प्रेग्नेंसी में सुनें इस तरह के गाने, मां और बच्चा दोनों को मिलेंगे सेहत से जुड़े गजब फायदे

Updated at: Aug 24, 2020
प्रेग्नेंसी में सुनें इस तरह के गाने, मां और बच्चा दोनों को मिलेंगे सेहत से जुड़े गजब फायदे

आपके बच्चे को नियमित अंतराल पर सोने और आराम करने की आवश्यकता होती है, इसलिए प्रेग्नेंसी में हर समय तेज म्यूजिक न सुनें।

Pallavi Kumari
महिला स्‍वास्थ्‍यWritten by: Pallavi KumariPublished at: Aug 24, 2020

म्यूजिक मूड बूस्टर है और ये तनाव दूर करने का एक आसान तरीका हो सकता है। इसी कारण से, म्यूजिक थेरेपी का उपयोग प्राचीन काल से विभिन्न शारीरिक और मानसिक समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता रहा है। वहीं कई शोध बताते हैं कि कुछ सर्जनों का मानना है कि अपने पसंदीदा संगीत को चलाने से ऑपरेटिंग कमरे में तनाव को दूर करने में मदद मिलती है। इसके अलावा, मानसिक रोगियों को ठीक करने के लिए भी म्यूजिक की मदद ली जाती रही है। पर हाल में आए अध्ययनों से यह भी पता चला है कि गर्भवती होने पर संगीत सुनने से मां और अजन्मे बच्चे दोनों को कई तरह से फायदा हो सकता है।

Insidepopmusic

गर्भावस्था के दौरान गाने सुनना

गर्भ में रहते हुए संगीत के संपर्क में आने से नवजात शिशुओं में समग्र मानसिक, संज्ञानात्मक, व्यवहारिक, संवेदी, मनोवैज्ञानिक और भावनात्मक विकास में महत्वपूर्ण सुधार होते हैं।एक अध्ययन में पाया गया कि भारतीय शास्त्रीय संगीत और लाइट म्यूजिक गर्भवती महिलाओं और उनके अजन्मे बच्चों पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है। अध्ययन के हिस्से के रूप में, गर्भवती महिलाओं के एक समूह को प्रत्येक दिन कम से कम 20 मिनट के लिए ऐसे ही गानो को सुनने के लिए प्रोत्साहित किया गया। 20 दिनों के बाद, शोधकर्ताओं ने अजन्मे बच्चे की सजगता, प्रतिक्रियाओं, आंदोलन और मानसिक उत्तेजना में सुधार देखा, जबकि यह गर्भवती महिला पर शांत और सकारात्मक प्रभाव प्रदान करता है।

पेट में बच्चा कब से म्यूजिक सुन सकता है?

यह माना जाता है कि अजन्मे बच्चे दूसरी तिमाही में संगीत सुन सकते हैं। गर्भधारण के नौ सप्ताह के बाद बच्चे के कान का निर्माण शुरू होता है। अठारह सप्ताह तक, बच्चे सुनना शुरू कर देते हैं, और ध्वनि के प्रति उनकी संवेदनशीलता इस बिंदु से प्रत्येक दिन बेहतर होने लगती है। जब आप लगभग 25 से 26 सप्ताह की गर्भवती होती हैं, तो आपका बच्चा बाहरी शोर और आवाज का जवाब देना शुरू कर सकता है। तीसरी तिमाही तक, आपका शिशु आपकी आवाज़ से इतना परिचित होगा कि वह उसे तुरंत पहचान लेता है।

इसे भी पढ़ें : डिप्रेशन, तनाव को कम करने और याददाश्‍त को बेहतर बनाने में मददगार है म्यूजिक थेरेपी, जानें कैसे मिलेगा फायदा

प्रेग्नेंसी में कितना और किस तरह का गाना सुनें?

गर्भवती महिलाओं के लिए म्यूजिक सुनने की बात आती है, तो कुछ बातों का ध्यान जरूर रखें। जैसे कि

  • -सरल धुन वाले गीत सुनें।
  • -पॉप गाने भी सुनें पर आवाज के लेवल का ध्यान रखें।
  • -रात में सॉफ्ट या कोई मधुर गीत सुनें।
  • -अपने पसंदीदा संगीत का आनंद लेने के लिए हेडफ़ोन का उपयोग करते समय सुनिश्चित करें कि आवाज तेज न हो।
  • - आप हर दिन एक या दो घंटे से अधिक गाने न सुनें। 
  • -अगर आप अपने हेडफोन को अपने पेट पर रखना पसंद करते हैं, तो इसे केवल एक बार में पांच से दस मिनट के लिए करना सुनिश्चित करें।
  • -अगर स्पीकर पर संगीत बज रहा है, तो धीमी आवाज में इसे सुनें। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि हर समय तेज गाने न सुने।-अधिक संगीत बजाने से, आप अपने अजन्मे बच्चे के सोने के पैटर्न में रुकावट पैदा कर सकते हैं।
Insidesimplemusic

प्रेग्नेंसी में म्यूजिक सुनने के फायदे

1. श्रवण इंद्रियां बेहतर होती हैं

संगीत आपके बच्चे को लयबद्ध ध्वनि तरंगों सा प्रतीत होता है। बच्चा इन पर ध्यान केंद्रित करता है, और यह सजगता में सुधार करते हुए संज्ञानात्मक कौशल और श्रवण इंद्रियों को उत्तेजित करता है।

2. व्यक्तित्व विकास को बढ़ावा देता है

यह माना जाता है कि गर्भावस्था के दौरान आप जिस प्रकार का संगीत सुनते हैं, वह आपके बच्चे के व्यक्तित्व को बनाने में मदद कर सकता है क्योंकि वह बड़ा तेज व्यक्ति बन सकता है। इस प्रकार, सुखदायक संगीत एक शांत और शांत आचरण को प्रोत्साहित कर सकता है, जबकि तेज संगीत आक्रामक लक्षणों को सामने ला सकता है।

3. तनाव में कमी लाता है

तनाव या चिंता के समय संगीत आपको शांत करता है और मन को ठीक करने में मदद करता है। यह बदले में, आपके बच्चे को और भी शांत और सुखी महसूस करवा सकता है। यह इस प्रकार गर्भावस्था के दौरान तनाव से निपटने का एक प्रभावी तरीका हो सकता है।

इसे भी पढ़ें : यूं नहीं सुनाई जाती बच्चों को लोरी, विज्ञान के मुताबिक मस्तिष्क पर होता है खास असर

याद रखें कि संगीत में एक विशेष लय और पैटर्न होता है जिससे शिशुओं को पहचानना और याद रखना आसान हो जाता है। यह माना जाता है कि बच्चे की सांस लेने की पद्धति धड़कनों और ध्वनियों के अनुसार बदलती है जो वह सुनता है। इसलिए, तेज या चिल्लाता हुआ सा संगीत आपके बच्चे के लिए उपयुक्त नहीं होगा और ये आपके स्ट्रेस और ब्लड प्रेशर को भी बढ़ा सकता है। इसलिए प्यारा और सरस संगीत सुनें, जो आपको और आपके बच्चे को खुश रखे।

Read more articles on Women's Health in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK