• shareIcon

चोट या खरोंच को चाटना है कितना सही? जानें

तन मन By Atul Modi , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Nov 02, 2016
चोट या खरोंच को चाटना है कितना सही? जानें

किसी तरह की चोट या खरोंच लगने पर उसे ठीक करने के लिए अक्‍सर हम लोग थूक या लार का प्रयोग करते हैं, जिससे रक्‍त बहना बंद होने के साथ ही वह ठीक हो जाए। मगर य‍ह कितना सही है, आइए इस लेख में जानते हैं।

एक आमधारणा है कि यदि हल्‍की चोट या खरोंच लग जाए तो उसे चाटकर ठीक किया जा सकता है क्योंकि लार एंटीबैक्‍टीरियल होता है। शायद इसी वजह से अक्‍सर लोग छिलने, कटने पर तुरंत थूक लगाकर उसे ठीक करने लगते हैं। उन्‍हें लगता है कि इससे घाव जल्‍द ठीक हो जाएगा। तो क्‍या वाकई घाव को चाट लेने भर से वह ठीक हो जाता है, या लोग सिर्फ खुद की तसल्‍ली के लिए ऐसा करते हैं। आइए ऐसे ही कुछ अनसुलझे सवालों से जुड़े तथ्‍य हम आपको इस लेख के माध्‍यम से बता रहे हैं।

घाव

गैनेस्विल्ले स्थित फ्लोरिडा विश्वविद्यालय में शोधकर्ताओं ने चूहों की लार में एक तंत्रिका विकास कारक एनजीएफ (NGF) नामक प्रोटीन की खोज की है। एनजीएफ (NGF) के साथ भिगोये गए घाव बिना इलाज और बिना चाटे हुए घावों के मुकाबले दुगनी तेजी से भरे। हालांकि लार कुछ प्रजातियों में घाव भरने में मदद कर सकती है। एनजीएफ मानव लार में नहीं पाया जाता, हालांकि शोधकर्ताओं ने पाया कि मानव लार में ऐसे जीवाणुरोधी एजेंट के रूप शामिल हैं जैसे स्रावी आईजीए (IgA), लैक्टोफेरिन, लाइसोजाइम और पैरौक्सीडेज। शोध में यह दिखाया नहीं गया कि मानव द्वारा घावों को चाटना उन्हें रोगाणुओं से मुक्त करता है, परन्तु संभावना है कि चाटना बड़े संदूषकों जैसे धूल को निकालकर घाव को साफ करने में मदद करता है और रोगजनक पदार्थों को झाड़कर सीधे मदद कर सकता है। इसलिए, चाटना रोगाणुओं को साफ करने का तरीका है और यदि जानवर या व्यक्ति के पास साफ पानी उपलब्ध न हो तो यह उपयोगी भी है।

घाव को चाटने के नुकसान भी हैं!

हमारे घावों को सही करने में भले ही लार फायदेमंद होता है। लेकिन इसके हानिकारक प्रभाव भी है। दरअसल, हमारे मुंह के अंदर कुछ नुकसानदेह बैक्‍टीरिया भी पाए जाते हैं जो गहरे घावों पर उल्टा असर कर सकते हैं। इससे किसी प्रकार का इंफेक्‍शन हो सकता है। हालांकि ऐसा उन्‍हें होने की संभावना ज्‍यादा रहती है जिनकी रोग प्रति‍रोधक क्षमता कम होती है, क्‍योंकि ऐसे लोग लार से होने वाले इन्‍फेक्‍शन से मुकाबला नही कर पाते हैं। इसके अलावा कुछ चोटें या घाव ऐसे भी होते हैं, जिन्‍हें चाटने पर वह मुंह के रास्ते आपके शरीर में पहुंचकर भारी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

जानवरों के है अनुकूल!  

जैसा कि हमने पहले भी बताया कि जानवरों की ज्‍यादातर प्रजातियों में लार उनके खुद के घावों के लिए बहुत फायदेमंद होती है। खासकर उन जानवरों की लार, जो जंगल में रहते हैं। जंगल में उन्‍हें कोई चोट लगने पर वहां कोई इंसान नहीं होता उसका इलाज करने के लिए। ऐसे में ये जानवर खुद की चोट को चाटकर ही सही कर लेते हैं।

Image Source : Getty
Read More Articles on Healthy Living in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK