प्यार में परेशानियां पैदा कर सकते हैं डॉमिनेटिंग मां-बाप, जानें प्यार और पेरेंट्स के बीच कैंसे बनाएं बैलेंस

Updated at: Oct 21, 2020
प्यार में परेशानियां पैदा कर सकते हैं डॉमिनेटिंग मां-बाप, जानें प्यार और पेरेंट्स के बीच कैंसे बनाएं बैलेंस

प्यार को पाने के लिए माता-पिता को नजरअंदाज न करें। भले ही आपके पेरेंट्स डॉमिनेटिंग हों, पर आपको उन्हें मनाने की कोशिश करनी चाहिए।

Pallavi Kumari
मैरिजWritten by: Pallavi KumariPublished at: Oct 21, 2020

माता-पिता शुरू से ही अपने बच्चों के भविष्य से जुड़ी हर चीज को लेकर परेशान होते रहते हैं। पर सबसे ज्यादा परेशानी उस वक्त आ खड़ी होती है जब उनके बच्चों के जीवन में उनके अलावा भी कोई खास अहमियत रखने लगा हो। ऐसे में माता-पिता को तब थोड़ा ज्यादा बुरा लगने लगता है, जब आप उनकी बातों को नजरअंदाज कर उस खास इंसान की बात पर ज्यादा ध्यान देते हैं।  वहीं लोगों के लिए ऐसे वक्त में प्यार और मम्मी-पापा को बैलेंस करना और मुश्किल हो जाता है। बैंलेसिंग का काम तब थोड़ा और मुश्किल हो जाता है, जब आपके माता-पिता रिजड हों यानी कि बिलकुल भी बदलाव न पसंद करें और वो आपके फैसलों को लेकर आपको डॉमिनेट करने लगें। ऐसी ही डामिनेटिंग माता-पिता (dominating parents)को मनाने के लिए आज हम कुछ खास टिप्स लाएं हैं, जो कि आपको अपने प्यार और माता-पिता के बीच संतुलन बनाए रखने में मदद करेगा।

insidedominatingparents

प्यार और पेरेंट्स के बीच कैंसे बनाएं बैलेंस?

1.अपनी पसंद के बारे में शुरु से ही बताएं

माता-पिता वैसे अपने बच्चों को अच्छे तरीके से जानते हैं और उन्हें पता होता है कि उनके बच्चे कब क्या चाह रहे होंगे। इसी तरह बच्चों को भी अपने माता-पिता को समझना चाहिए और इसलिए शुरू से ही अपने माता-पिता को अपने प्यार और पसंद के बारे में बता दें। वहीं अगर आप अपने पार्टनर को लेकर पूरी तरह से मन बना चुके हैं, तो उनकी मुलाकात अपने माता-पिता से भी करवा दें। वहीं दोनों को एक साथ बाहर ले जाएं और खास कर अपनी मम्मी को उस लड़की के करीब लाने की कोशिश करें। अगर एक बार ये दोनों एक दूसरे को थोड़ा सा पसंद करने लगें, तो चीजें बाद के लिए अपने आप ही आसान होगी लेगेंगी।

इसे भी पढ़ें : दांपत्य जीवन में टूट रहीं हैं पुरानी धारणाएं, रिश्ते और परिवार को संभालने के लिए बन रहे हैं नए नियम

2.मां-बाप को नजरअंदाज न करें

मम्मी-पापा को सबसे ज्यादा परेशानी उस वक्त होने लगती है, जब उनके बच्चे  प्यार के लिए उन्हें नजरअंदाज करने लगते हैं। ऐसे में समय पर माता-पिता की चीजे न लाना, उनके काम को नजरअंदाज करना और उनके साथ समय न बिताना आपके प्रति उनके रवैए को और सख्त बना सकता है। वहीं आपका समय न देना माता-पिता में एक जलन पैदा कर सकता है। इसलिए आप अपनी मां-पापा को पहले जितना की समय और महत्व दें और अपने प्यार को इस बारे में समझाएं कि आपके लिए मां और पापा भी उतना ही जरूरी है, जितना कि वो।

insidedifferencesbetweencouples

3.फैसले सुनाएं नहीं, मम्मी पापा को मनाएं

किसी भी डामिनेटिंग इंसान में एक चीज बहुत खराब होती है कि आप उसे अपने फैसलों और राय को बदलने के लिए आसानी से मना नहीं सकते। पर ये आपके माता-पिता हैं  और आपसे प्यार करते हैं, तो एक बार चीजों को समझने की कोशिश जरूर करेंगे। तो अगर आप उन्हें शादी करने के लिए मना रहे हैं या उन्हें अपने पसंद को मिलने के लिए कह रहे हैं, तो इसके लिए उन्हें प्रोत्साहित करें और मनाएं। ये नहीं कि आप उनके कहें कि आपको लोगों को ऐसा करना पड़ेगा, नहीं आप आप अपने मन ही करेंगे। इस तरह का जिद्दी रवैया न अपनाएं, इसकी जगह उन्हें प्यार से मनाने और समझाने की कोशिश करें।

इसे भी पढ़ें : पति के दोस्तों को नापसंद करती हैं आप? तो झगड़ें नहीं बल्कि ऐसे करें चीजों को बैलेंस

इस तरह आप इन तरीकों से अपने माता-पिता को अपने प्यार और रिलेशनशिप के लिए मना सकते हैं। वहीं तब भी न मानें, तो उन्हें समझाएं कि वो आप उनके बिना खुश नहीं रह सकते हैं। आपको को फर्क पड़ता है कि आपकी फैमिली क्या चाहती है। साथ ही अपने प्यार यानी कि अपने पार्टनर से भी आपके माता-पिता से मिलने को करें और रिश्ते के लिए थोड़ी मेहनत करने को कहें।

Read more articles on Marriage in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK