मच्‍छर के काटने पर राहत पाने में मददगार है इन 3 तरीकों से केले के छिलके का इस्‍तेमाल

Updated at: Jun 15, 2020
मच्‍छर के काटने पर राहत पाने में मददगार है इन 3 तरीकों से केले के छिलके का इस्‍तेमाल

केले का छिलका एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होता है, जो मच्छर के काटने से होने वाले बंप्‍स और खुजली वाली स्किन को शांत कर सकता है

Sheetal Bisht
घरेलू नुस्‍खWritten by: Sheetal BishtPublished at: Mar 09, 2020

मौसम बदलते कई फ्लू और इंफेक्‍शन का खतरा भी बढ़ता है। गर्मियां आते ही मच्‍छरों का कहर भी बढ़ने लगता है, इस मौसम में मच्छर अत्यधिक सक्रिय होते हैं। गर्मियों के मौसम में मच्‍छरों का खतरे कई कई गुना बढ़ जाता है। कुछ लोगों को मच्छर और कीट के काटने की संभावना अधिक होती है। जिसमें त्वचा पर निशान, खुजली और लाल धब्बे बेहद परेशान करते हैं। यदि आप भी उन लोगों में से हैं, जिन्‍हें मच्‍छर ज्‍यादा काटते हैं और आप उनसे बचने के लिए कोई कैमिकल बेस्‍ट क्रीम का उपयोग नहीं करना चाहते हैं, तो हमारे पास आपके लिए एक प्राकृतिक उपाय है- केले का छिलका। जी हां केले का छिलका आपको मच्‍छरों से राहत दिला सकता है। आप मच्‍छरों के काटने पर केले के छिलके का उपयोग कर सकते हैं। आइए यहां हम आपको इसे इस्‍तेमाल करने के 3 तरीके बताते हैं। 

1 तरीका: केले का छिलका, गुलाब जल और बर्फ

केले के छिलके के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण, मच्‍छर के काटने के बाद होने वाली लाल गांठ को कम करने और खुजली को दूर करने में मदद करते हैं। दूसरी ओर, रोज़ वाटर में शानदार ऐसे गुण हैं, जो त्‍वचा को शांत करने में मददगार होते हैं। बर्फ आपके दर्द को कम करने में फायदेमंद है।  

इस्‍तेमाल करने का तरीका:

  • एक केले का छिलका लें, उसके रेशों को खुरच कर एक कटोरे में इकट्ठा करें।
  • छिलके के रेशों को मैश कर लें।
  • अब इस मिश्रण में गुलाब जल मिलाएं।
  • एक मोटा पेस्‍ट बना लें, आप इसे एक मास्‍क जैसा बनाने के लिए मिश्रण को ब्लेंड करें।
  • अब, इस पेस्ट को मच्छर द्वारा काटे गए क्षेत्रों पर लगाएं।
  • अब एक साफ सूती कपड़े में कुछ बर्फ के टुकड़े रखें और उसे बाँध लें।
  • इसे आप उन क्षेत्रों पर लगाएं जहां आपने पेस्ट लगाया है।
  • ऐसा हर 15 मिनट में करें।
  • अब उस जगह को साफ कर लें। 

 इसे भी पढें: छोटी-मोटी चोट, घाव और दर्द का इलाज कर सकती हैं रसोई में रखी ये 5 चीजें

home remedies for mosquito bites

2  तरीका: केले का छिलका और ग्लिसरीन

जैसा कि पहले बताया है कि केले का छिलका आपकी त्‍वचा के लिए कितना फायदेमंद है, लेकिन उसके साथ ग्लिसरीन में अद्भुत मॉइस्चराइजिंग गुण होते हैं। इन दोनों को साथ में मिलाकर यह त्‍वचा पर अद्भुत काम करते हैं। ये न केवल बंप्‍स को कम करने, बल्कि त्‍वचा को तेजी से ठीक करने में मदद करते हैं। 

इस्‍तेमाल करने का तरीका:

  • सबसे पहले एक कटोरे में, केले के छिलके के रेशों को खुरचें और उन्हें एक छोटी कटोरी में इकट्ठा करें।
  • छिलकों को अच्छी तरह से मैश करें और ब्लेंडर की मदद से गाढ़ा पेस्‍ट बना लें। 
  • मैश करने के लिए ग्लिसरीन की कुछ बूँदें जोड़ें और इसे फिर से अच्छी तरह मिलाएं।
  • अब इस पेस्ट को मच्छर के काटने और खुजली वाली जगह पर लगाएं।
  • इसे 25-30 मिनट या सूखने दें। 
  • अब, इसे ठंडे पानी से धो लें।
  • इसके बाद एक नरम कपड़े या तौलिये से त्‍वचा को साफ कर लें। 
  • अगर आपको रोज मच्‍छरों का काटना सताता है, तो आप इस पैक को रोजाना इस्‍तेमाल कर सकते हैं। 

3 तरीका: खीरे के साथ केले के छिलके का मास्क

केले का छिलका और ककड़ी मच्छर के काटने से राहत दिला सकते हैं। केले के छिलके के एंटी इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, जो खीरे के साथ मिलकर त्‍वचा को शांत करने में मदद करते हैं। यह मास्‍क आपकी त्‍वचा की खुजली, गांठ को कम करने में मदद करते है। केले के छिलके और खीरे के पैक को बनाने का तरीका यहां बताया गया है।

इस्‍तेमाल करने का तरीका:

  • एक कटोरे में, केले के छिलके के रेशों को खुरचें और उन्हें एक छोटी कटोरी में इकट्ठा करें।
  • छिलकों को अच्छी तरह से मैश करें और ब्लेंडर में मिला लें।
  • अब आप पेस्ट में खीरे को डालें और इसे एक सॉफ्ट पेस्ट बनाने के लिए फिर से ब्लेंडर में मिलाएं। 
  • इसके बाद आप इस पेस्‍ट को प्रभावित जगहों पर लगाएं और इसे 25-30 मिनट तर रखें, जब तक सूख न जाए।
  • इसके बाद इसे ठंडे पानी से धो लें और त्वचा को एक साफ तौलिया का उपयोग साफ करदें, ध्‍यान रखें रगड़ें नहीं।

Read More Article On Home Remedies In Hindi

Disclaimer

इस जानकारी की सटीकता, समयबद्धता और वास्तविकता सुनिश्चित करने का हर सम्भव प्रयास किया गया है हालांकि इसकी नैतिक जि़म्मेदारी ओन्लीमायहेल्थ डॉट कॉम की नहीं है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। हमारा उद्देश्य आपको जानकारी मुहैया कराना मात्र है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK