• shareIcon

सूखे बेर से करें पेट के कैंसर का इलाज, जानिए कैसे

कैंसर By Devendra Tiwari , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Jan 20, 2017
सूखे बेर से करें पेट के कैंसर का इलाज, जानिए कैसे

टेक्सस के ए एंड एम यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर नैंसी टर्नर ने बोस्टन में हुए एक कॉनफ्रेंस में ये प्रमाणित किया है कि अगर आप सूखे बेर का सेवन शुरू कर दें तो आपके शरीर को कैसर से लड़ने वाले ज़रूरी एंटीऑक्सीडेंट प्राप्त हो जाते हैं। आइए इसके बारे में

दुनिया में तीसरे बड़े कैंसर (पेट के कैंसर) का इलाज अब सूखे बेर के सेवन से करें। खाएं खूब सारे सूखे बेर और पेट में कैंसर कोशिकाओं को पनपने से रोकें। बेर में मैग्नीशियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस, कॉपर, कैल्शियम और आयरन और खनिज पदार्थ भी मौजूद होते हैं। इन तत्वों से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। जिससे शरीर में रोगों से लड़ने की शक्ति बढ़ती है। साथ ही  इंफेक्शन से लड़ने में भी मदद मिलती है।

cancer cell in hindi

पेट कैंसर के लिए सूखे बेर

दुनिया में कैंसर के मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। कैंसर के मामले में अज्ञानता और लापरवाही के कारण ही कई जाने चली जाती हैं। अगर वक्त रहते इसका इलाज नहीं होता है तो यह बहुत गंभीर रुप ले लेता है। आज हम आपको आंतों की लगातार सूजन से होने वाले पेट के कैंसर से बचने के उपाय बता रहे हैं। कई सारे शोध से ये बात साबित हुई है कि सूखे बेर से कैंसर कोशिकाओं को खत्म करने में मदद मिलती है।

इसे भी पढ़ें : पेट में होने वाले दर्द को ना करें नजरअंदाज

क्‍या कहता है शोध

मैसाचुसेट्स में हुए जीवविज्ञान सम्मेलन में टेक्सस के ए एंड एम यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर नैंसी टर्नर की अध्यक्षता में ये बात सामने आयी है कि सूखे बेर में कोलोन माइक्रोबिया या गट बैक्टिरिया को मेंटेन करने की क्षमता है मतलब इसकी मदद से पेट के कैंसर के खतरे को कम किया जा सकता है।

नैंसी टर्नर ने बोस्टन में हुए एक कॉनफ्रेंस में ये प्रमाणित किया है कि इंटेस्टाइन में बैक्टीरिया के करीब 400 स्पेसिस पाए गए हैं। जिनपर सूखे बेर के प्रभाव को दिखाया गया था। अगर आप सूखे बेर का सेवन शुरू कर दें तो आपके शरीर को कैसर से लड़ने वाले ज़रूरी एंटीऑक्सीडेंट प्राप्त हो जाते हैं। एंटीऑक्सीडेंट में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के बुरे प्रभाव को खत्म करने की काबिलियत होती है जिससे कैंसर की रोकथाम में मदद मिलती है। हम आपको बता दें कि सूखे बेरों में घुलनशील, अघुलनशील फाइबर हैं जो ताजे बेर में नहीं होते इसलिए कैंसर की रोकथाम और बचाव के लिए सूखे बेर का ही सेवन करें।

ऐसे अन्य स्टोरीज के लिए डाउनलोड करें: ओनलीमायहेल्थ ऐप  

Image Source : Getty

Read More Articles on Cancer in Hindi







 
Disclaimer:

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।