• shareIcon

पीरियड रैशेज की रोकथाम और बचाव के टिप्स

महिला स्‍वास्थ्‍य By Nachiketa Sharma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jan 29, 2015
पीरियड रैशेज की रोकथाम और बचाव के टिप्स

पीरियड के दौरान महिलाओं में कई तरह की समस्‍यायें होती हैं, इनमें पीरियड रैशेज भी हैं, रैशेज पड़ने से खुजली होती है और घाव भी हो सकता है, इसलिए इसकी रोकथाम और बचाव जरूरी है।

पीरियड्स का दौर महिलाओं के लिए मुश्किल भरा हो सकता है, क्‍योंकि मासिक धर्म से पहले और बाद में भी कई तरह की समस्‍यायें होती हैं। पीएमएस, अधिक खून का बहना, खून के थक्‍के जमना, आदि के बाद उसे कई बार रैशेज की समस्‍या से भी जूझना पड़ता है। इन दिनों महिला के पेट के निचले हिस्‍से में दर्द होता है जिसके कारण उसे सामान्‍य जीवनयापन में समस्‍या होती है।

पीरियड रैशेज को वह सामान्‍य ही समझती है जिसके कारण यह समस्‍या गंभीर भी हो जाती है। रैशेज पड़ने से खुजली होती है, अगर इसे खुजला दिया जाए तो इसके कारण घाव हो जाता है औ वहां से खून निकलने लगता है। इसलिए बेहतर यही होगा कि अपने पीरियड्स के दिनों में उन हिस्‍सों का खास खयाल रखें और रैशेज की संभावना को कम करें। इस लेख में विस्‍तार से जानें कैसे पीरियड रैशेज से बचाव कर सकते हैं।
Period Rashes in Hindi

सफाई पर ध्‍यान दें

सफाई पर ध्‍यान न देने के कारण ही रैशेज की संभावना बढ़ जाती है। सही तरीके से सफाई न होना भी रैशेज का प्रमुख कारण भी है। इसलिए महिला को इन दिनों में सफाई पर विशेष ध्‍यान देना चाहिए। सफाई रखने से किसी भी तरह के बैक्‍टीरिया नहीं होते हैं।

पैड बदलती रहें

पीरियड्स के दौरान पैड या कपड़ा बदलने में बिलकुल भी कोताही न बरतें। पहले, दूसरे व तीसरे दिन हर 6 घंटे में पैड को जरूर बदलें। इससे किसी भी प्रकार का संक्रमण नहीं होगा और रैशेज भी नहीं पड़ेगें। चौथे व पांचवे दिन 8 से 9 घंटे पर पैड बदलें।

एंटीसेप्टिक का प्रयोग करें

रैशेज की समस्‍या को दूर करने के लिए आप एंटीसेप्टिक का प्रयोग कर सकती हैं। आजकल बाजार में कई प्रकार की एंटीसेप्टिक क्रीम आती हैं। इनको लगाने से पीरियड्स के दौरान रैशेज से बचाव किया जा सकता है। जब भी पैड बदलें तो इन क्रीम का प्रयोग करें। लेकिन इन क्रीम का प्रयोग करने से पहले चिकित्‍सक से सलाह जरूर लें।


अच्‍छी गुणवत्‍ता वाल सैनीटरी प्रयोग करें

पीरियड के दिनों में महिलाओं को हमेशा अच्‍छे सैनेटरी पैड का प्रयोग करना चाहिए, सैनीटरी पैड ऐसा हो जो ब्‍लीडिंग को पूरी तरह से सोख ले और लम्‍बे समय तक चले, इससे आसपास खून नहीं फैलेगा और रैशेज की संभावना भी कम हो जायेगी।

Prevent Period Rashes in Hindi
पाउडर का प्रयोग करें

पीरियड्स के दिनों में जब भी आप सैनेटरी पैड को बदलें तो जननांगों की सफाई के बाद पाउडर लगा लें। इससे जननांग सूख जायेंगे और रैशेज की संभावना भी कम हो जायेगी। अगर आपको अक्‍सर रैशेज की शिकायत होती है तो एंटीसेप्टिक पाउडर का प्रयोग करें।

रैशेज कोई गंभीर समस्‍या नहीं है, यह साफ-सफाई न करने के कारण होने वाली समस्‍या है, इसलिए न केवल पीरियड के समय बल्कि सामान्‍य दिनों में भी सफाई पर विशेष ध्‍यान दें।

 

Image Source - Getty Images

Read More Articles on Womens Health in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK