हृदय स्‍वास्‍थ्‍य

हृदय स्‍वास्‍थ्‍य (Heart Health)

हमरा दिल यानी कि हृदय  (Heart) हमारे शरीर के सबसे जरूरी अंगों में से एक है। दिल के सबसे जरूरी काम (function of heart in hindi)की बात करें, तो ये मानव शरीर में ब्लड सर्कुलेशन (blood circulation in heart)को सही रखता है और बाकी अंगों को तक खून के जरिए पोषण और ऑक्सीजन पहुंचाता है। ये सर्कुलेटरी सिस्टम (circulatory system) का अंग है, जिसका काम बिना रूके चलता रहता है। इसलिए दिल को स्वस्थ रखने के लिए (Healthy Heart) जरूरी है कि आप इनसे जुड़े सभी चीजों के स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। जैसे कि दिल के चार चैंबर्स (four chambers of heart) के दो आर्टिया (atria) और दो वेनट्रिकल्स (ventricles) का भी ध्यान रखें। इनमें नसों और धमनियों के एक जटिल नेटवर्क होता है, जिसके माध्यम से शरीर ब्लड को बाकी अंगों तक पहुंचाता है।  पर अगर किसी कारण से इन नसों और धमनियों में अवरोध पैदा हो जाता है, जो ये दिल से जुड़ी बीमारियों (heart disease in hindi)का कारण बनता है। 

दिल से जुड़ी बीमारियां -Heart Diseases in hindi

हृदय संबंधी रोग ऐसी स्थितियां (types of heart disease)हैं जो, आपके हृदय की संरचनाओं या कार्य को प्रभावित करती हैं, जैसे:

  • अनियमित दिल की धड़कन (Irregular Heartbeat Arrhythmia)
  • जन्मजात हृदय रोग (Congenital heart disease)
  • कोरोनरी धमनी की बीमारी (Coronary artery disease)
  • दिल का दौरा या हार्ट अटैक (Heart attack)
  • हृदय की मांसपेशी की बीमारी (cardiomyopathy)
  • दिल का वाल्व रोग (Heart valve disease)
  • डीप वेन थ्राम्बोसिस या डीवीटी (Deep vein thrombosis or DVT)
  • रुमेटिक हृदय रोग (Rheumatic heart disease)
  • हार्ट फेलियर (Heart failure)
  • पेरिकार्डिटिस (Pericardial disease)

हार्ट की बीमारी कैसे होती है-Causes Of Heart Disease in hindi

हर किसी को हृदय रोग होने का खतरा है। लेकिन कुछ लोगों को इन कारणों से दिल की बीमारियां ज्यादा होती हैं।

हाई कोलेस्ट्रॉल (high cholesterol)

हाई ब्लड प्रेशर या हाई बीपी (high bp)

मोटापा के कारण (heart disease due to obesity)

स्मोकिंग से (smoking and heart valve problems)

शारीरिक गतिविधियों में कमी (lack of physical activity)

डाइट का सही न होना (lack of balanced diet)

55 वर्ष से अधिक की महिला को (menopause and heart disease)

खराब जीवनशैली के कारण (bad lifestyle and heart disease)

तनाव (stress and heart disease)

दिल की बीमारी के लक्षण-Symptoms of heart disease in hindi

  • छाती में फड़फड़ाहट (Fluttering in your chest)
  • दिल की धड़कनों का तेज होना (heart arrhythmias)
  • धीमी गति से धड़कनों का आना (bradycardia)
  • सीने में दर्द या बेचैनी (Chest pain)
  • सांस लेने में कठिनाई (breathing problem)
  • चक्कर आना (Dizziness)
  • सिर चकराना
  • बेहोशी (Fainting)
  • पसीना आना (sweating and difficulty breathing)
  • बगल में अचानक दर्द (Armpit Pain)
  • जल्दी थक जाना (fatigue) 
  • हाथों और पैरों में पसीना आना (excessive sweating causes)

 

दिल की बीमारी से कैसे बचे- How To Prevent Heart Disease in hindi

दिल की बीमारियों से बचे रहने के लिए जरूरी है कि आप अपने जीवन में इन चीजों का ध्यान रखें। जैसे कि:

1. स्वस्थ आहार खाएं (Eat a healthy diet)

  • ज्यादा तली-भूनी चीजें न खाएं  (worst food for your heart)
  • ज्यादा नमक और चीनी न खाएं (heart-healthy foods to avoid)
  • ताजे फल, सब्जियां, और साबुत अनाज खाएं (foods for healthy heart)
  • डैश डाइट (DASH Diet) फॉलो करें।  ये हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में (how to reduce cholesterol in hindi) मदद कर सकता है, जो आपके हृदय रोग के जोखिम को कम करेगा।

2. एक्टिव लाइफ स्टाइल फॉलो करें (physical activity for heart patients)

3.अपने वजन को संतुलित करें (weight loss for heart patients)

4 धूम्रपान छोड़ें और सेकेंड हैंड स्मोक (secondhand smoke)से दूर रहें  

5. अपने कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करें (tips for healthy heart)

6.तनाव का प्रबंधन करें (stress management tips)

7.दिल की बीमारी के लिए योग (yoga for healthy heart)

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK