• shareIcon

आयरन की कमी से कैसे करें बचाव

स्वस्थ आहार By Anubha Tripathi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Apr 01, 2013
आयरन की कमी से कैसे करें बचाव

आयरन की कमी शरीर के लिये हानिकारक होती है। हालांकि आयरन के स्रोतो को लिए जाने पर वे शरीर के लाल रुधिर कोशिका के बनने को तीन से दस दिन में बढ़ा देते है।

आयरन की कमी का निवारण को सही संतुलित आहार को लेकर दूर कर सकते है। कच्चा मांस , हरी सब्जियां , बीन ,फल , और अनाज के ब्रेड । गर्भवती महिलाएं और बढते हुए बच्चे विशेषकर अपर्याप्त आहार से आयरन की कमी हो सकती है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को आयरन के स्रोतों को लेने की सलाह दी जाती है।

 

Iron Deficiency in Hindi

 

आयरन की कमी का पूर्वानुमान

आयरन की कमी की चिकित्सा

लगभग रोजाना आयरन की गोलियां लेने के छ महीने बाद शरीर में आयरन की कमी पूरी हो जाती है। अगर उसके बाद भी शरीर में आयरन की कमी होती है तो इसका मतलब होता है की व्यक्ति ने आयरन की पूरी गोलिया नहीं ली है और जितना आयरन का असामान्य रक्तस्राव के द्वारा नुक्सान हुआ है। वह आयरन की मात्रा जो की अंदर ली गयी है उस से कहीं ज्यादा है । कई लोग आयरन की गोलियों को इसलिए लेना छोड़ देते है क्योंकि आयरन पाचन नली को उत्तेजित कर देता है और कब्ज कर देता है । आयरन की कमी का उपचार आयरन की गोलियों, सिरप (बच्चों के लिए) या इंजेक्शन के द्वारा ठीक किया जाता है ।

 

आयरन की कमी का निदान

  • आपका डॉक्टर आपसे आपके आहार और लक्षणों के बारे में पूछेगा जैसे महीने का असामन्य मासिक , मल या मूत्र मार्ग में से रक्त स्राव। आपका डॉक्टर आपका परिक्षण करेगा ताकि आपकियो ऊँगली या त्वचा पर असामन्य सफ़ेदपन देख सके या अन्य नाखून के असमान्यता।
  • आयरन की कमी को देखने के लिए जो मुख्य जांच होती है वो है पूर्ण रक्त तस्वीर (सी बी सी )। अगर सीबीसी के बाद भी रुधिर क्षीणता के कारण पर शक है तो बाद में और जांच की जाती है। रक्त में आयरन के स्तर और जो की और सही रूप से शरीर के लोहे के स्तर को दर्शाता है।
  • जब आयरन की कमी से असामन्य रक्तस्राव हा तो अतिरिक्त जांच भी की जा सकती है जैसे स्टूल टेस्ट या यूरीन में रक्त की जांच की जा सकती है और रक्तस्राव के कारणों का पता लगया जा सकता है।

 

Iron Deficiency in Hindi

 

आयरन की कमी की संभावित अवधि


आयरन की कमी तब तक रहती जब तक की उसका कारण बना रहता है। आयरन के स्रोतो को लिए जाने पर वे शरीर के लाल रुधिर कोशिका के बनने को तीन से दस दिन में बढ़ा देते है। आयरन के स्रोतों को कई महीनो तक लेना पड़ता है ताकि सामान्य स्तर को वापस लाया जा सके।

 आयरन की कमी होने पर डाक्‍टर को कब सम्पर्क करें


डॉक्टर को आयरन की कमी के लक्षणों के बारे में बताएं। अगर आपको असामन्य रक्त स्राव रहा हो जैसे शौच में रक्त या अत्याधिक भारी मासिक चक्र तो अपने डॉक्टर को तुरंत बुलाये।

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK