Hypertension Diet: ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए खाएं गेंहू, जौ और जई के आटे, जानें क्‍यों हैं ये फायदेमंद

Updated at: May 15, 2020
Hypertension Diet: ब्‍लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए खाएं गेंहू, जौ और जई के आटे, जानें क्‍यों हैं ये फायदेमंद

जो लोग उच्‍च रक्‍त चाप यानी हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या से परेशान हैं उन्‍हें रिफाइंड फ्लोर या मैदा के बजाए होल ग्रेन फ्लोर का सेवन करना चाहिए।

Atul Modi
स्वस्थ आहारWritten by: Atul ModiPublished at: Aug 06, 2019

ब्‍लड प्रेशर या रक्‍तचाप (Blood pressure) को रक्‍त की धमनियों के विपरीत दबाव के रूप में परिभाषित किया जाता है। रक्‍तचाप में दो घटक होते हैं- सिस्‍टोलिक ब्‍लड प्रेशर और डायस्‍टोलिक ब्‍लड प्रेशर। सिस्‍टोलिक ब्‍लड प्रेशर तब होता है जब शरीर में बहने वाले रक्‍त पर दबाव पड़ता है। इसे हाई ब्‍लड प्रेशर कहते हैं। और जब हार्टबीट और रक्‍तवाहिकाओं के बीच दबाव पड़ता है तो उसे डायस्‍टोलिक ब्‍लड प्रेशर या लो-ब्‍लड प्रेशर कहते हैं। हाई ब्‍लड प्रेशर एक ऐसी स्थिति है जब सिस्‍टोलिक ब्‍लड प्रेशर और डायस्‍टोलिक ब्‍लड प्रेशर (Systolic BP and Diastolic BP) अपनी लिमिट से ऊपर चले जाते हैं। हाई ब्‍लड प्रेशर (High blood pressure) को हाइपरटेंशन (Hypertension) भी कहते हैं।

blood pressure

कई बार हाई ब्लड प्रेशर खतरनाक स्थिति में पहुंच जाता है कि आमतौर पर इसके कोई लक्षण नहीं होते हैं। हालांकि, दवा, व्यायाम और एक स्वस्थ आहार जो सोडियम और वसा में कम है, की मदद से स्थिति का इलाज किया जाता है। कुछ खाद्य पदार्थ और पेय हैं जो दवा के साथ स्थिति को प्रबंधित करने और रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

हाइपरटेंशन में साबुत अनाज के फायदे- Benefits Of Whole Grains In Hypertension

आमतौर पर, हाइपरटेंशन के मरीजों को निम्‍न सोडियम आहार लेने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा, जिन्‍हें हाई ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या है उन्‍हें रिफाइंड फ्लोर या मैदा के बजाए होल ग्रेन फ्लोर के सेवन की सलाह डॉक्‍टरों द्वारा दी जाती है। साथ ही साथ ज्‍यादा सब्जियां और फल लेने की रिकमंड किया जाता है। दरअसल, होल ग्रेन यानी साबुत अनाज को डाइट में शामिल करने से उच्‍च रक्‍तचाप के लिए फायदेमंद होता है। अमेरिकन जर्नल ऑफ क्‍लीनिकल न्‍यूट्रिशन में प्रकाशित 2010 के अध्‍ययन के अनुसार, साबुत अनाज से युक्‍त आहार एंटी-हाइपरटेंशिव मेडिकेशन (Anti-hypertensive medication) की तरह प्रभावी हैं, क्‍योंकि ये रक्‍तचाप को कम कर सकते हैं। यह हृदय रोगों के खतरों, स्‍ट्रोक और हार्ट अटैक आदि के खतरों को कम कर सकते हैं।

यहां कुछ साबुत अनाज के आटे (Whole grain flour) दिए गए हैं जो उच्च रक्तचाप आहार में शामिल किए जा सकते हैं:

1. गेहूं का आटा

गेहूं का आटा, भारत में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाले आटे में से एक है। गेहूं से रोटियां या चपातियां तैयार की जाती हैं। गेहूं के चोकर को शाकाहारी और मांसाहारी खाद्य पदार्थों के साथ खाया जाता है। गेहूं के आटे में फाइबर और प्रोटीन अच्छी मात्रा में होता है। अपने लिए चुनें सही आटा

इसे भी पढ़ें: गर्भावस्था में उच्च रक्तचाप के कारण बच्‍चे का विकास होता है प्रभावित

2. जई का आटा

जई को आटे में बदला जा सकता है जिसका उपयोग कई प्रकार के व्यंजन बनाने में किया जा सकता है- मीठा और नमकीन दोनों। जई की सबसे अच्छी किस्में आती हैं। आपको बस इतना करना है कि ओट्स को ग्राइंडर में बारीक पाउडर जैसी स्थिरता के साथ ब्लिट करना है और ब्रेड, पैनकेक आदि बनाने के लिए रिफाइंड आटे के बजाय इसका उपयोग करना है।

इसे भी पढ़ें: सिरदर्द और सांस लेने में दिक्‍कत हाई ब्‍लड प्रेशर के हैं संकेत, इन 5 नुस्‍खों से तुरंत करें कंट्रोल

3. जौ का आटा

जौ की खेती प्राचीन काल से की जा रही है। मगर, आजकल इनकी पैदावार कम हो गई है। जौ का आटा कई तरह से फायदेमंद है। 100 ग्राम ग्राम जौ में 17 ग्राम आहार फाइबर और 12 ग्राम प्रोटीन होता है। यह हाइपरटेंशन के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है। 

कुछ लोगों को कुछ विशेष आटे से एलर्जी की प्रतिक्रिया के लिए जाना जाता है। हालांकि ये एलर्जी के लक्षण दिखाएं, तो यह सुनिश्चित करना बेहतर है कि ये अनाज आपके खाने के लिए सुरक्षित हैं या नही।

Read More Articles On Diet & Nutrition In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK