इन 3 कारणों से लोगों की गर्दन होने लगती है काली, जानें काली गर्दन को साफ करने के घरेलू उपाय

सफाई की कमी या धूप में बहुत देर रहने के कारण भी हमारी गर्दन काली हो जाती है। ऐसे में आप इन घरेलू नुस्खों को अपनी ग्रूमिंग रूटीन में शामिल कर सकते हैं।

Pallavi Kumari
विविधWritten by: Pallavi KumariPublished at: Jun 18, 2021
Updated at: Jun 23, 2021
इन 3 कारणों से लोगों की गर्दन होने लगती है काली, जानें काली गर्दन को साफ करने के घरेलू उपाय

गर्दन का कालापन (dark neck) नजरअंदाज नहीं किया जाता सकता। कई बार ये देखने में बहुत भद्दा लगता है और दूर से ही देखने में ऐसी गर्दन काली या ड्रार्क नजर आती है। ज्यादातर लोग गर्दन के इस कालेपन से परेशान रहते हैं। पर क्या आपने कभी सोचा है कि गर्दन के कालेपन का कारण क्या है? इसी बारे में हमने डॉ. बनानी चौधरी (Dr.Banani Chaudhary), कंसलटेंट, डर्मेटोलॉजी विभाग, जसलोक हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर से बात की। डॉ. बनानी चौधरी ने बताया कि गर्दन का कालापन कई कारणों से होता , जिसमें स्किन केयर रूटीन से जुड़ी गड़बड़ियों के साथ स्किन से जुड़ी बीमारियां भी शामिल हैं।  तो, आइए विस्तार से जानते हैं गर्दन के कालेपन का कारण और काली गर्दन को साफ करने के घरेलू उपाय (Home remedies to get rid of dark neck)

Inside3darkneck

गर्दन की त्वचा के काले होने के कारण -What causes dark neck

1. सन एक्सपोजर (sun exposure)

आपने देखा होगा कि कई बार तेज धूप में घूमने के कारण आपकी त्वचा गहरे रंग की हो जाती है। इसे वैसे तो पिंग्मेंटेशन कहते हैं पर धीमे-धीमे ये ड्रार्क स्किन और गर्दन के कालेपन का कारण होता है। ये कालापन जल्दी कम नहीं होता और अगर आप इसका जल्द से जल्द उपचार न करें तो ये आसानी से साफ नहीं होगा। डॉ. बनानी चौधरी (Dr.Banani Chaudhary) कहती हैं कि सन एक्सपोजर गर्दन के कालेपन के पीछे एक बड़ा कारण है। सन एक्सपोजर चेहरे पर टैनिंग का कारण बनता है और इस टैनिंग से गर्दन पर भी डार्क स्किन हो जाती है। इसलिए हमेशा चेहरे के साथ-साथ गर्दन पर भी सनस्क्रीन लगाना चाहिए।

2. एकैंथोसिस नाइग्रिकन्स (Acanthosis nigricans)

यह गर्दन के कालेपन का एक हार्मोनल कारण है, जहां मोटापा और इंसुलिन रेजिस्टेंस के कारण त्वचा पर मेलेनिन जमा हो जाता है। इसके चलते गर्दन के साथ-साथ अंडरआर्म्स और ग्रोइन जैसे अन्य हिस्से भी काले पड़ जाते हैं। वजन घटाने और इंसुलिन रेजिस्टेंस का इलाज करने से भी गर्दन के कालेपन को भी हल्का किया जा सकता है।

3. एटॉपिक डर्मेटाइटिस (Atopic Dermatitis)

एटॉपिक डर्मेटाइटिस त्वचा से जुड़ी एक गंभीर परेशानी है। ये डस्ट एलर्जी और पोलेन एलर्जी के कारण विकसित होती है। ये एलर्जी त्वचा की एक गंभीर स्थिति है, जहां संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को धूल, पराग से एलर्जी हो जाती है और गर्दन पर खुजली और दाने भी हो जाते हैं। इस दौरान व्यक्ति को लगता है कि गर्दन पर गंदगी जमा हो गई है, जबकि ये एलर्जी होती है। गर्दन के क्षेत्र को मॉइस्चराइज करना और एलर्जी का इलाज करवाना, इस समस्या से छुटकारा पाने में मदद करता है। 

कई बार त्वचा का हाइपरपिग्मेंटेशन कुछ दवाओं के इस्तेमाल के कारण भी हो सकता है, जैसे कि स्टेरायड्स, फिनाइटोइन और एंटी मलेरियल डिजीज। ऐसा पिग्मेंटेशन शरीर पर कहीं भी दिखाई दे सकता है। ये रंग गहरे भूरे से नीले-काले तक होते हैं। यह आमतौर पर दवा के बंद होने के बाद खुद ही ठीक हो जाता है। ऐसे में लेजर उपचार हाइपरपिग्मेंटेशन को दूर करने में मदद करते हैं। 

इसे भी पढ़ें : ब्लैक, व्हाटइ, यलो के बाद अब कोरोना मरीज में सामने आया 'ग्रीन फंगस' का पहला मामला, जानें इसके लक्षण और बचाव

काली गर्दन के साथ दिखने वाले लक्षण-Symptoms of black neck

काली गर्दन का प्राथमिक लक्षण गर्दन की त्वचा का काला पड़ना है। पर कुछ मामलों में, जिन लोगों की गर्दन काली होती है, उनमें कुछ ऐसे लक्षण भी नजर आते हैं, जैसे कि

  • - स्किन का मोटा होना
  • -खुजलीदार त्वचा
  • -गर्दन पर एक्ट्रा फैट या डबल चिन

गर्दन का कालापन कैसे दूर करें-Home remedies for dark neck

1. नियमित मॉइस्चराइजर लगाएं

नहाने के बाद और रात में सोने से पहले नियमित मॉइस्चराइजर लगाएं। ये गर्दन पर त्वचा को मॉइश्चराइज करते हैं और पिग्मेंटेशन को कम करते हैं। त्वचा को मॉइस्चराइज करने के लिए एलोवेरा का इस्तेमाल करें।  एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर एलोवेरा त्वचा में पिगमेंटेशन को कम करते हैं और धीमे-धीमे ड्राकनेस को हल्का करते हैं। इसके साथ यह त्वचा को हाइड्रेट और पोषित भी रखता है।

2. सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें

धूप में निकलते समय हमेशा सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें। साथ ही एल्ब्यूमिन, कोजिक, लिकोरिस, करक्यूमिन युक्त प्राकृतिक ब्राइटनिंग स्किन क्रीम का इस्तेमाल करें। ये पिगमेंटेशन को कम करता है।

3. बहुत अधिक घर्षण से बचें

गले पर कुछ ऐसा पहनना जो घर्षण का कारण बनता है, जो इससे बचें। किसी भी तरह से स्किन को बहुत अधिक रगड़ने से बचाएं। साथ ही स्किन को साफ रखें इसके लिए स्क्रबिंग की भी मदद लें। रेगुलर नहाते समय गले को स्क्रब करके नहाएं। 

4.  एप्पल साइडर विनेगर

सेब का सिरका त्वचा के पीएच स्तर को संतुलित करता है। ये मृत त्वचा कोशिकाओं को हटा देती है और आपकी त्वचा को एक प्राकृतिक चमक प्रदान करती है। इसे इस्तेमाल करने के लिए दो बड़े चम्मच एप्पल साइडर विनेगर में पानी मिलाएं। इसके बाद, एक कॉटन बॉल लें, इसे घोल में डुबोएं और इसे अपने गले में लगाएं। इसे दस मिनट के लिए छोड़ दें और पानी से धो लें। 

Inside2vinegar

इसे भी पढ़ें : वर्क फ्रॉम होम के दौरान ब्रेक में इन 6 तरीकों से बूस्ट करें अपनी एनर्जी, अपने आप बढ़ जाएगी प्रोडक्टिविटी

5. बेकिंग सोडा का इस्तेमाल करें

डेड सेल्स भी पिंग्मेंटेशन का कारण बनते हैं। अगर आप मृत त्वचा कोशिकाओं से छुटकारा पाना चाहते हैं तो बेकिंग सोडा चमत्कारी तरीके से काम करता है। बेकिंग सोडा गहराई से गंदगी को साफ करता है और स्किन स्किन को भी कम करता है। बेकिंग सोडा का पेस्ट बनाएं और इसे गले पर लगाएं। इसे प्रभावित जगह पर लगाएं और कुछ मिनट के लिए छोड़ दें। एक बार जब यह सूख जाए, तो इसे रगड़ने के लिए गीली उंगलियों का उपयोग करें और फिर पानी से धो लें। बेकिंग सोडा का इस्तेमाल करने के बाद मॉइस्चराइज करना न भूलें।

6. आलू का रस लगाएं

आलू में कैटेकोलेज नामक एंजाइम होता है, जो कि स्किन व्हाइटनिंग में मदद करता है और पिगमेंटेशन से छुटकारा दिला सकता है। आपको बस कुछ महीनों के लिए हर दूसरे दिन 15-20 मिनट के लिए प्रभावित क्षेत्रों पर आलू का रस लगाना है, और आपको एक साफ अंतर दिखाई देगा।

7. नींबू और शहद मिला कर लगाएं

नींबू और शहद मिला कर गले पर लगाने से पिगमेंटेशन को कम किया जा सकता है।नींबू के रस में ब्लीचिंग गुण होते हैं, जो धब्बों को हल्का करने में मदद कर सकते हैं। इसमें विटामिन सी भी होता है, जो एक एंटीऑक्सीडेंट है और आपकी त्वचा को चमकदार और हल्का करने में मदद कर सकता है। शहद एंटीबैक्टीरियल होने के साथ एक अच्छा मॉइश्चराइज भी है। तो इन दोनों को मिला कर गले पर लगाना आपके लिए खाफी फायदेमंद होगा।

इसके अलावा आप बेसन को दूध या दही के साथ मिला कर भी आ इस्तेमाल कर सकते हैं। तो, गले का कालापन हटाने के लिए फेशियल, स्क्रबिंग और मसाज ट्रीटमेंट जैसे कई उपायों की जगह आप इन घरेलू नुस्खों को भी इस्तेमाल कर सकते हैं। 

Read more articles on Miscellaneous in Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK