• shareIcon

    दफ्तर में आने वाली सुस्ती और नींद को भगाएं दूर

    आफिस स्‍वास्‍थ्‍य By Shabnam Khan , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / May 15, 2015
    दफ्तर में आने वाली सुस्ती और नींद को भगाएं दूर

    दफ्तर काम करने के लिए बना है, ना कि आराम करने के लिए। ऐसे में आप कैसे खुद को नींद के इस हमले से बचा सकते हैं, यह जानना काफी मददगार हो सकता है।

    हम सब जानते हैं कि दफ्तर में काम करना चाहिए, लेकिन कई बार काम के दौरान आंखें भारी होने लगती है, दिमाग ध्‍यान केंद्रित कर पाने में असफल हो जाता है और शरीर जरूरत महसूस करता है बस एक अदद बिस्‍तर की। लेकिन, दफ्तर काम करने के लिए बना है, ना कि आराम करने के लिए। ऐसे में आप कैसे खुद को नींद के इस हमले से बचा सकते हैं, यह जानना काफी मददगार हो सकता है।

    बॉस ने आपको एक जरूरी प्रोजेक्‍ट दे रखा है। शाम तक आपको काम खत्‍म करना है, लेकिन आंखें कंप्‍यूटर स्‍क्रीन पर लगने के बजाय बार-बार बोझिल हो रही हैं। झपकियां काम पर ध्‍यान लगाने ही नहीं दे रही। आप चाहकर भी अपना सौ फीसदी नहीं दे पा रहे। यह परिस्थिति आपके लिए काफी मुश्किल भरी हो सकती है। आइए जानें आप कैसे इन हालात से निपट सकते हैं।

    s;eepy

    ऑफिस में काम पर हुए एक शोध के मुताबिक दोपहर के खाने के बाद अक्‍सर लोगों की कार्यक्षमता कम हो जाती है। लोगों को नींद के झोंके आने लगते हैं। ऐसे में हमारा शरीर भले ही ऑफिस की कुर्सी पर हो, लेकिन मन की चाह तो बस एक बिस्‍तर की होती है। काम करना मुश्किल हो जाता है और दिल करता है कि बस आराम करने को मिल जाए। लेकिन, दफ्तर आपको सोने का वक्‍त और पैसा नहीं देता है। तो फिर ऐसे वक्‍त में क्‍या किया जाए, जिससे आप स्‍वयं को जागृत रख पायें और अपना दिल काम में लगा पायें। 

     

    चबाइये और नींद भगाइये

    काम के दौरान अगर सुस्ती आने लगे, तो बेहतर है कि कुछ चबाने लग जाएं। आप अपने पास स्‍नैक्‍स, मूंगफली अथवा च्‍युइंग गम आदि रख सकते हैा। आप चाहें तो, सेब भी खा सकते हैं। इससे आपका आलस्‍य दूर होगा और आपको काम करने के लिए ऊर्जा मिलेगी।

     

    कुछ हटकर करें

    अपने काम करने का अंदाज बदलकर देखें। एक ही तरीके से काम करने से बोरियत होना लाजमी है। ऐसे में आपको चाहिए कि कुछ हटकर करें। हो सके तो कुछ देर संगीत सुन लें। हे‍ल‍सिंकी विश्व‍विद्यालय, फिनलैंड के शोधकर्ताओं ने वर्ष 2008 में संगीत और कार्यक्षमता के संबंधो का पता लगाया था। इसमें कहा गया कि संगीत अर्थ समझने की क्षमता, स्‍मरण शक्ति मजबूत बनाना, संचालक कार्य करने की क्षमता में बढ़ोत्तरी करना और भावनात्मक रूप से अधिक मजबूत बनाता है। इतना ही नहीं संगीत से बीमार लोगों की सेहत में सुधार की बात भी सामने आयी है।

     

    जरा टहलें

    जब कभी आपको ऑफिस की कुर्सी पर काम करते-करते आलस सताने लगे, तो कुछ देर टहल लेना चाहिए। इससे आलस्‍य और शिथिलता दूर हो जाती है। यदि आपके पास थोड़ा समय हों, तो बाहर की चाय वाली दुकान तक हो आयें। पांच-दस मिनट का यह ब्रेक आपको लंबे समय तक काम करने की ऊर्जा प्रदान करेगा। अगर आप चाय की दुकान तक न भी जा सकते हों, तो पानी पीने के लिए ही अपनी सीट से उठ जाएं। इससे भी लगातार कंप्‍यूटर स्‍क्रीन पर लगी आपकी आंखों को आराम मिलेगा।

    आंखों पर छींटें मारें

    जब नींद हावी होने लग जाए, तो एक रामबाण इलाज है आंखों पर पानी के छींटे मारना। उठकर वॉशरूम जाइए और मुंह धोइए। इसके साथ ही आंखें खोलकर उस पर पानी के छींटे मारिये। इससे सुस्‍ती दूर करने में मदद मिलती और आप पहले से बेहतर महसूस करने लगते हैं।

     

    शब्दो का या मंत्रो का उच्‍चारण करें

    गाड़ी में म्‍यूजिक चलाने का एक मकसद खुद को जागृत रखना भी होता है। यही नियम आप अपने काम पर भी लागू कर सकते हैं। आप काम के साथ-साथ किसी मंत्र अथवा शब्‍दों का उच्‍चारण कर सकते हैं। इससे आपका मस्तिष्‍क जागृत रहता है। और साथ ही आपको काम पर ध्‍यान केंद्रित करने में भी मदद मिलती है।

     

    हो सके तो हल्‍का खायें

    दोपहर का भोजन हल्‍का ही रखें। अधिक गरिष्‍ठ भोजन आपको आलसी बना सकता है। बेहतर है कि आप दोपहर के अपने भोजन में हल्‍का-फुल्‍का आहार लें। यह आपकी सेहत के लिए अच्‍छा रहेगा साथ ही आपको नींद और आलस से दूर रखेगा। दिन में फलों का सेवन जरूर करें। तैलीय और जंक फूड का सेवन न ही करें तो बेहतर।

    जरूरी है कि आप रात में पर्याप्‍त नींद लें। एक सकारात्‍मक सोच अपनायें और शारीरिक रूप से अधिक सक्रिय रहें। व्‍यायाम करें और साथ अपने आहार का खयाल रखें। ऐसा करके आप खुद को काम के दौरान अधिक सजग रह सकते हैं।

     

    Image Source - Getty Images

    Read More Articles on Office Health in Hindi

    Disclaimer

    इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

    This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK