों में कलर करने के बाद यदि आपको सिर की त्वचा में मामूली जलन या सनसनाहट महसूस होती है तो यह एलर्जी की शुरूआत हो सकती है। यदि कलर करने के बाद आपके माथे, कान, गर्दन के पीछे सूजन और आंखों में जलन की शिकायत होती है तो यह एलर्जी का गंभीर मामला हो सकता है। हालांकि अभी इस तरह के मामले कम ही प्रकाश में आए हैं।


हेयर डाई एलर्जी से बचने के तरीके

आप बालों में कलर कराना चाहते हैं तो कुछ सावधानी बरत कर हेयर डाई से हो सकने वाले नुकसान से बच सकते हैं। ऐसा करने से आपके सिर के बाल ज्‍यादा समय तक ठीक रहेंगे। जब भी आप किसी नए ब्रांड को इस्‍तेमाल करें तो पहले उसके बारे में अच्‍छे से जानकारी कर लें। ऐसा देखा गया है कि कई बार कुछ लोग कलर बदलने से एलर्जी का शिकार हुए हैं। कोशिश करें कि आप लगातार एक ही अच्‍छा ब्रांड उपयोग करें।


क्विक पैच टेस्ट

एलर्जिक अटैक से बचने के लिए पैच टेस्ट अच्छा उपाय है। पैच टेस्ट, किसी प्रोडक्ट के प्रति आपकी त्वचा की संवेदनशीलता को दर्शाता है। इसके साथ ही आपको एलर्जिक रिएक्शन से भी बचाता है। इसलिए हेयर डाई का मिश्रण बनाते समय लेबल पर दिए गए निर्देशों को पढ़ लें। कान के पीछे का हिस्सा सबसे ज्‍यादा संवेदनशील होता है। यह किसी भी प्रकार के एलर्जिक रिएक्‍शन के लक्षणों को तुरंत दिखाता है। आप रुई के टुकड़े को हेयर डाई के मिश्रण में डुबाकर कान के पीछे लगा लें। इसे 24 घंटे तक लगाकर रखने से आप एलर्जी के प्रकोप से बचे रहेंगे। यदि आप हेयर डाई को निर्धारित समय से ज्‍यादा लगाकर रखते हैं तो यह आपके लिए नुकसानदायक भी हो सकती है।


खूबसूरती के लिए हेयर कलरिंग

हेयर कलर कराना फैशन का हिस्‍सा बन गया है। इसे कराने वाले अधिकतर लोग कलरिंग के फायदे और नुकसान के बारे में नहीं सोच रहे हैं। कलर कराने वालों का पहला मकसद भूरे बालों को छिपाना और लुक में बदलाव करना है। महज हेयरकट ही नहीं बल्कि बालों में बने स्‍ट्रीक्‍स भी आपकी खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं।


एलर्जिक रिएक्शन से बचाव

यदि आपको एलर्जिक रिएक्शन होने का खतरा लगता है तो किसी भी परेशानी से बचने के लिए पानी की धार से अपने बालों को धो लें। इससे हेयर कलर आपके बालों से साफ हो जाएगा। यदि फिर भी आपके बालों में कोई केमिकल रह गया है तो आप क्‍लेरिफाइंग शैम्‍पू से इसे हटा सकती हैं।


इस लेख से संबंधित किसी प्रकार के सवाल या सुझाव के लिए आप यहां पोस्‍ट/कमेंट कर सकते हैं।

Image Source : Getty

Read More Articles On Hair Colouring In Hindi.

Written by
Pooja Sinha
Source: ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभागAug 26, 2013

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

More For You
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK