• shareIcon

कैसे करें लाडले की देखभाल

परवरिश के तरीके By Nachiketa Sharma , ओन्‍ली माई हैल्‍थ सम्पादकीय विभाग / Nov 29, 2011
कैसे करें लाडले की देखभाल

जन्‍म के बाद मां की जिम्‍मेदारियां बढ़ जाती हैं, क्‍योंकि बच्‍चे की त्‍वचा के साथ उसका शरीर भी बहुत नाजुक होता है।

जन्‍म लेने के बाद मां की जिम्‍मेदारियां बहुत बढ़ जाती हैं, मां को जितनी मुश्किलों का सामना 9 महीने के गर्भावस्‍था के दौरान करना होता है उससे कहीं ज्‍यादा मुश्किलें बच्‍चे के जन्‍म के बाद आती हैं।

मां बनने के बाद बच्चे की परवरिश में कई तरह की दिक्कतें आती हैं। जो पहली बार मां बनता है उनके लिए मुश्किलें और भी होती हैं। उनकी समझ में नहीं आता कि शिशु को क्या खिलाया जाए और किन चीजों से दूर रखा जाय। कई बार अनजाने में आप अपने लाडले को ऐसा आहार देती हैं जिससे उसका स्‍वास्‍थ्‍य बिगड़ जाता है। इसलिए बच्‍चे के खानपान की सारी जानकारी चिकित्‍सक के निर्देशों के अनुसार ही करना चाहिए।

How to Care Baby

6 महीने तक ब्रेस्‍टफीडिंग

जन्‍म के 6 महीने बाद तक बच्‍चे के लिए पहला आहार मां का दूध होता है। मां का गाढ़ा पीला दूध यानी कोलेस्‍ट्रम बच्‍चे की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। चिकित्‍सक भी बच्‍चे को 6 महीने तक केवल मां का दूध पिलाने की सलाह देते हैं, 6 महीने के बाद आप बच्‍चे को अन्‍य आहार दे सकती हैं।

 

संक्रमण से बचायें

बच्‍चे की त्‍वचा बहुत नाजुक होती है, इसलिए नवजात शिशुओं को संक्रमण होने का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। इसलिए उन्हें छूने या गोद में उठाने से पहले अपने हाथ साबुन से अच्‍छे से साफ कीजिए या सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। बाहरी व्‍यक्ति को बच्‍चा उठाने के लिए बिलकुल न दें।

 

बच्‍चे को उठाते वत्‍क

बच्‍चे की त्‍वचा के साथ-साथ उसकी हड्डियां भी बहुत नाजुक होती हैं, शुरुआत के महीनों में बच्चे की गर्दन स्थिर नहीं रहती है इसलिए बच्चे को गोद में लेते वक्त या उसे कंधे से लगाते वक्त उसके सिर और गर्दन को अपने हाथ का सहारा जरूर दीजिए।


दूध पिलाते वक्‍त ध्‍यान रखें

जब बच्‍चा दूध पीता है तब वह सो जाता है, ऐसे में उसका पेट ठीक से नहीं भर पाता है। ऐसे में दूा पिलाते वक्‍त उसके तलवों को अंगुली से गुदगुदाते रहें, ताकि वह भरपेट दूध पी सके।

Baby care tips


कब्ज होने पर रखें ध्यान

यदि शिशु को कब्ज है तो एक कप गर्म पानी में ब्राउन शुगर डालकर शिशु को पिलाएं। इससे उसे काफी आराम मिलेगा।

 

 

मालिस अच्‍छे से करें

बच्‍चों की मालिस करते वक्‍त ध्‍यान रखना चाहिए। चिकित्‍सक के सलाह के अनुसार ही बच्‍चे को तेल लगाना चाहिए। मालिश हल्के हाथ से करना चाहिए। मालिश दोपहर के समय करना चाहिए, ताकि बच्चे को ठंड न लगे।

 

डायपर रैश से बचायें

बच्‍चों के डायपर समय-समय पर बदलने चाहिए नहीं तो बच्‍चों को डायपर रैश हो सकता है। डायपर का चुनाव करते वक्‍त भी ध्‍यन रखना चाहिए, बच्‍चे को अच्‍छी गुणवत्‍ता का डायपर पहनायें।


इसके अलावा बच्‍चे की नियमित जांच करायें, चिकित्‍सक के निर्देशों के अनुसार ही उसका ख्‍याल रखें। नियमित टीकाकरण जरूर करायें।

 

Read More Articels on Parenting in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK