Lump behind ear: कान के पीछे बन गई है गांठ तो न करें नजरअंदाज, एक्सपर्ट से जानें इसे ठीक करने के 10 घरेलू उपाय

Updated at: Jan 21, 2021
Lump behind ear: कान के पीछे बन गई है गांठ तो न करें नजरअंदाज, एक्सपर्ट से जानें इसे ठीक करने के 10 घरेलू उपाय

कान के पीछे सूजन या संक्रमण के चलते गांठ हो सकती है। इसे नजरअंदाज़ न करें। आगे चलकर ये आपको तेज़ दर्द दे सकती है। 

 
Yashaswi Mathur
घरेलू नुस्‍खWritten by: Yashaswi MathurPublished at: Jan 21, 2021

क्‍या आपने अपने कान के पीछे दर्द या उभरी हुई त्‍वचा महसूस की है? अगर हां तो ये गांठ या लम्‍प हो सकती है। समय रहता अगर इसका इलाज क‍िया जाये तो त्‍वचा की इस समस्‍या से छुटकारा म‍िल सकता है। ये भी एक गंभीर बीमारी है ज‍िसे लोग अक्‍सर हल्‍के में ले लेते हैं। जरूरी नहीं है क‍ि हर गांठ में आपको दर्द महसूस हो। कभी-कभी वो ऐसी जगह बन जाती है जहां आपको दर्द का अहसास नहीं होता। आज हम आपको बतायेंगे क‍ि ये गांठ कान के पीछे आख‍िर होती कैसे है और इसे घरेलू इलाज की मदद से कैसे ठीक क‍िया जा सकता है। इस पर ज्‍यादा जानकारी लेने की ल‍िये हमने बात की ओम स्किन क्लीनिक, लखनऊ के वरिष्ठ कंसलटेंट डर्मेटोलॉज‍िस्‍ट डॉ देवेश मिश्रा से और बीमारी का कारण और इलाज पर जानकारी ली। 

lump behind ear is painful

कान के पीछे गांठ (What is lump behind ear)

गांठ को स‍िस्‍ट या लम्‍प के नाम से भी जाना जाता है। वैसे तो ये शरीर के क‍िसी भी ह‍िस्‍से में हो सकती है पर आज हम बात करेंगे कान के पीछे उभरी गांठ के बारे में। कुछ गांठे कैंसर का रूप भी ले लेती हैं इसल‍िये इन पर ध्‍यान देने की जरूरत है। कुछ लोगों को जन्‍म से ही गांठ होती है जो आगे चलकर ठीक हो जाती है वहीं कुछ गांठ संक्रमण के कारण भी होती हैं। इनमें पस जमने लगता है ज‍िससे आपको तेज़ दर्द हो सकता है। हर इंसान में इसके लक्षण अलग होते हैं। गांठ के बढ़ने का इंतजार न करें। अगर उसका साइज बढ़ जाये या लाल हो जाये तो डॉक्‍टर को द‍िखाना न भूलें। आप डॉक्‍टर के पास जायेंगे तो वो कान के पीछे बनी गांठ को दवा या इंजेक्‍शन से ठीक करवा सकते हैं। कई बार गांठ बढ़ने पर चीरा या सर्जरी करवानी पड़ सकती है इसल‍िये ज्‍यादा इंतजार न करें। गांठ को एंटीबायोट‍िक दवा या पेन क‍िलर से ठीक क‍िया जा सकता है। लेज़र से भी गांठ का इलाज क‍िया जाता है। गांठ ज्‍यादातर 2 तरह की होती है। स्‍किन के अंदर या स्‍क‍िन के बाहर। जो गांठ स्‍क‍िन के अंदर होती है उसे एप‍िडरमाइड स‍िस्‍ट भी कहते हैं। ये छोटी और सख्‍त होती है। इसमें सूजन द‍िख सकती है। 

इसे भी पढ़ें- ब्रेस्ट की हर गांठ कैंसर नहीं होती, जानें क्या हैं इनकी असली वजह और कारण

क्‍यों बनती है कान के पीछे गांठ? (Causes of lump behind ear)

हम कान के पीछे के ह‍िस्से में सफाई पर ध्‍यान नहीं देते। उस जगह गंदगी से भी गांठ पड़ सकती है। ये सबसे कॉमन कारण है ज‍िसे लेकर मरीज़ क्‍लीन‍िक में आते हैं। इसके अलावा कई बार रोम छिद्र बंद होने के कारण भी मुहांसे गांठ का रूप ले लेते हैं। अगर गले में सूजन या संक्रमण है तो भी कान के पीछे स‍िस्‍ट उभर आती है। ये दाग भी छोड़ सकती है इसलि‍ये आपको ध्‍यान रखना है क‍ि आप इसे ज्‍यादा टच न करें। अगर कान के पीछे क‍िसी कारण से सूजन है तो वो भी आगे चलकर स‍िस्‍ट का रूप ले सकती है। कुछ रेयर केस में ये गांठ कैंसर का रूप भी ले सकती है इसल‍िये ऐसी कोई समस्‍या होने पर त्‍वचा रोग व‍िशेषज्ञ से संपर्क करें। बच्‍चों में भी ये समस्‍या हो सकती है। म‍िट्टी में खलने से बच्‍चों को पैरासाइट इंफेक्‍शन हो जाता है जिस पर ध्‍यान न देने पर वो एक स‍िस्‍ट के रूप में उभर आती है। डायब‍िटीज़ रोग‍ियों को भी कान के पीछे गांठ उभरने जैसी समस्‍या आ सकती है। इसके ल‍िये आप समय-समय पर शुगर जांच करवाते रहें। 

क्‍या योग है कान की गांठ का इलाज? (Yoga to treat lump behind ear)

कुछ लोग मानते हैं स्‍क‍िन की समस्‍या के ल‍िये योग काम नहीं आता पर ऐसा नहीं है। अगर आपको अक्‍सर गांठ होने की समस्‍या है तो आप योग का सहारा ले सकते हैं। सूर्य नमस्‍कार से कान के पीछे बन रही गांठ से छुटकारा पाया जा सकता है। इससे शरीर में एनर्जी बनती है और गांठ ठीक होने में मदद म‍िलती है। दूसरा उपाय है अनुलोम-व‍िलोम। इससे शरीर में ऊर्जा का स्‍तर बढ़ता है और गांठ ठीक होने लगती है। तीसरा आसान योगासन है कपालभात‍ि। सांस को छोड़ते हुए पेट को अंदर लेने की क्र‍िया को 15 से 20 म‍िनट करने से भी गांठ में आराम‍ म‍िलता है। 

इसे भी पढ़ें- नजरअंदाज न करें हड्डियों में होने वाली गांठ और सूजन, बोन कैंसर का हो सकता है खतरा

कान के पीछे उभरी गांठ को घरेलू उपाय से ठीक करें (Home remedies for lump behind ear)

home remedies for lump behind ear

  • 1. कान के पीछे होने वाली गांठ को ठीक करने के लिये आप कुछ घरेलू उपाय अपना सकते हैं ज‍िनमें से पहला है अलसी के बीज का इस्‍तेमाल। अलसी के बीज को गरम कर एक साफ कपड़े में पोटली बनाकर बांध लें। अब उसे गांठ वाले हि‍स्‍से पर रखें। कुछ द‍िन में गांठ ठीक हो जायेगी। 
  • 2. एलोवेरा जैल स्‍किन के ल‍िये अच्‍छा माना जाता है। जहां गांठ है वहां एलोवेरा जैल लगाकर छोड़ दें। कुछ द‍िन में ही आपको आराम म‍िलेगा। 
  • 3. हल्‍दी की तासीर गरम होती है। हल्‍दी में 2 बूंद पानी म‍िलाकर उसे कान के पीछे वाले प्रभाव‍ित ह‍िस्‍से में लगायें। हल्‍दी लगाकर रात भर छोड़ दें। सुबह तक गांठ में जमा पस न‍िकल जायेगा। 
  • 4. पपीता कीटाणु मारने में असरदार माना जाता है। इसकी 1 स्‍लाइस न‍िकालकर कान के पीछे लगा लें। गांठ ठीक होने लगेगी। 
  • 5. अगर लगातार आपके शरीर में गांठ बन रही है तो आप पानी ज्‍यादा प‍ियें। पानी पीने से जहरीले पदार्थ शरीर के बाहर न‍िकलते हैं। कई बार कम पानी पीने से भी गांठ बनने की समस्‍या हो सकती है इसलिये कोई भी मौसम हो आप 8 ग‍िलास पानी रोजाना जरूर प‍ियें।
  • 6. कान के पीछे पड़ी गांठ को ठीक करने के ल‍िये सेब का स‍िरका भी असरदार है। इसे सुबह खाली पेट पीने से फायेदा म‍िलेगा। आप चाहें तो इसे 1 कप गरम पानी के साथ म‍िलाकर भी पी सकते हैं।  
  • 7. नार‍ियल के तेल में एंटीबैक्‍टीर‍ियल गुण होते हैं। आप इसमें 2 बूंद टी ट्री ऑयल म‍िलाकर गांठ पर लगायें इससे आपको दर्द में आराम म‍िलेगा और गांठ ठीक हो जायेगी। 
  • 8. बेक‍िंग सोडा में पानी म‍िलाकर पेस्‍ट बनायें और उसे 20 म‍िनट के ल‍िये गांठ पर लगाकर छोड़ दें। बेक‍िंग सोडा में एंटीसेप्‍ट‍िक गुण होते हैं। इससे गांठ ठीक जाती है।  
  • 9. तुलसी और नीम का पेस्‍ट गांठ पर लगाने से भी गांठ ठीक हो जाती है। इससे भी इंफेक्‍शन ठीक हो जाता है। नीम और तुलसी के पत्‍ते पीसकर पेस्‍ट बनाकर लगा लें। 
  • 10. सेंधा नमक को गरम पानी में म‍िलाकर आधे घंटे के ल‍िये लगा लें। इससे दर्द में राहत म‍िलेगी। 

अगर स‍िस्‍ट या गांठ एक हफ्ते से ज्‍यादा समय के ल‍िये कान के पीछे बनी रहती है या तेज़ दर्द उठ रहा है तो इसे जल्‍द से जल्‍द डॉक्‍टर को द‍िखायें। 

Read more on Home Remedies in Hindi 

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK