क्या सीने में जलन (हार्ट बर्न) का कारण बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल हो सकता है? डॉक्टर से जानें दोनों में संबंध

हाई कोलेस्ट्रॉल से हार्ट बर्न की समस्या हो सकती है। यहां डॉक्टर से जानें इसके बारे में। 

 
Kunal Mishra
अन्य़ बीमारियांWritten by: Kunal MishraPublished at: Jun 21, 2021
Updated at: Jun 21, 2021
क्या सीने में जलन (हार्ट बर्न) का कारण बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल हो सकता है? डॉक्टर से जानें दोनों में संबंध

हाई कोलेस्ट्रॉल शरीर के लिए काफी नुकसानदायक होता है। खासतौर पर बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल आपके हार्ट को ज्यादा प्रभावित करता है। कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाने के कारण कई बार आपको हार्ट बर्न की भी समस्या हो सकती है। हालांकि हार्ट बर्न अन्य भी कई कारणों से हो सकता है। जैसे खाना ज्यादा खाना, अधिक मसालों का सेवन करना या फिर समय से खाना नहीं खाना आदि। कई बार हार्ट बर्न की समस्या होने पर भी आपको अंदाजा नहीं होता कि आपका कोलेस्ट्रॉल बढ़ गया है। ऐसी समस्या होने पर आपकी शरीर से अधिक पसीना निकलेगा और आपको पैदल चलने के बाद काफी थकान महसूस होगी। हार्ट बर्न आमतौर पर तब होता है जब पेट में मौजूद एसिड फूड पाइप में वापस चला जाता है। यह दर्द आपको पेट के उपर के हिस्से यानि अपर चेस्ट में होता है। इसी विषय पर अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने पुणे के हेल्दी हार्ट क्लीनिक के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. केदार कुलकर्णी (Dr. Kedar Kulkarni, Cardiologist, Healthy Heart Clinic, Pune) से बातचीत की। चलिए जानते हैं कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से हार्ट बर्न कैसे होता है। 

heartburn

हार्ट बर्न क्या होता है (What Is Heart Burn)

सीधे शब्दों में समझें तो हार्ट बर्न छाती के उपरी हिस्से में हो रही जलन को हार्ट बर्न कहते हैं। आमतौर पर ऐसा तब होता है जब पेट में मौजूद एसिड आपकी फूड पाइप या फिर इसोफोगस में वापस बहना लगता है। डॉक्टर केदार ने बताया कि इसके लक्षण एंजाइना, ब्लड क्लॉटिंग और कार्डियोवैस्कुलर डिजीज से भी जुड़े होते हैं। इस समस्या के लक्षण दिखने पर इसे हल्के में न लें। लंबे समय तक इसे नजरअंदाज करने से यह कई बार जानलेवा भी साबित हो सकता है। इस समस्या में मरीज जल्दी थक जाता है या फिर अधिक समय तक सुस्त रहता है।  

इसे भी पढ़ें - जल्दी भूल जाते हैं बातें और घटनाएं तो 'एमनेशिया' का है संकेत, जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव के टिप्स

क्या कोलेस्ट्रॉल से हार्ट बर्न होता है? (Does Cholesterol Causes Heart Burn) 

डॉ. केदार कुलकर्णी ने बताया कि अगर आपकी शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ गई है तो आपको हार्ट बर्न होने की आशंका भी बढ़ जाती है। जब हार्ट को ब्लड सप्लाई करने वाली ब्लड वेसेल्स में ब्लॉक या किसी प्रकार की रुकावट आने पर यह स्थिति उत्पन्न हो सकती है। यह रुकावट आपके बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के कारण हो सकती है। दरअसल, शरीर में अधिक कोलेस्ट्रॉल की मात्रा हो जाने पर कोलेस्ट्रॉल आपके ब्लड वैसेल्स में जम जाता है और हार्ट तक पहुंचने वाले ऑक्सीजन में रुकावट पैदा करता है। ऐसे में आपके सीने में जलन यानि हार्ट बर्न की समस्या हो सकती है। इसलिए समय रहते इसका इलाज करा लेना चाहिए। 

हार्ट अटैक की भी रहती है आशंका  (Possibility of Heart Attack)

डॉ. केदार कुलकर्णी के अनुसार कई बार आप पहचान नहीं पाते कि आपकी शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की वजह से हार्ट बर्न हो रहा है। इसलिए ऐसे लक्षण देखने के बाद इसे भूलकर भी नजरअंदाज नहीं करें। ऐसा करने से आपको हार्ट अटैक आने की भी आशंका बढ़ जाती है। ज्यादा समय तक यह समस्या होने पर मरीज के हार्ट के साथ ही ब्रेन में भी ऑक्सीजन की कमी हो सकती है, जिससे कई बार ब्रेन में पैरालाइसिस होने के भी चांसेज रहते हैं। कई लोग सीने में हो रही जलन को एसिड बर्न समझने की भी भूल कर देते हैं। लेकिन वास्तव में एसिड बर्न और हार्ट बर्न में काफी फर्क होता है। 

इसे भी पढ़ें - पानी से भी हो सकती है आपको एलर्जी, जानें Water Allergy का कारण और लक्षण

कैसे करें बचाव (How to Prevent)

  • डॉ. केदार ने बताया कि इस समस्या से राहत पाने के लिए आपको सबसे पहले कोलेस्ट्रॉल को कम करना होगा। हालांकि कुछ लोगों में यह समस्या जैनेटिक भी होती है, लेकिन अमूमन लोगों में यह ओबेसिटी यानि मोटापे व कोलेसट्रोल के कारण ही होती है। 
  • इसके लिए आप अपने खान-पान पर कंट्रोल करने के साथ ही पोष्टिक आहार लेने पर ध्यान दें।
  • नियमित रूप से पैदल चलना, सूर्य नमस्कार और कुछ कार्डियो एक्सरसाइज में खुद को शामिल करें। 
  • अपने एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए आप चिकित्सक की सलाहनुसार दवाएं भी ले सकते हैं। 

यह लेख चिकित्सक द्वारा प्रमाणित है। इससे यह साबित होता है कि कोलेस्ट्रॉल से हार्ट बर्न की समस्या हो सकती है। इससे बचने के लिए लेख में दी गई टिप्स का पालन करें। 

Read more Articles on Other Diseases in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK